जिले में किसानों के समर्थन में बंद रहा सफल, जगह जगह हुए विरोध प्रदर्शन

  • जीवनावश्यक सेवाएं छोड़ सभी रहे बंद

चंद्रपुर. कृषि सुधार के नाम पर केन्द्र सरकार द्वारा जबरन थोपे जा रहे तीन कृषि विधेयकों को वापिस लेने की मांग पर अडे किसानों द्वारा बुलाये गए भारत बंद का असर जिले में देखने को मिला. भाजपा व्यतिरिक्त लगभग सभी राजनीतिक दलों तथा विभिन्न संगठन बंद के समर्थन में शहर की सड़कों पर उतर आये.राज्य के सत्तारूढ महाविकास आघाडी के तीनों प्रमुख घटक दल, कांग्रेस, राष्ट्रवादी कांग्रेस तथा शिवसेना समेत अन्य राजनीति दलों और सामाजिक संगठन बंद में शामिल रहे. जीवनावश्यक सेवाओं को छोड़कर बंद पूरी तरह से सफल रहा. बंद के दौरान जगह जगह प्रदर्शन भी हुए. व्यापारियों ने स्वैच्छा से अपने प्रतिष्ठान बंद रखे. वहीं राज्य परिवहन की बसेस, निजी ट्रान्सपोर्ट, पेट्रोल पंप, मेडिकल, अस्पताल, स्कूल, कालेज आदि शुरू रहे. बंद के दौरान कही से भी किसी तरह की अनहोनी घटना का समाचार नहीं है. बंद पूरी तरह से शांतिपूर्ण तरीके से सफल रहा.

किसानों के समर्थन में बल्लारपुर शतप्रतिशत बंद

राज्य के सत्तारूढ महाविकास आघाडी के तीनों प्रमुख घटक दल, कांग्रेस, राष्ट्रवादी कांग्रेस तथा शिवसेना के पदाधिकारी तथा प्रमुख कार्यकर्ता सुबह 9 बजे से ही न.प. चौक पर इकठ्ठा होने शुरू हो गए. पश्चात दुपहिया वाहनों से नगर के सभी मार्गों पर घुमककर व्यापारिक प्रतिष्ठानों को बंद कराया गया. बल्लारपुर के साथ ही समीपस्थ बामणी ग्राम में भी बंद को सफल बनाया गया. सफलतार्थ कांग्रेस के अब्दुल करीम, घनश्याम मूलचंदानी, छाया मडावी, दिलीप माकोडे, नरेश मूंदड़ा, देवेंद्र आर्य, अफसाना सैय्यद, शिवसेना के सिक्की यादव, बबलू पाठक, बाबा साहू, युसुफ शेख, राकां के बादल उराडे, शहजादी बानो, गोलू उराडे सहित महाविकास आघाडी के दौलत बुंदेल, सतीश करमनकर, प्रवीण कुमार, राजू बहुरिया, चिकू बजगोती, डेविड काम्पेल्ली, मेहमूद पठान, शेख फारूख, कमलेश बुग्गावार, छाया शेंडे आदि कार्यरत रहे.

कांग्रेस के पुगलिया गुट के कार्यकर्ताओं ने भी बंद को सफल बनाने के लिए बाईक रैली निकाली. तारासिंह कलसी के नेतृत्व में सी.के. नायर, सचिन जाधव, चेतन गेडाम, पवन मेश्राम, अमित पाझारे, शोभा महतो, अक्कूबाई भुक्या, महेश सदाला, रामेंद्र सिंह बाबा, दिलदार जयकर, महेश सदाला आदि ने मेहनत की.

उलगुलान संगठन ने राजू झोडे के नेतृत्व में संगठन के कार्यकर्ताओं ने न.प. चौक पर किसानों के समर्थन में घोषणाबाजी की. वही आम आदमी पार्टी के कार्यकर्ता रवि पुप्पलवार, आसिफ शेख के नेतृत्व में दुपहिया वाहन पर रैली निकालकर समर्थन घोषित किया गया.

