चंद्रपुर जिले में सादगी से मनाया जाएगा दशहरा

चंद्रपुर. सत्य पर असत्य की जीत के रुप में प्रतिवर्ष मनाया जाने वाले दशहरा पर्व पर इस वर्ष कोरोना का संकट छाया है। प्रशासन के आदेशानुकसार गणेशोत्सव, दुर्गोतसव की भांति अब दशहरे पर रावण दहन का कार्यक्रम रद्द हो गया है। इसलिए जिले भर में दशहरा सादगी से मनाया जाएगा। इस दोरान मास्क और सोशल डिस्टन्सिंग पालन की अपील प्रशासन ने की है।

दहशरा पर चंद्रपुर के माता महाकाली मैदान पर रावण दहन आयोजित समिति की ओर से रावण दहन होता है। यहां का रावण दहन जिले भर में प्रसिध्द होने से भारी संख्यामें नागरिक यहां आते है। किंतु इस वर्ष भीड इकट्ठा पर पाबंदी होने से रावण दहन नहीं होगा। रावण के साथ कुंभकर्ण, इंद्रजीत के पुतलों का निर्माण किया जाता है। बांस के ढांचे के भीतर तनस, कपास, पटाके भरकर उसके उपर कपडा लपेटकर पुतलों का दहन किया जाता है। किंतु इस वर्ष यह नहीं होगा। इसके अलाव जिले भर में रावण दहन होता है बल्लारपुर कालरी मैदान पर शहर का सबसे बडा रावण होता है। जिले के प्रमुख रावण दहन मैदानों पर होने वाला रावण दहन इस वर्ष रद्द कर दिया है।

प्रशासन के आदेश का होगा-लहामगे

रावण दहन आयोजन के अध्यक्ष संतोष लहामगे ने बताया कि, वर्ष 1958 से मुख्य रावण दहन किया जा रहा है। परंतु इस बार कोरोना के चलते तथा प्रशासकीय आदेश पर अंमल करते हुए यह कार्यक्रम रद्द कर दिया है। इसलिए सभी से घरों में सुरक्षित रहने की अपील की है।