Shepherd died in tiger attack

तहसील के दक्षिण वनपरिक्षेत्र अंतर्गत आने वाले हलदा में बाघ ने एक चरवाहे पर हमला कर दिया जिसमें उसकी मृत्यु हो गई।

  • दूसरे दिन आज मिला चरवाहे का शव
  • हलदा गांव और आस पास दहशत

ब्रम्हपुरी. तहसील के दक्षिण वनपरिक्षेत्र अंतर्गत आने वाले हलदा में बाघ ने एक चरवाहे पर हमला कर दिया जिसमें उसकी मृत्यु हो गई। यह घटना 14 अक्टूबर की सुबह घटी किंतु मृतक का शव आज दूसरे दिन बरामद हुआ है। मृतक का नाम उमाजी कुशन मस्के (70)  है। 

प्राप्त जानकारी के अनुसार बुधवार की सुबह उमाजी गांव से सटे जंगल में बकरिया चराने गया था। किंतु देर शाम होने के बाद भी उमाजी बकरियों को चराकर घर नहीं लौटा था। उसके न लौटने पर पडोसियों को चिंता हुई ओर उसकी तलाश शुरु की किंतु जल्द रात हो जाने उन्हे खाली हाथ लौटना पडा। इसकी वजह से आज गुरुवार की सुबह 7 बजे पुन: उसकी तलाश शुरु की तो उमाजी का शव मिला। उमाजी की मृत्यु बाघ के हमले में हुई है। क्योंकि उमाजी के शरीर पर बाघ के पंजे के निशान पाये गये है।

दक्षिण परिक्षेत्र घने जंगल से व्याप्त है बाघ के हमले में मरने की एक महीने के भीतर की यह दूसरी घटना है। उमाजी अकेला रहता था, पेट भरने के लिए वह बकरियों का पालन कर किसी प्रकार अपना भरण पोषण करता था। किंतु नियति को यह भी मंजूर नहीं था और बाघ के हमले में उसकी मृत्यु हो गई। इस परिसर में बाघ के हमले की घटना बढ रही है एक महीने के भीतर यह दूसरी घटना है इसलिए इस बाघ के बंदोबस्त की मांग हलदा और आस पास के ग्रामवासियों ने की है।