उपसरपंच सहित ग्रा.पं. सदस्यों के सामूहिक इस्तीफे

  • खडसंगी ग्रा.पं. में राजनीतिक भूचाल

चंद्रपुर. खडसंगी ग्रामपंचायत में सरपंच के मनमानी के चलते उपसरपंच सहित पांच सदस्यों ने सामूहिक इस्तीफे दिए जाने से राजनीतिक खलबली मच गई है.

राजनीतिक दृष्टि से संवेदनशील खडसंगी ग्रामपंचायत का पंचवार्षिक चुनाव फरवरी 2016 में लिया गया. इसमें परिवर्तन पैनल विजय हुआ और सत्ता स्थापित की. पिछले पांच वर्षों के कार्यकाल को देखे तो गांव में विकास कार्य एवं नागरिकों की समस्या सुलझाने के लिए सत्तापक्ष में ही अंतकर्लह रहा है.

3 से 4 हजार जनसंख्या वाली खडसंगी ग्रामपंचायत में 9 सदस्य है जाति प्रमाणपत्र समय पर नहीं दिए जाने से जिलाधिकारी के आदेश अनुसार दो सदस्यों को पिछले महीने ही अपात्र घोषित किया. इसके चलते ग्रामपंचायत सदस्यों की संख्या 9 के बजाय 7 हो गई है.यह सातों सदस्य सरपंच को सहयोग कर ग्रामीण विकास पर ध्यान दे रहे थे परंतु सरपंच द्वारा अपनी मनमानी करने और मासिक सभा में बहुमत से लिए गए प्रस्ताव पर हस्ताक्षर नहीं किए जाने से विकास कार्यों में अड़चने निर्माण होने लगी थी.

इन सभी बातों से परेशान होकर ग्रामपंचायत के मासिक सभा में वर्तमान छह सदस्यों ने सामूहिक इस्तीफे सरपंच को सौपकर सभा का बहिष्कार किया. इस दौरान चिमूर पंचायत समिति के खंड विकास अधिकारी से चर्चा कर ग्रामपंचायत सचिव के पास सभी सदस्यों ने सामूहिक इस्तीफे सौपे.

कार्यकाल समाप्ति को 70 दिन बाकी

ग्रामपंचायत सदस्यों, सरपंच का कार्यकाल 5 फरवरी को समाप्त होगा. इसके चले अब भी 70 दिन शेष बचे हुए है.ग्रामपंचायत उपसरपंच समेत पांच सदस्यों द्वारा दिए गए सामूहिक इस्तीफे को राजनीतिक दांवपेंच के रूप में भी देखा जा रहा है.

सामूहिक इस्तीफे का कारण

ग्रामपंचायत के लचर नियोजन के कारण ग्रामीणों को मूलभूत सुविधा नहीं मिल पा रही है.ग्रामीण वार्ड सदस्यों पर रोष जताते है इसके चलते कुछ महीने पूर्व एक कर्मचारी को नौकरी से हटाने का मासिक सभा में बहुमत से प्रस्ताव लिया गया परंतु सरपंच हस्ताक्षर नहीं किए जाने से यह प्रस्ताव वैसे पड़ा हुआ है.

उपसरपंच प्रमोद श्रीरामे का आरोप में ग्रामपंचायत में छह कर्मचारी है परंतु शत प्रतिशत कर वसूली अब तक कभी नहीं हुई. छहकर्मियों के रहते हुए भी ग्रामपंचायत एवं ग्रामपंचायत के सामने अस्वच्छता रहती है. इसके बावजूद सरपंच कर्मियों का ही पक्ष लेते है. इसलिए उन्होने यह इस्तीफे दिए है.