Fraud
Representational Pic

  • 5 आरोपी गिरफ्तार

चंद्रपुर. स्थानीय अपराध अन्वेषण विभाग की टीम ने ऐसे गिरोह का पर्दाफाश किया है, जो बेरोजगारों को वेकोलि में नौकरी लगाने का झांसा देकर उनसे अच्छी खासी रकम ठगने में शामिल था. वेकोलि के एक वरिष्ठ अधिकारी की सतर्कता के चलते इस गिरोह का कारनामा सामने आया है. जालसाजी के मामले में पुलिस ने 5 लोगों को हिरासत में लिया है.

10 लोगों ने दाखिल किए फर्जी कागजात
17 जून को रामनगर पुलिस थाने में वेकोलि चंद्रपुर क्षेत्र के क्षेत्रीय कार्मिक प्रबंधक सिद्धार्थ गणपतराव थोरात ने शिकायत दर्ज कराई. उसमें उन्होंने बताया कि 10 लोगों ने वेकोलि में नौकरी के लिए फर्जी कागजात तैयार कर नागपुर स्थित क्षेत्रीय महाप्रबंधक कार्यालय में जमा किया है. मामला जालसाजी का होने से पुलिस अधीक्षक डा. महेश्वर रेड्डी ने इस मामले को जांच के लिए स्थानीय अपराध अन्वेषण विभाग को सौंप दिया. जांच के बाद पुलिस ने फर्जी दस्तावेज जमा करवाने वाले निखिल दिलीप लोढे, प्रवीण बाबूराव सोनटक्के दोनों चंद्रपुर निवासी को हिरासत में लेकर पूछताछ की. उन्होंने बताया कि उन्होंने अपने अन्य साथियों के साथ मिलकर कुछ लोगों के फर्जी दस्तावेज बनाकर दिए हैं.

नागपुर का एक व्यक्ति शामिल
इस मामले में राजू बरडे, संपत सायय्या दासरप, श्रीनिवास साहू तीनों चंद्रपुर निवासी को गिरफ्तार किया. तीनों ने अपना अपराध स्वीकार कर बताया कि नागपुर के एक व्यक्ति ने उन्हें नौकरी लगाने के लिए आवश्यक कागजात बनाकर दिए थे. कार्रवाई जिला पुलिस अधीक्षक डा. महेश्वर रेड्डी के मार्गदर्शन में स्थानीय अपराध अन्वेषण शाखा के पुलिस निरीक्षक ओ.जी. कोकाटे के नेतृत्व में पुलिस उपनिरीक्षक गदादे, पुलिसकर्मी भोयर, पुलिसकर्मी बल्की, बघमारे, मिलिंद ने की.