Bus driver killed in collision with truck, riders are marginally injured

  • नशे में धूत था वाहन चालक

गोंडपिपरी. गोंडपिपरी तहसील के नवेगांव वाघाडे में एक पिकअप वाहन चालक का नशे में धूत होकर वाहन चलाना तीन लडकियों के लिए आफत बनकर टूटा. वाहन चालक का नियंत्रण हटने से तीनों लडकियों वाहन के चपेट में आ गई और इसमें गंभीर रूप से घायल एक सात वर्षीय लड़की ने उपचार के लिए ले जाते हुए बीच रास्ते में ही दम तोड़ दिया. यह हादसा शुक्रवार की रात 9.30 बजे हुआ. तीनों लडकियां अपने घर के आंगन में खेल रही थी. वाहन चालक आष्टी से गोंडपिपरी की ओर जा रहा था. वाहन हायवे रास्ता छोडकर रास्ते के किनारे बनी नाली को पार कर  पंढरी मेश्राम के घर के आंगन में जा घुसी.

पिकअप वाहन क्र. एमएच 33 जी 0560 का चालक नशे में धूत होने से वाहन से नियंत्रण हटने से वाहन सीधे हायवे के किनारे पंढरी मेश्राम के घर के सामने शौचालय की दीवार को तोडते हुए आंगन में खेल रही अलेशा पंढरी मेश्राम 7, अस्मित बंडू मेश्राम 10, माही बंडू रामटेके 12 के ऊपर चढ गई. तीनों घायल लडकियों को तुरंत अस्पताल पहुंचाने का प्रयास किया. इस बीच अलेशा की अस्पताल ले जाते हुए बीच रास्ते में मौत हो गई. दोनों घायलों का उपचार शुरू है. इस दुर्घटना में वाहन का चालक और कंडक्टर दोनों घायल हुए जिन्हें चंद्रपुर जिला सामान्य अस्पताल भरती किया गया है. घायल माही बंडू रामटेके चंद्रपुर की निवासी है जो अपनी दादी से मिलने गांव आयी हुई थी. जब तक सहायता नहीं मिलती तब तक वाहन को घटनास्थल से नहीं हटाने का संकल्प ग्रामीणों ने व्यक्त किया है. आगे की जांच थानेदार संदीप धोबे के मार्गदर्शन में शुरू है.

हायवे के गड्ढों के कारण दुर्घटना
बामणी से नवेगांव महामार्ग का काम शुरू है, यह रास्ता नवेगांव आकर समाप्त हो गया परंतु यहां किसी भी तरह का कोई भी दर्शनी फलक नहीं है. रास्ते के किनारे बड़े बडे गड्ढे है जिसके चलते आवागमन करनेवाले वाहनों को अडचनों का सामना करना पडता है. रास्ता निर्माण कंपनी बालाजी कंस्टक्शन द्वारा लापरवाही बरते जाने से यह उक्त दुर्घटना होने से कंपनी पर कार्रवाई की मांग उठ रही है.

गड्ढे में गिरने से बची जान
वाहन नाली पर स्थित शौचालय की दीवार तोडकर घर के आंगन में घुसी जिससे माही रामटेके शौचालय के गड्ढे में जा गिरी और वाहन का पहिया उसके ऊपर से निकल गया. जिससे वह बाल बाल बच गई.

मृतका परिवार की एकलौती बेटी थी
नवेगांव का पंढरी मेश्राम तहसील में रोजंदारी कर्मी है उसकी पत्नी एक कान्वेंट में शिक्षिका है मृतका अलेशा उनकी एकलौती पुत्री थी. उसकी हादसे में मौत ने पूरे परिवार पर दुख का पहाड़ टूट गया.