बर्ड फ्ल्यू की दहशत से चिकन की मांग घटी, अंडों के दामों में गिरावट

चंद्रपुर:  देश के कई राज्यों में बर्ड फ्ल्यू के बढ़ते संक्रमण को देखते हुए जिले में अब चिकन और अंडों की मांग लगातार घटती जा रही है, अंडों के दामों में भी निरंतर गिरावट देखी जा रही है.बर्ड फ्ल्यू की दहशत से जहां एक ओर चिकन की बिक्री धराशायी हो रही है वहीं दूसरी ओर खाद्य शौकीनों में मटन और मछली खरीदने के प्रति रुझान बढ़ने लगा है. बढ़ती मांग को देखते हुए विक्रेताओं ने मटन के दाम बढ़ा दिए है वहीं चिकन और अंडों के दाम गिरते जा रहे है.

पिछले सप्ताह शहर में अंडे प्रति दर्जन 60 रुपये बेचे जा रहे थे, आज यहीं दाम गिरकर 48 पर आ गए है. उधर चिकन के दाम भी कम किये गए है बावजूद लोग चिकन और अंडे खरीदने में रुचि नहीं दर्शा रहे है.

जिले में चिकन का होलसेल कारोबार करने वाले एक व्यापारी के अनुसार दिसंबर माह के अंतिम सप्ताह से नववर्ष के पहले सप्ताह तक जिले में चिकन की रिकॉर्ड बिक्री हो रही थी लेकिन पिछले 3 दिनों से इस बिक्री को यकायक ब्रेक से लग गया है. बीत रविवार कारोबार की दृष्टि से बेहद चिंताजनक रहा. दाम कम करने के बावजूद ग्राहक उस तुलना में चिकन खरीदने नहीं आ रहे है.

जिले में 22 रेपिड पथक गठित

चंद्रपुर जिले में बर्ड फ्लू खतरा नहीं परंतु विभाग इस बारे में सतर्क है. वन्यजीव , पक्षी के गतिविधियों पर नजर रखी गई है. इसके लिए  जिले में 22 रेपिड टीम निर्माण की गई है.पोल्ट्रीफार्म को निर्देश दिए गए है कि मुर्गियां अथवा अन्य पक्षी मृत अवस्था में नजर आने पर इसकी सूचना तुरंत दी जाए, इसके लिए नागरिकों को किसी तरह से घबराने की आवश्यकता नहीं ऐसा पशुसंवर्धन विभाग का कहना है.

राज्य सरकार की गाईडलाईन चंद्रपुर जिला पशुसंवर्धन विभाग को प्राप्त हुई है. इसके अनुसार प्रतिबंधात्मक उपाययोजना की गई है. सम्पूर्ण जिले में 22 रेपिड टीमें तैयार की गई है. इस टीम में एक पशुधन अधिकारी, एक पशु अधिकारी एक परिचर का समावेश है. ग्रामीण क्षेत्र में पोल्ट्रीफार्म एवं वनविभाग को मृत पाए गए पक्षियों के बारे में जानकारी देने की सूचना दी गई है. अब तक अप्राकृतिक तरीके से कोई भी पक्षी मृत स्थिति में जिले में नहीं मिला है.

अफवाहों के कारण चंद्रपुर में खलबली

चंद्रपुर जिले में बर्ड फ्लू के पक्षी मिलने की अफवाह शहर में फैली थी इसके चलते नागरिकों एवं अंडा और चिकन व्यवसायियों में खलबली मच गई है. परंतु पशुसंवर्धन विभाग ने इसे अफवाह बताया. 7 जनवरीको मानोरा में 3 कौवे मृत अवस्था में मिले थे. जिसकी जांच रिपोर्ट अब तक नहीं मिली है. इसलिए नागरिक अफवाहों पर विश्वास ना रखे ऐसा आहवान जिला पशुसंवर्धन विभाग के उपायुक्त राजपूत ने किया है.

बर्ड फ्लू को लेकर सावधानी बरते: राजपूत

चंद्रपुर जिला पशुसंवर्धन उपायुक्त डा. बी.डी. राजपूत ने कहा कि देश के राजस्थान, मध्यप्रदेश में कौवे और स्थानांतरित पक्षियों में एविएन एन्फ्ल्यूएंजा (बर्ड फ्लू) बीमारी का लक्षण पाया गया है. इसलिए वनविभाग अंतर्गत जलस्त्रोत, तालाब एवं अन्य स्थानों एवं स्थानांतरित पक्षियों में अप्राकृतिक मृत्यु का प्रमाण मिलता है तो बिना घबराये तत्काल समीपस्थ के पशुधन अधिकारी या पशुवैद्यकीय चिकित्सालय से संपर्क करें. सतर्कता बरते.