कृउबास के सामने कांग्रेस का प्रदर्शन

चंद्रपुर.महाराष्ट्र प्रदेश युवक कांग्रेस ने भारत बंद का समर्थन किया.  कृषि उत्पन्न बाजार समिति में लोगों से भारत बंद के मौके पर मार्केट बंद करने कि अपील की.जिसके चलते आज कृषि उत्पन्न बाजार बाजार समिति के सब्जी भाजी फल और धान के व्यापारियों ने  किसानो के हित में बंद का समर्थन दिया.

महाराष्ट्र प्रदेशाध्यक्ष बालासाहब थोरात महाराष्ट्र प्रदेश युवक काँग्रेस अध्यक्ष सत्यजित दादा तांबे , जिले के पालकमंत्री विजय वडेट्टीवार, सांसद बालू धानोरकर, चंद्रपुर जिला शहर कांग्रेस कमेटी के अध्यक्ष रामु तिवारी के मार्गदर्शन में युवक कांग्रेस महाराष्ट्र प्रदेश सचिव मोहम्मद कादर शेख के नेतृत्व में कृषि उत्पन्न बाजार समिति में आंदोलन किया गया. किसान विरोधी काला कानून वापस लेने का नारा लगाया गया.

इस आंदोलन में युवक कांग्रेस चंद्रपुर विधानसभा महासचिव मोनु रामटेके, चंद्रपुर विधानसभा महासचिव वैभव रघाताटे,फ्रुट असोसिएशन अध्यक्ष कलीम भाई, नसीर भाई, ताहेर अली भाई, रियाज भाई, शकील भाई, गुड्डू भाई, जाकीर भाई, मुक्तार भाई,  जफर भाई, प्रशांत भाऊ, छोटू भाई, प्रतीक दुबे, सुरेश तलांडे, समीर शेख, नाजिम शेख, हजरत व आदि उपस्थित थे .

नागपुर-चंद्रपुर महामार्ग पर प्रदर्शन एवं रास्ता जाम

राष्ट्रीय ओबीसी महासंघ का आंदोलन

चंद्रपुर. केन्द्र सरकार के कृषि संबंधित तीनों कानून पारित किए गए है. इसके विरोध में देश के विभिन्न संगठनों की ओर से आज भारत बंद को राष्ट्रीय ओबीसी महासंघ की ओर से समर्थन दिया गया. किसान विरोधी कानून के निषेध कर स्थानीय जनता कालेज चौक में सुबह 11बजे प्रदर्शन किया गया. और घोषणा दी. इस समय आंदोलकों ने कुछ समय के लिए रास्ता जाम किया.

राष्ट्रीय ओबीसी महासंघ के राष्ट्रीय समन्वयक डा. अशोक जीवतोडे ने कहा कि कृषि प्रधान देश में किसान विरोधी कानून नहीं बनने की मांग को लेकर राष्ट्रीय कृषि कानून के खिलाफ देश भर में आंदोलन हो रहे है किसानों की भावनाओं का आदर कर किसान विरोधी कानूनों को सरकार को रद्द करना होगा.

इस आंदोलन में राष्ट्रीय ओबीसी महासंघ के राष्ट्रीय अध्यक्ष डा. बबनराव तायवाडे, राष्ट्रीय समन्वयक डा. अशोक जिवतोडे, महासचिव सचिन राजुरकर, बबनराव फंड, बबनराव वानखेडे, के मार्गदर्शन में जिलाध्यक्ष नितिन कुकडे, सचिव विजय मालेकर, कार्याध्यक्ष बबन राजुरकर, डॉ. संजय बरडे, संजय सपाटे, आल्हाद बहादे, रविकांत वरारकर, मंगेश पाचभाई, जिल्हा महिला अध्यक्षा सौ. जोत्स्ना राजुरकर, सौ. विदया शिंदे, सौ. मन्जुला डुडुरे, राहुल ठाकूर, जितेंद्र बुचे, सचिन थिपे, प्रकाश गाठे आदि पदाधिकारी एवं कार्यकर्ता आंदोलन में बड़ी संख्या में शामिल हुए.

