महाराष्ट्र में बनाये सख्त महिला सुरक्षा कानून, राज्य सरकार के खिलाफ भाजपा का मोर्चा

चंद्रपुर. महाविकास आघाडी सरकार के कार्यकाल में पूरे महाराष्ट्र में महिला सुरक्षा की समास्या निर्माण हो रही है। पिछले कुछ महिनों में राज्य में महिला अत्याचार, बलात्कार, छेडछाड एवं हत्याकांड के मामले बढे है। कोरोना महामारी जैसे अतिसंवेदनशील समय में कोविड सेंटर व अस्पताल में महिला अत्याचार, बलात्कार, विनयभंग के सत्र शुरू है। महाराष्ट्र में महिला असुरक्षित होने के बावजूद महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री एवं सरकार चुप्पी साधे हुए है ऐसा आरोप लगाते हुए भाजपा की महिला आघाडी ने आज जिले के तहसीलों में मोर्चा निकालकर ध्यान आकर्षित किया।

मोर्चे में शामिल महिलाओं ने कहा कि अन्य राज्यों में महिलाओं पर अत्याचार के विरोध में आवाज उठानेवाली कांग्रेस, शिवसेना और राष्ट्रवादी कांग्रेस के नेता महाराष्ट्र में बढते महिला अत्याचार के मामलों पर चुप क्यो है? 

राज्य में बढते महिला अत्याचार के विरोध में आज भारतीय जनता पार्टी महिला आघाडी एवं युवा मोर्चा ब्रम्हपुरी तहसील की ओर से महाविकास आघाडी के विरोध में तहसील कार्यालय पर मोर्चा निकाला गया। महिला सुरक्षा कानून अधिक मजबूत करने की मांग की गई। इस संदर्भ में महिला आघाडी एवं युवा मोर्चा की ओर से मुख्यमंत्री उध्दव ठाकरे को तहसीलदार मार्फत पत्र भेजा गया।

इस मोर्चे में भाजपा महिला आघाडी की तालुका अध्यक्षा वंदना शेंडे, महिला आघाडी की जिला उपाध्यक्षा रश्मी खानोरकर पेशने, नगरसेविका पुष्पा गराडे, पूर्व नगरसेविका डॉ.हेमलता नंदूरकर, पूर्व नगरसेविका अनघा दंडवते, पूर्व नगरसेविका यास्मिन लाखानी, पंचायत समिति की उपसभापति सुनीता ठवकर, पं. स सदस्या उर्मिला धोटे, सदस्या.सुनंदा ढोरे, सदस्या. ममता कुंभारे, पंचायत समिति के सभापति प्रा.रामलाल दोनाडकर, प्रदेश ओबीसी आघाडी सदस्य प्रा.प्रकाश बगमारे, भाजपा शहर महामंत्री तथा नगरसेवक मनोज वठे, कोषाध्यक्ष अरविंद नंदूरकर, पूर्व उपसभापति नामदेव लांजेवार, वरिष्ठ नेता अरुण शेंडे, युवा मोर्चा के शहर अध्यक्ष प्रा.सुयोग बालबुधे, महामंत्री रितेश दशमवार, महामंत्री स्वप्नील अलगदेवें, सचिव दत्ता येरावार, उपाध्यक्ष पवन जैस्वाल, ओबीसी आघाडी शहर अध्यक्ष पंकज माकोडे, साकेत भानारकर, अरविंद कुंभारे, अमित रोकडे, ओंकार हरदास, प्रेमलाल धोटे, अशोक हटवार, चुंमदेव जांभूलकर समेत भाजपा पदाधिकारी एवं कार्यकर्ता शामिल थे।

चिमूर में जि.प. सदस्य रेखा कारेकर के नेतृत्व में मोर्चा निकाला गया। उन्होने कहा कि महाराष्ट्र में बढते महिला अत्याचार के बारे में सरकार सुस्त है, महिलाएं असुरक्षित है, राज्य सरकार महिलाओं की सुरक्षा के लिए कड़े कानून बनाये। इस आशय का ज्ञापन मुख्यमंत्री के नाम तहसीलदार कोवे को सौपा गया। आंदोलन में जि.प. उपाध्यक्ष रेखा कारेकर,भाजपा महिला आघाडी की तहसील अध्यक्ष गीता लिंगायत, चिमूर विधानसभा भाजपा महिला संयोजिका तहसील महामंत्री ज्योति ठाकरे, पं.स. सदस्य माया नारनवरे, नगरसेवक भारती गोडे, आशा मेश्राम, सरपंच ममता नन्नावरे, ललिता चौधरी, प्रिया जयकर, नजमा शेख, अलका बोरतवार आदि शामिल हुई।