राजुरा में दिया धरना – बढ़ती महंगाई का विरोध

राजुरा. कोरोना वायरस की रोकथाम के लिए आम नागरिकों को मेडिकल और अन्य सुविधाएं पहुंचाने में केंद्र सरकार पूरी तरह से असफल रही है. देशवासी एक ओर कोरोना, लॉकडाउन की मार झेल रहे हैं, वहीं दूसरी ओर केंद्र सरकार लगातार पेट्रोल, डीजल जैसे ईंधन की मूल्यवृद्धि करती जा रही है. इससे आम नागरिक महंगाई की गर्त में धंसता जा रहा है. केंद्र सरकार की इस मनमानी के खिलाफ सोमवार को कांग्रेस ने तहसील कार्यालय के सामने धरना आंदोलन किया. विधायक सुभाष धोटे ने आंदोलन का नेतृत्व किया. उन्होंने कहा कि सरकार यदि आम नागरिकों को न्याय नहीं दे सकती, तो केंद्र सरकार को इस्तीफा दे देना चाहिए.

पश्चात तहसीलदार डा. रवींद्र होली के माध्यम से राष्ट्रपति को निवेदन भेजा गया. आंदोलन में तहसील अध्यक्ष दादा लांडे, नगध्यक्ष अरुण धोटे, अ. हमीद अ. गणी पटेल, अशोक देशपांडे, अधि. सदानंद लांडे, दिनकर कर्नेवार, नप उपाध्यक्ष सुनील देशपांडे, पूर्व नगराध्यक्ष स्वामी येरोलवार, सभापति मुमताज जावेद, मंगेश गुरुनुले, जिप सदस्य नामदेव करमनकर, मेघा नलगे, कुंदा जेनेकर, महिला तहसील अध्यक्ष कविता उपरे, पार्षद हरजीत सिंह संधु, गजानन भटारकर, आनंद दासरी, पार्षद साधना भाके, दीपा करमनकर आदि ने हिस्सा लिया.