Heavy rains in Pakistan, 14 killed, 26 injured in separate incidents
Representative Photo

    • नदी नाले उफान, बाढ का खतरा

    चंद्रपुर. पिछले कई दिनों से प्रतीक्षारत मानसून की जोरदार बारिश का मंगलवार की शाम से जो आगमन हुआ है वह आज गुरूवार को भी दिन भर जारी रहा. पूरे जिले भर में मानसून पूरी तरह सक्रिय होने से मौसम विभाग ने समूचे विदर्भ में ऑरेंज अलर्ट जारी कर दिया है. इससे बारिश और जोरदार होने की संभावना व्यक्त की जा रही है. जिले भर में जोरदार बारिश हो रही है.जिसके चलते नदी नाले उफान पर है. कुछ जगहों पर बाढ का खतरा बढ गया है.

    बारिश का यह आलम रहा कि बारिश के समय आधा चंद्रपुर शहर जलमग्न नजर आरहा था. मंगलवार की रात से लेकर आज गुरूवार की देर शाम तक कुछ जगहों पर रिमझिम तो कुछ स्थानों पर झमाझम बारिश का नजारा है. निरंतर बारिश के कारण निचले इलाकों में जलभराव की स्थिति वही सडकों पर घुटनों तक पानी जमा नजर आ रहा है. निरंतर बारिश से जनजीवन काफी प्रभावित हो गया है. राजुरा में एक किसान अपने दुपहिया वाहन के साथ नाले में बह गया.

    भेदोडा में किसान बाईक केसाथ नाले में बहा

    राजुरा तहसील के भेदोडा का किसान चंदू बिल्लावार 55  गांव के समीपस्थ नाले में आयी बाढ में अपनी बाईक के साथ बह गया. यह घटना गुरूवार की दोपहर 3 बजे हुई. चंदू गांव की ओर मोटरसाईकिल से जा रहा था. भेडोडा नाले पर बाढ होने पर उसने अपनी बाईक पानी में डाल दी और क्षण भर में वह बाईक के साथ बह निकला. ऐसी जानकारी प्राप्त होते ही लोगों की भीड़ नाले के आसपास जमा हो गई. राजुरा पुलिस ने घटनास्थल पर पहुंचकर उसकी खोजबीन शुरू कर दी.किसान का हेल्मेट पुल के पास अटका हुआ मिला परंतु किसान और उसकी बाईक का कुछ भी पता नहीं है. चंदू का गांव में कृषि केन्द्र है. किसी काम से वह गांव से बाहर गया था.

    राजुरा में दुकानों में घुसा पानी

    बुधवार की दोपहर से लगी बारिश की झड़ी ने एक तरफ जहां किसानों को दिलासा दी है. दूसरी ओर निचले इलाकों में रहनेवाले नागरिकों के लिए मुसीबत खड़ी हो गई है. नाली का गंदा पानी दुकानों, घरों में घुसने से नाहक परेशानी उठानी पड़ी. गुरूवार की दोपहर 12 बजे के दौरान निरंतर बारिश से दुकान में पानी घुस जाने से घर और दुकानों का नुकसान हुआ.

    शहर में प्रत्येक नाली सफाई की गई मात्र गड़चांदूर मार्ग पर कच्चे नालियों में शराब की खाली बोतले और कचरा अटक जाने से नालियां चोकअप होकर उसका गंदा पानी दुकानों, आसपास के घरों में घुसने से लोगों में पानी निकालने की दौड़धूप शुरू हो गई.शहर एवं परिसर में बुधवार की दोपहर से जोरदार बारिश हो रही है.गुरूवार की दोपहर के बाद बारिश ने जोर पकड़ा है. दोपहर 12 बजे से एक बजे के बीच लगातार एक घंटे मूसला बारिश होने से नालियां धो धो होकर बह रही थी. ऐसी स्थिति में गडचांदूर मार्ग पर कच्चे नाली का पानी निचले इलाकों में जा पहुंचा.

    गड़चांदूर मार्ग पर 40 वर्षों से पक्की नाली की प्रतीक्षा

    राजुरा से गड़चांदूर एवं बाद में आदिलाबाद की जानेवाला मार्ग सार्वजनिक निर्माणकार्य विभाग के अंतर्गत आता है. मार्ग के बाजू में नाली का निर्माणकार्य करने का काम संबंधित विभाग का है. मात्र सालवे के घर से इंदिरा गांधी उर्दू स्कूल तक इस रास्ते पर पक्की नाली ना होने से कच्ची छोटी नालियों का गंदा पानी उन घरों और दुकानों में जा पहुंचा जिनकी उंचाई कम है. सार्वजनिक निर्माणकार्य विभाग तत्काल पक्की नाली का निर्माण करें ऐसी परिसर के नागरिकों की मांग है.

