पालकों के अकाउंट में आएगा पोषाहार का पैसा

    • राहत : 150-250 रुपए के लिए खोलना पड़ रहा था नया अकाउंट

    चंद्रपुर. स्कूलों में पढ़ने वाले बच्चों को पहले स्कूलों में ही पका-पकाया पौष्टिक भोजन दिया जाता था. किंतु कोरोना संक्रमण के कारण स्कूल बंद होने से यह बंद किया गया. विद्यार्थियों को इसके ऐवज में अनाज जिसमें चावल, गेहूं और दाले दी जाने लगी थी. कोरोना संकट आने के बाद अब विद्यार्थियों की स्कूल जाकर पढ़ाई पूरी तरह से बंद है. आनलाइन पढ़ाई शुरू है.

    ऐसे में अब सरकार पौष्टिक आहार का जो खर्च प्रति विद्यार्थी पर आता था, उसे संबंधित विद्यार्थी के बैंक खाते में जमा करने की घोषणा की गई थी. लेकिन इसके लिए पालकों को अपने बच्चों का बैंक खाता खोलने के लिए 1,000 रुपए तक का खर्च आने वाला था. 150 से 250 रुपये के अनुदान के लिए नया अकाउंट खोलना काफी परेशानी वाला काम था. इसे देखते हुए अब यह राशि सीधे अभिभावकों के बैंक खाते में जमा करने का निर्णय लिया गया है. इससे अभिभावकों को काफी राहत मिली है.

    1,000 का आने वाला था खर्च

    इससे पूर्व अभिभावकों को अपने बच्चों का बैंक में खाता खोलने के लिए 1,000 रुपये खर्च आ रहा था. इसके अलावा अपनी ड्यूटी, काम छोड़कर बैंकों में कतार लगाने से मानसिक, शारीरिक नुकसान हो रहा था. इसके कारण अधिकांश अभिभावकों ने इस मामले में गंभीरता नहीं दिखाई. कुछ अभिभावकों की मांग थी कि उनके बैंक खातों में अन्य कई तरह की सब्सिडी आ रही है, तो उनके बच्चों का पैसा भी उनके ही बैंक खाते में डाला जाएं. आखिरकार अभिभावकों की परेशानी को देखते हुए राज्य सरकार को इस निर्णय में बदलाव करना पड़ा.

    डेढ़ वर्ष से बंद है स्कूल

    कोरोना संक्रमण के कारण पिछले एक से डेढ़ वर्षों से कक्षा पहली से लेकर कक्षा 12वीं की पढ़ाई पूरी तरह से प्रभावित हो गई है. सरकारी स्कूलों में कक्षा पहली से लेकर 8वीं तक के विद्याथियों को पोषक आहार देने की योजना है. अब पोषक आहार की राशि इन विद्यार्थियों के अभिभावकों के बैंक खातों में जमा होगी.

    जिले में पहली कक्षा के 28,824, दूसरी के 31,272, तीसरी 31,784, चौथी के 33,719, 5वीं के 32,845, 6वीं के 32,357, 7वीं के  33,161, 8वीं के 33,441 विद्यार्थी हैं. इसमें पहली से 5वीं के विद्यार्थियों के बैंक खाते में 156 रुपये और 5वीं से 8वीं तक के विद्यार्थियों के अभिभावकों के बैंक खाते में 234 रुपये जमा होंगे. शिक्षा विभाग ने शिक्षा संचालक का स्कूली पोषण आहार का अनुदान अभिभावकों के बैंक खाते में जमा करने का आदेश राज्य के सभी जिला परिषद मुख्य कार्यकारी अधिकारी, शिक्षाधिकारियों को दिया है.

    पुरोगामी शिक्षक संगठन ने किया स्वागत

    अभिभावकों और शिक्षकों को राहत प्रदान किए जाने पर पुरोगामी शिक्षक संगठन के राज्याध्यक्ष प्रसाद पाटिल, महासचिव हरीश ससनकर, राज्य नेता विजय भोगेकर, महिला राज्याध्यक्ष अलका ठाकरे, बलिराम मोरे, बालाजी पांडागले का जिला पदाधिकारी नारायण कांबले, दीपक वरहेकर, रवि सोयाम, लोमेश येलमूले, किशोर आनंदवार, दुष्यंत मत्ते, सुनीता इटनकर, माधुरी निंबालकर, विद्या खटी, सुलक्षणा क्षीरसागर, पूर्णिमा मेहरकुरे ने आभार व्यक्त किया है.