नपं का कार्यकाल समाप्त, परंतु विकास झीरो

  • नागरीकों की अपेक्षा हुई भंग

चंद्रपुर. चंद्रपुर जिले के सावली तहसील नगरपंचायत का कार्यकाल कुछ ही दिनों में समाप्त होने जा रहा है. यहां चुनाव प्रक्रिया की शुरूवात की गई है. परंतु पिछले 5 वर्ष सावली नगरपंचायत का विकास झीरो है. सावली में विकास के संदर्भ में नागरीकों की अपेक्षाए भंग हुई है. 

नगरपंचायत स्थापन होने के पश्चात तहसीलवासीयों में शहर के विकास की अपेक्षा थी. परंतु 5 वर्ष लौटने के बाद भी स्थिति जैसे थे है. सावली का अपेक्षा अनुसार विकास नही होने से यहां के लोग नगरपंचायत के बजाय ग्रापं ठीक थी ऐसी बाते करते हुए दिखाई दे रही है. सावली में केवल सिमेंट कांक्रीट सडकों का विकास हुआ है अन्य विकास में सावली नपं झीरो है. यहां नाली सफाई, जलसंकट की समस्या अत्यंत जटील होती जा रही है. पिछले 5 वर्ष में करिबन 2 से ढाई वर्ष सावलीवासीयों को नल के पानी से वंचित रहना पडा. कुछ दिनोतक नलयोजना बंद थी. परंतु इस समस्या की ओर नपं पदाधिकारी व प्रशासन की अनदेखी की चलते आज भी परिस्थिति जैसे थे है. समय पर नाली सफाई नही होने से मच्छरों का प्रकोप बढ रहा है. आवारा पशु व कुत्तों के मुक्तसंचार से गांववासी त्रस्त है.    

विरोधी राजनिति के कारण विकास कोसो दूर 

सावली ग्रामपंचायत नगरपंचायत में तबदील होने से सावलीवासीयों की अपेक्षा बढ गई थी. सावली नपं में कांग्रेस की सत्ता थी. तो राकां विपक्ष बन गया है. परंतु पिछले 5 वर्ष कांग्रेस व राकां में विरोधी राजनिति के चलते आज तक सावली विकास से कोसो दुर है. 

केवल कांक्रिट सडक ही विकास नही 

शहरवासीयों को अबतक बुनियादी सुविधाओं से वंचित रहना पड रहा है. नगरपंचायत ने कांक्रिट रोड का निर्माण किया. परंतु सडकों का निर्माण करना विकास नही होने की चर्चा तहसीलवासीयों में चल रहा है.