घुगघुस में शतप्रतिशत बंद

चंद्रपुर. घुग्घुस कांग्रेस, जिला किसान कांग्रेस, अनुसूचित जाति सेल, युवक कांग्रेस की ओर से बंद को सफल बनाया गया. व्यापारियों और नागरिकों ने व्यापक समर्थन दिया. सुबह से व्यापारिक प्रतिष्ठान बंद रखे गए थे. सुबह दुपहिया रैली निकालकर कांग्रेस पदाधिकारियों एवं कार्यकर्ताओं ने बंद रखने की अपील की. इस बीच पुलिस का चुस्त बंदोबस्त रखा गया था.

बंद को सफल बनाने में घुग्घुस शहर अध्यक्ष राजू रेड्डी, किसान सेल के जिलाध्यक्ष रोशन पचारे,एसी सेल के जिलाध्यक्ष पवन आगदारी, सैय्यद अनवर, युवक उपाध्यक्ष सिनू गुडला, शहजाद शेख, कल्याण सोदारी, बापूजी क्षीरसागर, प्रेमानंद जोगी, योगेश ठाकरे, अंकुश सपाटे, रंजित राखूनडे, देवानंद ठाकरे, सुधाकर जुनारकर, दीपक पेंदोर, सुनील पाटील, बडी संख्या में पदाधिकारी कार्यकर्ता शामिल हुए.

कोरपना, जिवती तहसील में शतप्रतिशत बंद

गडचांदूर. किसान बहुल क्षेत्र कोरपना, जिवती तहसील में किसान आंदोलन के समर्थन में व्यापक बंद रहा. गडचांदूर शहर में भाजपा समर्थक दुकानदारों को छोडकर अन्य सभी दुकानदारों ने स्वैच्छा से अपनी दुकानें बंद रखी. 

कोरपना शहर में शत प्रतिशत बंद सफल रहा. यहां सुबह से ही दुकानें, प्रतिष्ठान बंद रहे. केवल जीवनावश्यक वस्तूओं की दुकानें और सेवाएं ही शुरू थी. जिवती के पाटन में निषेध सभा लेकर किसानों ने सरकार की किसान विरोधी नीतियों की आलोचना की.जिवती के शेणगांव में बंद शतप्रतिशत सफल रहा. 

जमाअत ए इस्लामी हिंद ने दिया धरना

चंद्रपुर. किसान आंदोलन के समर्थन में जमाअत ए इस्लामी हिंद चंद्रपुर की ओर से यहां धरना आंदोलन कर बंद को सफल बनाया गया. जमात ए इस्लामी महाराष्ट्र के अध्यक्ष रिजवाननूर रहमान खान के निर्देश पर यह धरना आंदोलन किया गया. संगठन का कहना है कि इस कानून के कारण केवल पंजाब एवं हरियाना के ही नहीं देश भर के सभी किसानों के मन में डर निर्माण हो गया है देश के लगभग सभी किसान संगठनों ने इस कानूनों को रद्द करने की मांग की है. 

अमन पसंद कमेटी का प्रधानमंत्री को ज्ञापन

बल्लारपुर. आज 8 दिसंबर को अमन पसंद कमेटी, बल्लारपुर ने किसानों के हो रहे आंदोलन के समर्थन में केंद्र सरकार को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के ज्ञापन प्रेषित किया. निवेदन में अमन पसंद कमेटी के द्वारा यह मांग की गई कि किसान जिन मुद्दों को लेकर दिल्ली में आंदोलन कर रहे हैं उन मुद्दों को पूरा किया जाए और 2020 के कृषि कानून को वापस लिया जाए और किसानों को राहत दी जाए निवेदन देते समय अमन पसंद कमेटी, बल्लारपूर के सचिव ताहिर हुसैन, सह सचिव सैयद अजीज, श्रीकांत सुंदरगिरी, साजिद भाई, काशीनाथ भाई, अजीम भाई और सोशल मीडिया प्रमुख आफताब पठान उपस्थित थे.

