Election
Representational Pic

दुर्गापुर. दुर्गापुर व उर्जानगर ग्रापं मिलाकर नगरपालिका बनाने का प्रस्ताव पिछले 21 वर्षो से प्रलम्बित है. 1999 में उक्त दोनों ग्रापं को मिलाकर नगरपालिका बनाने के लिए राज्यपाल के उपसचिव के माध्यम से अध्यादेश निकालने की प्रक्रिया लगभग पूर्ण हो गई थी. परंतु टालमटोल नीति के कारण अबतक इस प्रक्रिया को विलम्ब होता जा रहा है. इस बीच जिले में चिमूर, गडचांदुर जैसे ग्रापं से नगरपालिका बन गए. इस तरह की प्रक्रिया से यहां के लोग असमंजस में दिखाई दे रहे है. 

वर्ष 2012 में चंद्रपुर नगरपालिका महानगरपालिका में तब्दील हो गई. उसके बाद मनपा के विस्तार के तहत दुर्गापुर, उर्जानगर ग्रापं समेत 15 गावों को शामिल करने के लिए फरवरी 2013 को राज्यसरकार के राजपत्र में प्रस्ताव भेजा गया. परंतु 7 वर्ष बितने के बाद भी स्थिति जैसे थे है. इस संबंध में चंद्रपुर शहर की सीमा बढाने के लिए 1 महीने के भीतर बैठक होनेवाली है. जबकि दूसरी ओर महानगरपालिका विस्तार में प्रस्तावित 15 गावों के अधिकांश ग्रापं में 15 जनवरी को मतदान होने जा रहा है. 

मनपा विस्तार में उर्जानगर व दुर्गापुर इन दो ग्रापं का समावेश होगा. ऐसे में इन दो ग्रापं का चुनाव होगा अथवा नही इस बारे में यहां के संभावित उम्मीद्वार व उत्साहित लोग आशंकित है.  

महानगरपालिका में शामिल होंगे अथवा नही

पिछले 21 वर्ष से पहले स्वतंत्र नगरपालिका तथा पिछले 7 वर्ष से महानगरपालिका में शामिल होने के लिए उत्साहित दुर्गापुर व उर्जानगर के लोगों के हाथ निराशा लग रही है. जो थोडी बहुत आस बची थी वह भी ग्रापं के चुनाव घोषित होने से खत्म हो गई. 

क्यों बननी चाहिए नगरपालिका

शुरू से ही दुर्गापुर-उर्जानगर के बस्तियों के साथ सौतेला व्यवहार होता आ रहा है. दोनों ग्रापं के लोगों को खेल मैदान, पार्क, बगीचा से वंचित रहना पड रहा है. कई रोड व ओपनस्पेस पर अतिक्रमण बढ रहा है. परिसर में नाममात्र पौधारोपन किया जा रहा है. तो दुसरी ओर सडक चौडाईकरण में सडक किनारे पेड काटे जा रहे है. नाली के पानी का कोई निकासी का हल नही निकाला जा रहा है. संबंधित ग्रापं के सरपंच व सचिव को बार_बार बदलने से लापरवाही तो कभी मनमानी रवैया अपनाया जा रहा है. पाईप लाईन बिछाने के नाम पर नई सडकों को तोडा जा रहा है. उक्त दोनो ग्रापं को चंद्रपुर महानगरपालिका में समावेश करने पर यहां के लोगों का जीवन स्तर में सुधार आयेगा. 

दुर्गापुर ग्रापं का नगरपालिका का प्रस्ताव पास 

दुर्गापुर ग्रापं ने उर्जानगर व दुर्गापुर को मिलाकर स्वतंत्र नगरपालिका बनाने के लिए प्रस्ताव पास किया है. अब दुर्गापुर उर्जानगर ग्रापंवासीयों के अलावा केंद्रीय विद्यालय के पास सिनाला, मसाला के विस्थापित लोगों का पुनर्वास होने से लोगों की संख्या ओर अधिक बढ गई है. इस संदर्भ में पक्ष_विपक्ष पूर्व व वर्तमान पालकमंत्री से यथाशिघ्र फैसला लेने और ग्रापं चुनाव से पहले नगरपालिका अथवा नगरपालिका में शामिल करने की घोषणा कर जनत की इच्छा का सम्मान करने की मांग की जा रही है.