मनपा सीमा की फ्लड लाईन रद्द करें, सांसद धानोरकर की सीएम से मांग

चंद्रपुर. शहर में 1986 में आई भीषण बाढ़ के बाद सिंचाई विभाग ने फ्लड लाईन निर्धारित कर दी थी। इरई नदी के पश्चित परिसर को बाढ़ग्रस्त क्षेत्र घोषित कर इस परिसर में नवनिर्माण पर रोक लगा दी। नतीजा मनपा का लाखों का राजस्व डूब रहा है। इसलिए फ्लड लाईन रद्द करने की मांग सांसद बालु धानोरकर ने प्रदेश के मुख्यमंत्री उध्दव ठाकरे को भेजे पत्र में की है।

1986 में बिना पूर्व नियोजन के चंद्रपुर के इरई और गडचिरोली जिले के बांध के दरवाजे खोल देने से चंद्रपुर में भारी बाढ़ आ गई थी। इस बाढ को देखते हुए मनपा ने फ्लड लाईन निर्धारित कर दी। इस परिसर में किसी भी प्रकार के निर्माण पर पाबंदी लगा दी है।

चंद्रपुर शहर की बहुत से आबादी इरई नदी के किनारे पर बसी है। इरई बांध परिसर में अनेकों के प्लाट है। अनेक घरकुल का सपना संजोए है और कईयों को मंजूर हो चुके है। किंतु मनपा की ओर से उन्हे निर्माणकार्य की अनुमति नहीं दी जा रही है। इसके अलावा गरीबों के लिए जमीन खरीदना असंभव है।

किंतु इरई नदी के पश्चिमी दिशा फ्लड लाईन में समाविष्ट होने का कारण सामने कर मनपा निर्माण को अनुमति नहीं दे रही है। इसका खामियाजा आम लोगों को भुगतना पड़ रहा है। इसके अलावा मनपा को भी लाखों का राजस्व डूब रहा है। महज मानवीय भूल से बाढ का खामियाजा लोगों को भुगतना पडा था। इसलिए फ्लड लाईन रद्द करने की मांग सांसद धानोरकर ने मुख्यमंत्री से की है।