If not industry, then withdraw the plot of MIDC, Collector Dr. Khemnar ordered

चंद्रपुर. जिलाधिकारी डा. कुणाल खेमनार ने कहा कि एमआईडीसी परिसर में बड़े पैमाने पर पूरक उद्योगों का विस्तार होना चाहिए. किंतु ध्यान में आया है कि कुछ लोगों ने गत 5 वर्षों से केवल जमीन लेकर रखी है. अब तक उद्योग शुरू नहीं किया है. इन लोगों से एमआईडीसी का प्लाट वापस लेकर उद्योग शुरू करने वाले इच्छुक लोगों को देने के निर्देश उन्होंने दिए.

पालकमंत्री विजय वडेट्टीवार द्वारा एमआईडीसी एवं उद्योग केंद्र के जरिए जिले में पूरक व्यवसाय के लिए वातावरण निर्माण के निर्देश प्रशासन को दिए थे. जिसके बाद एमआईडीसी एवं जिला उद्योग भवन के तत्वावधान में जिला उद्योग मित्र समिति की सभा ली गई. बैठक में जिलाधिकारी ने दी गई जगह पर उद्योग शुरू नहीं करने वालों को नोटिस जारी करने के निर्देश दिए.

पालकमंत्री का ‘लोकल टू वोकल’ अभियान
जिलाधिकारी डा. खेमनार ने कहा कि कई लोगों के पास नई-नई आइडिया है. अब उन्हें अवसर देने का समय आ गया है. बैठक में विभिन्न औद्योगिक प्रबंधनों के प्रतिनिधि, व्यापारी एवं उद्योग जगत के संगठन के पदाधिकारी उपस्थित थे. प्रस्तावना जिला उद्योग केंद्र के महाप्रबंधक स्वप्निल राठोड़ ने रखी. उन्होंने बताया कि पालकमंत्री वडेट्टीवार ने लोकल टू वोकल अभियान चलाने का निर्णय लिया है. जिले के नए उद्योग वर्तमान में शुरू उद्योगों को पूरक सामम्री आपूर्ति करेंगे.

कोरोना के चलते हुए बदलाव के कारण बड़े पैमाने पर रोजगार के अवसर प्राप्त होंगे. बैठक में बांस औद्योगिक समूह को एमआईडीसी में भूखंड देने, फ्लाईएश क्लस्टर शुरू करने, घुग्घुस हाईवे से महाकाली पालिटेक्निक के पास जाने वाले रोड पर डिवाइडर हटाने, बड़े उद्योगों द्वारा सूक्ष्म, लघु और मझौले उद्योग को सहयोग देने, उद्योगों को पर्याप्त बिजली बिल मिलने, बड़े उद्योगों में स्थानीय दिव्यांगों एवं उनके पात्रता अनुसार उद्योग में रोजगार देने आदि विषयों पर भी चर्चा हुई.