Farmer, Wardha, farming

    चंद्रपुर. बारिश के मौसम आते ही किसान अपनी खरिफ फसल की तैयारी में जुट जाते है. कोरपना तहसील में बिते माह भर से कृषि कर्यो में तेजी आयी है. यहां तहसील के लगभग सभी गांवों में कपास, सोयाबिन आदि फसले ली जाती है. इसके लिए किसानों ने जुताई व बुआई कार्य की पूर्ति कर ली है. फिलहाल मानसून की बारिश यहां ठीक होने की वजह से किसानों में हर्ष है परंतु आगामी दिनों में संतोषजनक बारिश होगी या नही यह चिंता किसानो में है. 

    बीते जून माह एवं जुलाई माह के बीते पखवाडे में यहां अच्छी बारिश होने के कारण किसानों ने 38 हजार 644 हेक्टर भूमि में खरिफ की बुआई की है. बताया जाता है कि, कोरपना तहसिल के 38 हजार 644 हेक्टर में मूंग, ज्वारी, सोयाबीन, कपास आदि की बुआई का कार्य हो चुका है. इस वर्ष किसानों ने सोयाबीन के बीज अधिक संख्या में यहां बोये है. इस वर्ष मौसम विभाग की तरफ से अनुमान जताया गया था कि बारिश अधिक होगी. 

    इस कारण किसान ने अपने खेतो में बीजों को बोकर अच्छी फसल लेने के लिए कडी मेहनत कर रहे है पिछले साल किसानों ने तुअर की बुआई 3073.24 हेक्टर से की थी. वही सोयाबीन की बुआई 6804 हेक्टर में की थी. इस बार सोयाबीन का बुआई क्षेत्र बढाकर 8471 हेक्टर कर दिया गया है. बीते वर्ष कपास की बुआई का क्षेत्र 29195 हेक्टर था. वही इस बार 27051 हेक्टर कपास बोया जा चुका है. हर वर्ष तहसील में 1100_1200 मीमी बारिश दर्ज की जाती है. इस वर्ष जून से जुलाई तक 497.5 मीमी बारिश की है.