‘हमें काम दो’ आंदोलन आज, विदर्भ राज्य आंदोलन समिति करेगी प्रदर्शन

चंद्रपुर. 60 वर्ष महाराष्ट्र में रहने और विदर्भ के 3 मुख्यमंत्री बनने के बाद भी विदर्भ की समस्या जस की तस है. विदर्भ के युवाओं के हाथों में काम नहीं है. अब तो विदर्भ में 24 प्रश से अधिक बेरोजगारी बढ़ गई है. इस परिस्थिति में सरकार गत 6 वर्षों से बंद की गई श्रेणी 3 और 4 की नौकर भर्ती तत्काल शुरू करें. विदर्भ के युवाओं को नौकरी का अवसर उपलब्ध कराएं. इस मांग को लेकर विदर्भ राज्य आंदोलन समिति की ओर से 30 जून को ‘हमें काम दो’ आंदोलन किया जाएगा. इस दौरान समिति मांगों का निवेदन मुख्यमंत्री व उपमुख्यमंत्री को ई-मेल से भेजेंगे.

किसान आत्महत्या, कुपोषण, सिंचाई समस्या बढ़ी
समिति ने कहा कि महाराष्ट्र में रहकर विदर्भ में किसान आत्महत्या, कुपोषण, बालमृत्यु दर, सिंचाई का बैकलाग, कर्ज का बोझ, लोडशेडिंग, बड़े पैमाने पर बिजली नर्मिति होने पर भी बिजली कनेक्शन नहीं मिलने, विदर्भ में बढ़ता नक्सलवाद आदि समस्याएं बढ़ती जा रही हैं. विदर्भ के आदिवासी बहुल जिले में हक की 100 करोड़ की निधि नहीं मिली है. गत 7 वर्षों से अनुकंपा तत्व और गत 6 वर्षों से वर्ग 3 एवं 4 पद की नौकर भर्ती बंद है. सरकार ने कोरोना के चलते स्वास्थ्य, शिक्षा, अन्न एवं नागरी आपूर्ति, मदद एवं पुनर्वास विभागों छोड़कर 67 प्रश विदर्भ के ही बजट में कटौती की है. इससे यहां बेरोजगारी बढ़ने की आशंका है.

हर जिले में उठेगी आवाज
समिति ने कहा कि राज्य व केंद्र द्वारा उपेक्षा का शिकार हमेशा विदर्भ होता आ रहा है. इसके खिलाफ अब विदर्भ के हर जिले से आवाज उठाई जाएगी. 30 जून को विदर्भ के सभी जिलों में हमें काम दो आंदोलन किया जाएगा. समिति मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे एवं उपमुख्यमंत्री अजीत पवार को ई-मेल से निवेदन भेजेंगे. इस संबंध में जल्द कोई कदम नहीं उठाने पर समिति तीव्र आंदोलन छेड़ेगी. 30 जून के आंदोलन को युवाओं से सफल बनाने की अपील समिति के नेता पूर्व विधायक एड. वामनराव चटप, संयोजक राम नेवले, रंजना मामर्डे, डा. श्रीनिवास खांदेवाले, प्रबीरकुमार चक्रवर्ती, सरोज काशीकर, एड. मोरेश्वर टेमुर्डे, डा. जी.एस. ख्वाजा, धनंजय धार्मिक, धर्मराज रेवतकर, मुकेश मासुरकर, प्रदीप धामनकर, किशोर पोतनवार, प्रभाकर दिवे, मितीन भागवत, कपिल ईद्दे, अरुण मुनघाटे, प्रा. पुरुषोत्तम पाटिल, मधुकर हरणे, अरुण पोरेड्डीवार, राजेंद्र सिंह ठाकुर, शालिक नाकाडे, चंद्रशेखर भडांगे, रमेश घुडसे, सचिन डाफे आदि ने की है.