कृउबास का भी प्रदर्शन

चंद्रपुर. नये कृषि कानूनों के चलते कृषि उत्पन्न बाजार समितियों की स्थिति पर इसका असर होने से चंद्रपुर कृषि उत्पन्न बाजार समिति कीओर से जिला उपविभागीय अधिकारी को ज्ञापन सौपकर कृषिमंत्री, मुख्यमंत्री, उपमुख्यमंत्री, सहकार एवं पणन मंत्री को निवेदन प्रेषित किया गया एवं सरकार के काले कानूनों के खिलाफ प्रदर्शन किया गया.

इस समय बाजार समिति के सभापति दिनेश चोखारे, संचालक विजय टोंगे, अरविंद चवरे, योगेश्वर बोंबडे, निरज बोंडे, प्रभाकर सिडाम, ओ.बी.सी. संगठन के नेता सचिन राजुरकर, गणेश आवारी, हितेश लोढे, चंदू माथने समेत बड़ी संख्या में किसान उपस्थित थे.

राजुरा में मिला उत्स्फूर्त समर्थन

राजुरा. केन्द्र सरकार द्वारा मंजूर विवादित तीनों कृषि कानून वापस ले इसके लिए दिल्ली में सम्पूर्ण देश के किसानों द्वारा जारी आंदोलन के समर्थन में पुकारे गए भारत बंद को आज राजुरा में उत्स्फूर्त प्रतिसाद मिला.

राजुरा शहर और तहसील के अनेक व्यापारी केन्द्र बंद थे. राजुरा में महाविकास आघाडी के घटक दल कांग्रेस, राष्ट्रवादी कांग्रेस और शिवसेना की ओर से बंद का ऐलान किया. कार्यकर्ताओं ने शहर में घुमकर व्यापारियों को बंद रखने का आहवान किया जिसे उत्स्फूर्त प्रतिसाद मिला.

पंचायत समिति चौक और परिसर में बाईक रैली निकाली गई. किसान समर्थन में नारेबाजी की गई. अत्यावश्यक सेवा छोड़कर अन्य व्यापारी प्रतिष्ठान बंद रखे गए थे.

इस समय कांग्रेस के राजुरा पंचायत समिति के उपसभापति मंगेश गुरनुले,राजुरा विधानसभा युवक कांग्रेस के अध्यक्ष एजाज अहमद, कवडू सातपुते, विकास देवालकर,धनराज चिंचोलकर, लहु चहारे, भाऊराव आकनुरवार, प्रा.प्रफुल्ल शेंडे, सैय्यद साबिर, शाहनवाज कुरैशी, आकाश मावलीकर, राष्ट्रवादी कांग्रेस के तहसील अध्यक्ष संतोष देरकर, युवक राष्ट्रवादी कांग्रेस के अध्यक्ष आसिफ सैय्यद, शहराध्यक्ष आाशिष येमनुरवार, राष्ट्रवादी अल्पसंख्यक जिलाध्यक्ष मेहमुद मुसा, स्वप्नील बाजुजवार, अंकुश भोंगले, संदीप भोगला, रतिफ भाई, बलवंत ठाकरे, सुजीत कावडे, राजू गदगाल समेत अनेक कार्यकर्ता  उपथित थे.

