शहर की 101 इमारतें धोखादायक, मनपा ने भेजा नोटिस

    • मानसून में ढहने का खतरा

    चंद्रपुर. चंद्रपुर महानगर पालिका क्षेत्र में बारिश से किसी तरह की कोई अनहोनी घटना ना हो इसलिए प्रशासन ने पुरानी और जीर्ण हो चुकी शहर की इमारतों का सर्वेक्षण किया और इसमें से 101 इमारतें धोखादायक पाये जाने और यहां 70 से 75 परिवारों के रहने से मनपा ने नोटिस भेजकर तुरंत उपाययोजना करने के निर्देश दिए है.

    चंद्रपुर शहर का बड़े पैमाने पर विस्तार हुआ है. इसके साथ साथ आबादी भी बढी है. शहर में पुरानी इमारतों का हाल ही में सर्वेक्षण किया गया. बारिश में ऐसी इमारतों के ढहने की संभावना अधिक रहती है. इसे देखते हुए मनपा ने 101 इमारतों के मालिकों को नोटिस भेजा है.

    झोन क्र. 1,2,3 में मानसून पूर्व तैयारी अंतर्गत पुरानी इमारतों का सर्वेक्षण किया गया. इस दौरान झोन निहाय उपायुक्त धनंजय सरनाईक, शीतल वाकडे और विद्या पाटिल के आदेश अनुसार नोटिस जारी कर मानसून लगने से पूर्व इन इमारतों में ना रहे ऐसे निर्देश दिए गए है. बारिश पूर्व मनपा की ओर से प्रतिवर्ष इन जीर्ण इमारतों के मालिकों को नोटिस भेजा था.

    इनमें से कुछ मकान मालिकों ने नियमों का पालन कर वैकल्पिक व्यवस्था की थी. इस वर्ष भी सर्वेक्षण कर मनपा ने नोटिस जारी किया है. इस बार सौ प्रश बारिश का अंदाज व्यक्त किया जा रहा है. इसके चलते बारिश के पूर्व अन्यंत्र व्यवस्था की जाए ऐसे निर्देश दिए गए है. मनपा की ओर से नोटिस मिलने के बाद अब तक कुछ भी कदम नहीं उठाये गए है. इसके चलते भविष्य में बड़ी दुर्घटना की संभावना से इंकार नहीं किया जा सकता है.

    लॉकडाऊन के कारण आर्थिक संकट

    इन इमारतों में रहनेवाले परिवार सर्वसामान्य परिवार है. पिछले दो माह से लॉकडाऊन लगा होने से इनका रोजगार छीन गया है इसके चलते इन पर आर्थिक संकट आ गया है. इसमें और बारिश में दूसरी ओर किराये का मकान लेकर रहना इसके लिए उनके पास पैसा नहीं है. नोटिस मिलने के बाद भी नागरिक घर छोड़कर जाने को तैयार नहीं है. ऐसे में मनपा के समक्ष में असमंजस्य की स्थिति निर्माण हो गई है.