कोरोना की दूसरी लहर: प्रशासन हुआ अलर्ट

  • जिलाधीश ने ली कोरोना टास्क समिति की बैठक
  • ऑक्सीजन बेड, आयसीयु बेड, वेन्टीलेटर की पर्याप्त व्यवस्था
  • दिल्ली, राजस्थान, गोवा और राजस्थान से आनेवाले रेलयात्रियों को करना होगा कोरोना टेस्ट

चंद्रपुर. कोरोना संक्रमण की दूसरी लहर का असर यूरोप समेत देश के दिल्ली अन्य राज्यों में नजर आने के बाद महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री ने राज्य में पर्याप्त व्यवस्था के निर्देश दिए है, जिसके चलते जिलाधीश अजय गुल्हाने ने जिले में अब पाये गए सर्वाधिक कोविड मरीजों की संख्या से दस प्रतिशत अधिक मरीजों होने का अंदाज मानते हुए स्वास्थ्य सुविधाओं का नियोजन करने के निर्देश कोरोना टास्क समिति को दिए है.

जिलाधिकारी ने एन्टीजेन टेस्ट, आरटीपीसीआर टेस्ट और कॉन्टैक्ट ट्रेसिंग बढाने के बारे में मनपा सहित शासकीय वैद्यकीय महाविद्यालय एवं जिला परिषद स्वास्थ्य विभाग को निर्देश दिए है. वर्तमान में शुरू कोविड अस्पताल एवं मानवसंसाधन कम ना करते हुए सभी अस्पतालों में आवश्यक दवाईयां उपलब्ध रखने के निर्देश उन्होने दिए है. इस दौरान यदि वैक्सीन उपलब्ध होती है तो उसे आवश्यक तापमान में रखने के लिए फ्रीजर उपलब्ध रखने शासकीय वैद्यकीय अस्पताल एवं महिला अस्पताल में प्रत्येक में 20 किलोलीटर लिक्विड ऑक्सीजन टैंक शीघ्र स्थापित करने की जानकारी ली जिस पर डीन डा. हुमने ने बताया कि लिक्विड टैंक लग चुके है आगामी पांच छह दिनों में यह पूर्ण क्षमता से शुरू भी हो जाएगे.

निर्धारित संख्या से अधिक व्यवस्था 

जिले में इस समय 1780 एक्टीव मरीज है कोरोना की दूसरी लहर को रोकने की दृष्टि से 5454 एक्टीव मरीजों की संख्या का नियोजन किया गया है. इसमें 2182 होम आयसोलेशन में, सौम्य लक्ष्ण वाले मरीज 5454 है, आक्सीजन बेड की आवश्यकता 624, वेन्टीलेटर पर 82 एवं आयसीयू के 82 मरीज संख्या ऐसा वर्गीकरण किया गया है. सौम्य लक्षण वाले मरीजों के लिए 1977 बेड उपलब्ध है जिसमें 477बेड की कमी है, यह कमी शीघ्र पूर्ण करे, ऑक्सीजन बेड की मांग 654 अपेक्षित है इसके तुलना में 823 बेड उपलब्ध है. वेन्टीलेटर 82 अपेक्षित है जबकि 96उपलब्ध है. आयसीयू बेड की संख्या 82 अपेक्षित जबकि 153 उपलब्ध है.महिला अस्पताल में 450 बेड का कोविड अस्पताल प्रस्तावित है इसमें से 50 ऑक्सीजन एवं 50 आयसीयु सहित कुल 100 बेड स्थापित है शेष 350 बेड का काम प्रगतिपथ पर है. सैनिक स्कूल में कोविड हेल्थ केअर सेंटर में 400 ऑक्सीजन बेड को प्रशासकीय मंजूरी मिली है. ऑक्सीजन पाईपलाईन एवं अन्य सामग्री के टेंडर निकाला गया है ऐसी जानकारी जिलाधीश ने दी है.

जनसंपर्क वाले व्यक्तियों की जांच

जिले में शासकीय एवं निजी मिलाकर वर्तमान में 7 कोविड अस्पताल है, जबकि 14 में से 12 कोविड हेल्थ केअर सेंटर एवं 23 में से 16 कोविड केअर सेंटर में उपचार शुरू है.

दूसरी लहर रोकने के दृष्टि से सुपर स्प्रेडर व्यक्ति की भूमिका महत्वपूर्ण होने से छोटे व्यवसायी गट, घरेलू सेवा देनेवाले, ट्रान्सपोर्ट व्यवसायी, विभिन्न कामगार, सार्वजनिक ट्रान्सपोर्टिंग के ड्रायव्हर, कंडक्टर एवं अन्य कर्मचारी, हाऊसिंग सोसायटी में काम करनेवाले सुरक्षा रक्षक, आवश्यक सेवा देनेवाले सरकारी, अर्धशासकीय साथ ही पुलिस एवं होमगार्ड , जनसंपर्क वाले व्यक्तियों का सर्वेक्षण कर उनकी टेस्टिंग पर जोर दिया जा रहा है.

बाहरी लोगों को होगा टेस्ट

दिल्ली राजस्थान, गोवा एवं गुजरात से आनेवाले यात्रियों की कोविड टेस्टिंग होगी. इसके लिए चंद्रपुर, वरोरा और बल्लारपुर रेल स्टेशनों पर जांच पथक नियुक्त कि गए है. जांच रिपोर्ट आने तक रेल यात्री को कोविड केअर सेंटर के विलगीकरण कक्ष में रखा जाएगा. पॉजीटीव यदि होम आयसोलेशन रहना चाहेंगे तो ऐसी भी व्यवस्था की गई है.

जिलाधिकारी कार्यालय में ली गई कोरोना टास्क बैठक में जिला परिषद के सीईओ राहुल कर्डिले, मनपा आयुक्त राजेश मोहिते, अप्पर जिलाधिकारी विद्युत वरखेडकर, जिला शासकीय वैद्यकीय महाविद्यालय एवं अस्पताल के डीन डा. अरूण हुमने, जिला शल्य चिकित्सक डा. निवृत्ति राठोड, निवासी उपजिलाधिकारी मनोहर गव्हाल, जिला स्वास्थ्य अधिकारी डा. राजकुमार गहलोत, जिला सर्वेक्षण अधिकारी डा. सुधीर मेश्राम, मनपा के वैद्यकीय अधिकारी डा. अविष्कार खंडाले, डा. प्रकाश साठे आदि उपस्थित थे.