ब्रम्हपुरी में बंद शतप्रतिशत सफल

ब्रम्हपुरी. केन्द्र सरकार के किसान विरोधी कानून के खिलाफ किसान बिल 2020 रद्द किया जाए एवं दिल्ली में आंदोलन कर रहे किसानों पर केन्द्र सरकार के अमानवीय अत्याचार के खिलाफ ब्रम्हपुरी तहसील में बंद शतप्रतिशत सफल रहा. सर्वदलीय बंद को व्यापारियों ने अपना समर्थन दिया. स्कूल, कालेज, दुकानें, बसेस सभी बंद रखे गए थे.

शिवाजी चौक ब्रम्हपुरी में धरना दिया गया. सरकार के खिलाफ घोषणाबाजी की गई. किसान विरोधी कानून के बारे में जनजागृति कार्यकम लिया गया. सभी मिलाकर किसान विरोधी कानून केन्द्र सरकार के दमनशाही के नीतियों के संदर्भ में एवं कानून रद्द करने के बारे में तहसीलदार विजय पवार को निवेदन दिया गया. इस समय सभी दलों के राष्ट्रीय कार्यकर्ता एवं बड़ी संख्या में नागरिक उपस्थित थे.

सुबह 9 बजे शहर के मुख्य मार्गों से टूव्हीलर रैली निकालकर शिवाजी चौक में प्रदर्शन एवं धरना आंदोलन कर केन्द्र सरकार का निषे कर उपविभागीय कार्यालय मार्फत राष्ट्रपति एवं प्रधानमंत्री के नाम निवेदन दिया गया. जिसमें किसान विरोधी तीनों विधेयक वापस लेने की मांग की गई.

आंदोलन में विनोद झोडगे, प्रभाकर सेलोकर, डा. देवेश कांबले, विलास विखार, एड. गोविंदराव भेंडारकर, डा. राजेश कांबले, प्रमोद चिमूरकर, प्रशांत डांगे, मोंटू पिलारे, डा. प्रेमलाल मेश्राम, नरू नरड, सुखदेव प्रधान, सुदाम राठोड, अविनाश राऊत, अमृत नकाते, एड. हेमंत उरकुडे, हितेंद्र राऊत, थानेश्वर कायलकर, प्रभू लोखंडे, प्रा. श्याम करंबे, आशिष गांदलेवार, प्रज्वल वाघमारे, मनोज वझाडे, डा. जयप्रकाश धोंगडे, राजेश माटे, भिमराव वंजारी, अमोल सुकारे,उमेश धोटे, मोहन बागडे, सोमेश्वर उपासे, मोनू हजारे, आदेश मालोदे, किशोर राऊत, अनंत मेश्राम, नानाजी तुपट, काशीनाथ खरकाडे, नरेंद्र गाडगीलवार, वामन मिसार, संदीप श्रीवास्तव, अनुप मोटघरे, किशोर प्रधान, भागवत भर्रे, बालू पिलारे आदि शामिल थे.

कांग्रेस व राकां ने निकाली पदयात्रा

रायुकां ने निकाली बाईक रैली 

किसानों के भारत बंद आंदोलन को समर्थन देते हुए जिले के कांग्रेस व राष्ट्रवादी कांग्रेस ने मंगलवार की सुबह 11 बजे प्रियदर्शिनी चौक_जटपुरा गेट_प्रियदर्शनी चौक तक पदयात्रा निकाली. जटपुरा गेट के पास कांग्रेस जिलाध्यक्ष प्रकाश देवतले द्वारा राष्ट्रपिता महात्मा गांधी के पुतले पर माल्यार्पण किया गया. दौरान शहर के मुख्य मार्ग से रायुकां की ओर से बाईक रैली निकाली गई. 