    खामोना के पास पुल पर 5 फूट पानी

    तहसील के ग्रामीण क्षेत्र में  नदी, नाले उफानपर है. जिसके चलते जीवन प्रभावित है. आज दोपहर 1  बजे के दौरान खामोना के समीपस्थ नाले पर 5 फूट पानी बहने से राजुरा_गडचांदूर मार्ग पर यातायात ठप हो गई. यातायात ठप होने से दोनों ओर वाहनों की कतारें लगी थी.पुलिस को पहरा बढा दिया गया. मार्ग पर आर्वी गांव के नाले पर पुल से सटकर पानी बहने की जानकारी मिली. गोवरी कालोनी से कढोली एवं पोवनी से कढोली की जानेवाले मार्ग पर पुल पर पानी बह रहा था. अनेक स्थानों पर पानी जमा होने से यातायात प्रभावित हो गई है. रास्ते पर पानी बहने से यातायात ठप हो गई.

    कढोली  परिसर में एक व्यक्ति के लापता होने की प्राथमिक जानकारी मिली. कोरपना तहसील के नांदारोड पर दोनों पुल से पानी बहने की जानकारी मिली. ग्रामपंचायत नांदा परिसर में पानी जमा हो गया था. राजुरा कावठाला मार्ग पर माथरा गांव के पास नाले पर पानी आने से राजुरा _कवठाला यातायात ठप हो गई. मूसलाधार बारिश के कारण नागरिकों में चिंता देखी गई. अनेक क्षेत्रों में निचले स्थानों पर खेतों और घरों में पानी जमा हो गया था. मिली जानकारी अनुसार राजुरा सर्कल में 17.1 मिमी, विरूर स्टेशन सर्कल में 21.2 मिमी औसतन 19.15 मिमी पानी दर्ज किया गया.

    बारिश आने से खेती कार्य मे तेजी

    पिछले हप्ते बारिश ब्रह्मपुरी तालुका से नदारद थी और सूरज की तेज धूप के कारण खेती मे जमा पानी सुखाने लगा था धान के पौधे सुखाने की कगार पर रहणेसे किसानो की चिंता बढी थी. जिनके खेतो मे रोपाई नहीं हुयी थी वो किसान भी चिंता में डूबा हुआ था की खेतों में रोपाई के लिए पानी कहां से लाऊं.इस परिसर में गोसेखुर्द के नहर से पानी ना छोड़ने से और सिंचाई की सुविधा ना रहने से खेती में पानी की किल्लत महसूस हो रही जिससे खेती कार्य की गती धिमी हो गयी,पानी की राहमे और पानी के जुगाड़ से किसान भाई चिंता में था पर रात में और सुबह आयी बारिश से कुछ प्रतिशत पानी की किल्लत कम हुयी और फिर से खेती कार्यों में तेजी आई।अभी तक सभी तालाब और खेत की बोडीया खाली है। किसानों की मांग है की नहरों में पानी छोड़ा जाय.

    मूसलाधार बारिश से जनजीवन अस्तव्स्त

    • तहसील में अब तक 50 प्रश से अधिक बारिश

    लगभग एक सप्ताह नदारद रहने के बाद गुरूवार की सुबह से ही बारिश ने जोरदार दस्तक दी. बुधवार को दिन में हुई बरसात से लोगों को उमस से निजात दिलाई परंतु गुरूवार से प्रारंभ मूसलाधार वर्षा से मौसम को ठंडा कर दिया.

    22 जुलाई को जारी मौसम विभाग के आंकड़ों को देखा जाए तो 1 जून से प्रारंभित वर्षाकाल में अब तक 621 मिमी वर्षा दर्ज की गई. जो बल्लारपुर तहसील की औसत वषर्ज्ञ 1185.6 मिमी का 52.4 प्रश है. गुरूवार को मुसलाधार बारिश से यह आंकडा लगभग 60 प्रश हो सकता है. इस वर्ष बरसात से किसान वर्ग खुश दिखाई दे रहा है.

    वैसे तो सम्पूर्ण चंद्रपुर जिले में इस वर्ष अनुमान के मुताबिक वर्षा हो रही परंतु बल्लारपुर के अलावा सिर्फ कोरपना और जिवती तहसील ही ऐसी है जहां औसत के 50 प्रश से अधिक वर्षा दर्ज की गई है. बल्लारपुर तहसील में बामणी _केमतुकूम कीओर जानेवाले मार्ग पर भागरथी नाला ओवरफ्लो बह रहा है.

    हेटीनांदगांव में चौथी बार पुलिया बही

    गोंडपिपरी तहसील के हेटी नांदगांव में पुलिया बह जाने से अनेक गांव को संपर्क टूट गया है. नागरिकों को काफी परेशानी उठानी पड़ रही है. बारिश में चौथी बार यह पुलिया बह गई है. तेलंगाना की ओर जानेवाला मार्ग है इस रोड पर पुलिया के बह जाने से नागरिकों को परेशानियां उठानी पड़ रही है.