कांग्रेस ने किया ईंधन मूल्यवृध्दि के खिलाफ धरना आंदोलन

मूल. देश में पेट्रोल, डीजल की कीमतों में की गई बेतहाशा वृध्दि से वाहन धारकों के साथ आम नागरिकों पर अन्याय हो रहा है. इसलिए की गई ईंधन मूल्यवृध्दि वापिस लेने की मांग तहसील कांग्रेस कार्यकर्ताओं ने धरना आंदोलन के माध्यम से की है.

उपविभागीय अधिकारी के माध्यम से देश के राष्ट्रपति को प्रेषित निवेदन में कहा कि केंद्र सरकार पेट्रोल और डीजल मूल्यवृध्दि को कम करने में पूरी तरह से विफल रही है. कोरोना संक्रमण की वजह से किए गए लाकडाउन काल में समाज का हर घटक संकट में फंसा है. ऐसी संकट की स्थिति में बार बार की जा रही पेट्रोल, डीजल मूल्यवृध्दि का खामियाजा अप्रत्यक्ष रुप से आम नागरिकों को भुगतना पड रहा है. इसलिए की गई ईंधन मूल्य वृध्दि वापिस लेने की मांग की है. मांग पूरी न होने पर सडकों पर उतरकर केंद्र सरकार के खिलाफ प्रदर्शन की चेतावनी दी है.

पूर्व जिप अध्यक्ष संतोषसिंह रावत के नेतृत्व में आज तहसील के कांग्रेसियों ने सामाजिक दूरी बनाकर तहसील कार्यालय के सामने धरना आंदोलन कर प्रभारी एसडीओ डी.जी. जाधव को निवेदन सौंपा. इस अवसर पर तहसील अध्यक्ष घनश्याम येनुरकर, जिला महासचिव संजय मारकवार, राकेश रत्नावार, दीपक वाढई, महिला तहसील अध्यक्ष रुपाली संतोषवार, युकां तहसील अध्यक्ष पवन निलमवार, शहर अध्यक्ष व्यंकटेश पुल्लाकवार, एनएसयूआई के अध्यक्ष विवेक मुत्यलवार, किसान आघाडी के तहसील अध्यक्ष रुमदेव गोहणे, पार्षद विनोद कामडे, ललिता फुलझेले, बाजार समिति के उपसभापति संदीप कारमवार, संचालक अखिल गांगरेड्डीवार, डा. पदमाकर लेनगुरे, पुरुषोत्तम भुरसे, कैलाश चलाख, जालिंदर बांगरे, साईनाथ मंडलवार, बबन कडस्कर आदि उपस्थित थे.