केंद्र सरकार के खिलाफ नारेबाजी 

आंदोलन में भाजपा हटाओ देश बचाओ, भाजपा हटाओ लोकतंत्र बचाओ, तानाशाही बंद करो केंद्र सरकार, किसानों की सम्मान में महाआघाडी सरकार मैदान में, किसानों का दुश्मन है मोदी सरकार चोर है की जोरदार नारेबाजी की गई. कांग्रेस जिलाध्यक्ष प्रकाश देवतले ने किसानों के लिए अन्यायकारक तीन कानुनों को रद्द करने की मांग को लेकर यह आंदोलन किए जाने की जानकारी दी. तत्पश्चात जिलाधिश कार्यालय पहुचकर जिलाधिश के माध्यम से राष्ट्रपति व प्रधानमंत्री को मांगो का ज्ञापन भेजा गया.

आंदोलन में सहभागी

आंदोलन में महाविकास आघाडी के कांग्रेस जिलाध्यक्ष प्रकाश देवतले, शहर अध्यक्ष रामू तिवारी, राकां जिलाध्यक्ष राजेंद्र वैद्य, राकां शहर जिलाध्यक्ष राजीव कक्कड, सुभाष गौर, नंदु नागरकर, प्रदेश प्रतिनिधि सुनिता लोढिया, चित्रा डांगे, सुमित चंदनखेडे, बेबी उईके, निलेश बेलखेडे, दिपक जैस्वाल, इंटक शंकर खत्री, रायुकां जिलाध्यक्ष नितीन भटारकर, रूचित दवे, राजु रेड्डी, 

शिवसेना की बाईक रैली

किसानों के भारत बंद आंदेालन को समर्थन देते हुए शहर के मुख्य मार्ग से शिवसेना जिलाप्रमुख संदिप गिरे के नेतृत्व में बाईक रैली निकाली गई. रैली के दौरान मोदी सरकार के खिलाफ जोरदार नारेबाजी की गई. रैली में प्रमोद पाटील, संतोष नरूले, निलेश बेलखेडे, राहुल विरूटकर, सुरेश नायर, अशोक चिलखरे, नितीन राय, श्रीकांत करडभाजे, युवासेना अध्यक्ष अंबिरवार, सुमीत अग्रवाल, कुसूम उदार, विद्या ठाकरे आदि सहभागी हुए थे. 

इंटक ने निकाला मोर्चा 

भारत बंद के सहयोग में इंटक नेता के के सिंह के नेतृत्व में जटपुरा गेट से पैदल मोर्चा निकाला गया. जो कस्तुरबा मार्ग होते हुवें आजाद बागीचा के पास से मुड़कर मेन रोड होते हुए पुनःजटपुरा गेट पहुचकर समाप्त की गई. मोर्चा में विनोद दत्तात्रय, राजेश सिंह, सुनिल पाटील, मजदुर नेता एल एम भुल्लर, अविनाश लांजेवार, मनोज मटकुलवार, श्रीकांत आरेवार, के डी अहेर, प्रमोद बोरीकर, रवि धात्रक, खामकर आदि सहभागी थे. 

पुलिस का तगडा बंदोंबस्त 

भारत बंद के आंदोलन में कोई अप्रिय अनहोनी ना होने के उद्देश से संपूर्ण चंद्रपुर में पुलिस का तगडा बंदोबस्त लगाया गया था. शहर के हर चौक में पुलिस कर्मचारी तैनात किए थे. 

सिंदेवाही में बंद को संमिश्र प्रतिसाद 

किसानों के भारतबंद को सिंदेवाही तहसील में संमिश्र प्रतिसाद रहा. सिंदेवाही तहसील में बंद को तहसील के सभी पार्टी के प्रमुखों ने समर्थन घोषित किया था. किसान खेतमजदुर महासंघ के अध्यक्ष रघुनाथ शेंडे, पूर्व पंस सभापति अरविंद जैस्वाल, कांग्रेस नेता अरूण कोलते, कांग्रेस तहसील अध्यक्ष रमाकांत लोधे, सुनिल उट्टलवार, युवक कांग्रेस अध्यक्ष मयुर सुचक, सीमा सहारे, नगराध्यक्षा आशा गंडाते, देवेंद्र मंडलवार, सुदाम खोब्रागडे, मनोहर पवार के शिवाजी चोक में शांती से आंदोलन कर केंद्र सरकार के खिलाफ नारेबाजी की गई. तत्पश्चात तहसीलदार के माध्यम से राष्ट्रपति, प्रधानमंत्री को मांगो का ज्ञापन सौपा गया. मांगे मंजुर नही होने पर तिव्र आंदोलन का इशारा दिया गया. दौरान कुछ प्रतिष्ठान खुली रखी थी. 

