नहर के पुल पर निर्मित गड्ढा दे रहा है दुर्घटनाओं को आमंत्रण

  • निर्माणकार्य में धांधली बरतने का असर
  • कई छिटपुट घटनाएं

चंद्रपुर. ब्रम्हपुरी तहसील के तोरगांव से टेकडी मार्ग पर नहर पर बने पुल किसी भर तरह की संरक्षक दीवार नहीं होने नहर की मिटटी खिसककर गड्ढे जैसी स्थिति निर्माण हो गई है. इसमें महीना भर पूर्व टेकडी में साईकिल से जाते हुए एक व्यक्ति को गड्ढे का अंदाज नहीं होने से इसमें गिरकर उसकी मौत हो गई थी. इसके बाद भी मात्र प्रशासन ने इसकी दखल नहीं लिए जाने से यहां भविष्य में बड़ी दुर्घटना होने की संभावना है.

तोरगांव से टेकडी मार्ग नागभीड़ शहर को जोड़नेवाला मार्ग है. इसके चलते इस मार्ग पर वाहनों की हमेशा रेलचेल रहती है. इसी रास्ते को पार कर गोसेखुर्द प्रकल्प के दायी नहर जाने से इस पर उंचा पुल बनाया गया है. मात्र ठेकेदार द्वारा इस काम में बरती गई कोताही के चलते पिछले कुछ दिनों से पुल पर मिटटी खिसककर गड्ढा निर्माण हो गया है. वर्तमान में बारिश की शुरूआत होने से स्थिति और भी भयावह हो गई है. बारिश में गड्ढे का अंदाज नहीं होने से यहां दुर्घटना का खतरा बढ गया है.

हाल ही में टेकडी के निवासी गजानन रामटेके को गड्ढे का अंदाज नहीं होने से उसकी नहर में गिरने से मौत हो गई थी. जबकि तोरगांव के वासुदेव वलथरे गंभीर रूप से घायल हो गया था. एक चौपहिया वाहन भी दुर्घटनाग्रस्त हो चुका है. आये दिन हो रहे हादसों को देख इस गड्ढे को बुझाने की मांग पूर्व उपसरपंच सुधीर शिऊरकार, आत्मनिर्भर संस्था के निलेश राऊत, जयपाल खरकाटे, आतिश सूर्यवंशी, मंगेश राऊत, विनोद बुल्ले, अमित राऊत ने की है.