शिक्षणाधिकारी विभाग का छत ढहा, बाल बाल बचे कर्मचारी

  • सामान हुआ क्षतिग्रस्त

ब्रम्हपुरी. ब्रम्हपुरी पंचायत समिति के शिक्षण विभाग की इमारत काफी प्राचीन समय की है जिसके चलते काफी जीर्ण हो चुकी है. लोकनिर्माण विभाग द्वारा इस ओर ध्यान नहीं दिए जाने से शिक्षणाधिकारी के विभाग का छत ढह गया जिससे वहां कार्यरत गटशिक्षणाधिकारी, कर्मचारी बाल बाल बचे. यहा हादसा गुरूवार की शाम 4 बजे हुआ है. छत ढहने से कार्यालय का सामान पूरी तरह से क्षतिग्रस्त हो गया.

कई वर्षों पूर्व निर्मित की गई शिक्षण विभाग की इस इमारत में जान जोखिम में डालकर अधिकारी काम करते आरहे है. इस इमारत के धोखादायक होने का तीन वर्ष पूर्व ही घोषित किया गया था और इस संदर्भ में कई बार पंचायत समिति एवं शिक्षण विभाग द्वारा नई इमारत का प्रस्ताव भेजा गया था परंतु अब तक नये इमारत की प्रशासकीय मंजूरी नहीं मिली. शिक्षण विभाग अनेक वर्षों से पुरानी इमारत में ही कार्यरत है. इस विभाग में ग्रामीण क्षेत्र के अनेक नागरिक काम के सिलसिले में आते है अनेक  शिक्षक भी यहीं बैठकर काम करते है. गटशिक्षणाधिकारी के विभाग का छत ढहने से शिक्षण विभाग के कर्मचारियों में जबरदस्त दहशत है. 

बताया जाता है कि गुरूवार की शाम 4 बजे के बीच गटशिक्षणाधिकारी किसी काम के सिलसिले में बाहर गए हुए थे., चपरासी बाहर बैठा हुआ था. अचानक छह के ढहने की आवाज ने सभी को चौका दिया. सभी हैरत में पड़ गए और सभी वहां इस आशंका में दौड़े कि कोई मलबे में दबा तो नहीं है. जब पता चला कि किसी तरह की जीवहानि नहीं हुई तो सभी ने राहत की सांस ली. जिस समय यह हादसा हुआ उस समय अक्सर गटशिक्षणाधिकारी अपने आफिस में होते थे, परंतु उनका सौभाग्य अच्छा था कि वें किसी काम के सिलसिले में कार्यालय बाहर निकल गये थे. अन्यथा उनके साथ यह हादसा हो सकता था.

हादसे की जानकारी मिलने पर जिला परिषद सदस्य प्रमोद चिमूरकर ने पंचायत समिति में जाकर क्षतिग्रस्त छत का मुआवना किया.

पंचायत समिति ब्रम्हपुरी के गटविकास अधिकारी प्रणाली खोचरे ने कहा कि यह इमारत पूर्ण रूप से जीर्ण हो चुकी है, तीन वर्ष पूर्व ही इसे धोखादायक करार दिया गया है. अभी त नयी इमारत को प्रशासकीय मंजूरी नहीं मिली है. अनेक वर्षों से पुरानी इमारत में ही शिक्षण विभाग कार्यरत है. ढह हुए छत की दुरूस्ति कर शिक्षण विभाग यही कार्यरत होगा. फिलहाल शिक्षण विभाग के लिए उचित इमारत नहीं है.

पंचायत समिति ब्रम्हपुरी के शिक्षणाधिकारी प्रमोद नाट ने कहा कि कई बार जिला परिषद निर्माणकार्य विभाग को प्रस्ताव भेजा परंतु अब तक प्रशासकीय मंजूर नहीं मिली है मेरा सौभाग्य था कि मै किसी काम से बाहर निकल गया था. कर्मचारी भी नहीं थे अन्यथा बड़ा हादसा हो सकता था. फिर से जिला परिषद निर्माणकार्य विभाग को प्रस्ताव भेजने की बात उन्होने कही.

जिला परिषद सदस्य प्रमोद चिमूरकर ने कहा कि  पंचायत समिति के शिक्षण विभाग के शिक्षणाधिकारी के कार्यालय की छत ढहने से शिक्षण विभाग के कर्मचारियों में दहशत है. इस विषय में जिला परिषद निर्माणकार्य विभाग के मिटिंग में चर्चा करूंगा और पत्राचार कर शीघ्र प्रशासकीय मंजूरी के लिए प्रयास किया जाएगा.