Corona special train disappeared from Ballarshah station

आज जिले में कोरोना बाधितों की संख्या 7 हजार से अधिक और मृतकों की संख्या 100 के पार हो गई और हास्पिटल में बेड की कमी पड रही ऐसे समय के लिए यह विशेष ट्रेन थी किंतु इन दिनों यह ट्रेन स्टेशन से गायब हो गई है।

  • जिले में तेजी से बढ़ रही कोरोना बाधित और मृतकों की संख्या

बल्लारपुर. कोरोना वायरस का संक्रमण बढने पर हास्पिटल में बेड की कमी की संभावना को देखते हुए कोरोना बाधितों को आइसोलेशन में मदद के लिए आधुनिक सुविधा से लैस 18 कोच वाली विशेष ट्रेन लाकडाउन के समय पर बल्लारशाह रेलवे स्टेशन के प्लेटफार्म क्रं. 1 पर खडी थी। इस ट्रेन की संरचना से लेकर प्लेटफार्म पर आने के बाद इसे जमकर प्रचारित और प्रसारित किया गया। आज जिले में कोरोना बाधितों की संख्या 7 हजार से अधिक और मृतकों की संख्या 100 के पार हो गई और हास्पिटल में बेड की कमी पड रही ऐसे समय के लिए यह विशेष ट्रेन थी किंतु इन दिनों यह ट्रेन स्टेशन से गायब हो गई है।

18 बोगियों वाली विशेष इंस्ट्टीयूशनल क्वारंटाइन ट्रेन प्लेटफार्म क्रं. 1 पर खडी थी जिसके 12 बोगियों में इंस्ट्टीयूशनल क्वारंटाइन के लिए लोगों को रखा जाने वाला था। कोविड 19 के बढते प्रकोप को देखते हुए रेलवे विभाग ने अग्रिम तैयारी की थी। किंतु जिस समय पर इस ट्रेन की जिले के कोरोना बाधितों को आवश्यकता है इस ट्रेन का पता नहीं है।

मध्य रेवले की ओर से कोरोना की स्थिति अनियंत्रित होने पर भारतीय रेल के माध्यम से चंद्रपुर और बल्लारशाह रेलवे स्टेशन पर कोरोना बाधितों के उपचार, क्वारंटाइन की सुविधा उपलब्ध कराने के उद्देश्य से मध्य रेल नागपुर की ओर से आधुनिक सुविधा युक्त यह ट्रेन बल्लारशाह में उपलब्ध करायी गई थी। जब तक कोरोना नियंत्रित नहीं हो जाता यह ट्रेन बल्लारशाह स्टेशन पर खडी रहने वाली थी। जिले में कोरोना बाधितों की संख्या को देखते हुए स्वास्थ्य विभाग के माथे पर बल पड गया है। प्रशासन को निजी हास्पिटलों से कोविड सेंटर के रुप में सेवा लेनी पड रही है। जब वास्तव में इस ट्रेन की आवश्यकता है तो वह गायब है।