कार के बोनेट में फंसा विशाल अजगर

  • कार रिपरिंग सेंटर में लाकर निकाला गया
  • सांप की जान बचाने में लगे कई घंटे

चंद्रपुर. कार के बोनेट में जा फंसे एक विशाल अजगर को निकालने के लिए कार को कार रिपरिंग सेंटर तक लाना पड़ा और अजगर को बाहर निकालने के लिए कई घंटे लगे.

वडगांव निवासी अनुप माथनकर और अविनाश रोडे दोनों ही रात 9 बजे के दौरान पाईपलाईन उर्जानगर से होंडा सिटी गाडी से खेत की ओर से आ रहे थे कार के सामने उन्हें एक बड़े आकार का अजगर दिखाई दिया. उन्होने तुरंत गाडी रोक दी. उन्हें लगा कि अजगर रास्ता पार कर दूसरी ओर निकल गया होगा. जब गाडी स्टार्ट की तो वह शुरू नहीं हो पायी और नीचे उतर कर देखा तो अजगर भी कही नजर नहीं आ रहा था.जब उन्होने कार का बोनेट उठाकर देखा तो अजगर उसमें जा छिपा था. बोनेट बंद कर उन्होने तुरंत सर्पमित्र साईनाथ चौधरी एवं अमित देशमुख को फोन कर इस घटना की जानकारी दी.अमित देशमुख और सूरज डहाके मौके पर पहुंचे और बोनेट से अजगर को निकालने का प्रयास किया परंतु अजगर काफी बड़ा होने से वह गाडी के इंजन में जाकर फंस गया था. भरसक प्रयासों के बाद भी अजगर बाहर नहीं निकला. आखिरकार रात 1.30 बजे के बीच एक अन्य गाडी़ से कार को उर्जानगर स्थित कार वाशिंग सेंटर लाया गया जहां अमित देशमुख और सूरज डहाके ने फिर से प्रयास कर अजगर को बाहर निकालने का प्रयास किया इस तरह से सुबह 5 बजे आखिरकार अजगर को बाहर निकालने में वें सफल हुए.

अजगर लम्बाई  9 फूट थी. रात 10 बजे से लेकर सुबह के 5 बजे तक अजगर को बाहर निकालने की मुहिम शुरू रही. सुबह वनविभाग के क्षेत्र सहायक तावडे और फारेस्ट गार्ड दहेगांवकर को इस घटना की सूचना दी गई. अजगर को वनविभाग के उपस्थिति में जंगल में छोड़ दिया गया. इस समय हैबिटेट कन्जरवेशन सोसायटी के वन्यजीव रक्षक अमित देशमुख, सूरज डहाके, साईनाथ चौधरी, संजय गायन उपस्थित थे. साथ ही रोहित चौधरी, नागेश घरात, पंकज डाखरे, सुमीत मेश्राम, प्रमोद आसुटकर ने प्रयास किए.