तिन काले विधेयक त्वरित पिछे ले_ प्रविण खोब्रागडे

अखिल भारतीय रिपब्लिकन पार्टी की ओर से किसानों के भारत बंद को सडकों पर उतरकर समर्थन दिया गया. तत्पश्चात निवासी जिलाधीश के माध्यम से राष्ट्रपती व प्रधानमंत्री को मांगो का ज्ञापन सौपा गया. इस समय पार्टी अध्यक्ष प्रवीण हेमचंद्र खोब्रागडे, अशोक निमगडे, प्रतीक डोरलीकर, प्रेमदास बोरकर, राजेश रंगारी आदि उपस्थित थे. 

मूल में शतप्रतिशत बंद 

किसानों के भारत बंद आंदोलन में मूल तहसील के महाविकास आघाडी समेत कई भाजपा के अलावा अन्य पार्टीयों के राजनितिक नेताओं ने समर्थन दिया. मंगलवार को आयेाजित बंद शत प्रतिशत सफल रहा. सीडीसीसी बैंक के अध्यक्ष संतोष रावत के नेतृत्व में सुबह 6 बजे से मूल का बाजार, राईस मिल, किराणा, कपडा, चायटपरी सभी व्यापारी दुकाने बंद थी. बाजार से सैकडों कार्यकर्ताओं ने पैदल मार्च व बाईक रैली निकालकर बंद केा सफल किया. केंद्र सरकार के खिलाफ नारेबाजी की गई. आंदोलन में तहससील कांग्रेस कमेटी के अध्यक्ष व कृषी उपज बाजार समिति के सभापति घनश्याम येनूरकर, संचालक व भेजगाव ग्राम पंचायत के सरपंच अखिल गागरेड्डीवार, संचालक राकेश रत्नावार, उपसभापति संदीप कारमवार, राकां तहसील अध्यक्ष गंगाधर कुणघडकर, शिवसेना तहसील अध्यक्ष नितीन ऐरोजवार, अखिल भारतीय महात्मा फुले समता परिषद के अध्यक्ष प्रा. विजय लोनबले, आम आदमी पार्टी के अध्यक्ष अमित राऊत, ओबीसी आंदोलन मंगेश पोटवार, युवराज चावरे, किसान सेल के रुमदेव गोहणे, पार्षद विनोद माझी आदि उपस्थित थे. 

भारत बंद को वरोरा में भारी प्रतिसाद  

भारत बंद के आंदोलन में वरोरा काँग्रेस, राष्ट्रवादी काँग्रेस, शिवसेना ने  समर्थन घोषित किया. आंदोलन लेकर महाराष्ट्र नवनिर्माण सेना ने अपनी भूमिका टटस्थ रखी थी. इस किसान आंदोलन के समर्थन को लेकर वरोरा में दोपहर 3 बजे तक शत प्रतिशत सारी दुकाने बंद रही. शहर में लगभग सभी चौक पर तगडा पुलीस बंदोबस्त था. बंदोबस्त में उपविभागीय पोलीस अधिकारी डा. निलेश पांडे, पुलीस थाणेदार दीपक खोब्रागडे, एपीआय चवरे, किटे, विद्या जाधव, पीएसआय बेलसरे समेत चंद्रपुर के 2 पुलिस अधिकारी व 60 पुलीस कर्मी बंदोबस्त में लगे हुवे थे. भारत बंद किसान आंदोलन शांतता तरिके से हुवा.