गुटबीमा के मामलों का निपटारा करें, राज्य प्राथमिक शिक्षक ने की प्रशासन से मांग

    चंद्रपुर. शिक्षकों के गुटबीमा प्रकरण के पंजीयन को अपडेट नहीं किए जाने से सेवानिवृत्ति के उपरांत शिक्षकों को काफी परेशानियों का सामना करना पड़ता है. सटीक पंजीयन सहित प्रस्ताव जि.प. के पास भेजें, गुटबीमा के बकाया प्रकरण तुरंत निपटाएं. यह मांग राज्य प्राथमिक शिक्षक संघ ने प्रशासन से की है.

    संगठन के समस्या निवारण दौरा अंतर्गत राज्य प्रतिनिधि संतोष कुंटावार एवं जिला मार्गदर्शक विट्ठल आवारी, तहसील अध्यक्ष योगेश भगत ने पंचायत समिति नागभीड़ के गुट शिक्षाधिकारी प्रमोद नाट से मिलकर इस संबंध मे चर्चा की. 

    सेवानिवृत्ति के बाद आ रही परेशानी

    संगठन ने कहा कि शिक्षक कर्मचारी सेवानिवृत्त होने के बाद गुटबीमा प्रकरण का प्रस्ताव 2 वर्ष जि.प. के पास प्रस्तुत नहीं हो रहा है. कभी गुट बीमा का पंजीयन पूर्ण नहीं होता है, तो कभी नामनिर्देशन नहीं होने से प्रस्ताव वापस भेज दिया जाता है. परिणाम स्वरूप शिक्षक लाभ से वंचित रहते हैं. इसकी जानकारी संगठन ने प्रशासन को दी. इस पर गुट शिक्षाधिकारी ने उचित उपाययोजना कर प्रकरणों का निपटारा करने का आश्वासन दिया. 

    गुट शिक्षाधिकारी से की चर्चा

    इस समय संगठन ने गुट शिक्षाधिकारी से विभिन्न समस्या पर चर्चा की. 7वें एवं 6वें वेतन आयोग निश्चितता की जांच करने के लिए विशेष शिविर लेने के बारे में मंजूर किया गया. इसके अलावा स्कूली पाठ्यपुस्तकें सीधे स्कूलों तक पहुंचाने, 6वें वेतन आयोग की बकाया किश्त जीपीएफ को भेजने, परीक्षा में बैठने की अनुमति दिलाने का प्रस्ताव तुरंत भेजने, स्कूल अनुदान के बारे में मुख्याध्यापकों को समय-समय पर अवगत करने, परिभाषित अंशदान योजना में शिक्षकों को एक जुलाई को देय 7वें वेतन आयोग की किश्त देने आदि प्रलंबित समस्याओं पर भी सकारात्मक चर्चा की गई.

    सभी समस्याओं पर शीघ्र उपाययोजना करने आश्वासन शिक्षा विभाग ने संगठन को दिया. इस समय संगठन की महिला प्रतिनिधि हर्षलता वालदे एवं अन्य पदाधिकारी उपस्थित थे.