Tiger made cow morsel

  • चिमूर तहसील के मोटेगांव की घटना

शंकरपुर. चिमूर तहसील के नेरी समीप स्थित मोटेगांव निवासी दिलीप नारायण सुकारे के गौशाला में बांधी बकरियों के रेवाड पर बाघ ने हमला कर 4 बकरी और 2 बकरों को मार दिया। बाघ के हमले में 6 बकरियों की मृत्यु होने से पशुपालक का हजारों का नुकसान हुआ है।

मोटेगांव परिसर का बडा गांव है जो जंगल से सटा है इसकी वजह से अक्सर हिंसक जानवर गांव तक आ जाते है। इसके पूर्व भी गांव में बाघ ने आकर मवेशियों का शिकार किया था। नागरिकों ने अनेकों बार वनविभाग की सहायता से बाघ को जंगल में खदेड दिया था। गुरुवार की मध्य रात सारे गांव में सन्नाटा छाया था उसी समय बाघ ने  दिलीप सुकारे के घर से सटे गौशाला  में प्रवेश कर 4 बकरी और 2 बकरों को मार गिराया। सभी बकरिया रस्सी से बांधी होने की वजह से बकरिया भाग नहीं सकी इसकी वजह से बाघ ने सभी 6 बकरियों का शिकार किया। सुबह बकरियों को खोलने गये पशुपालक ने देखा तो वनविभाग को सूचना दी। नेरी वनपरिक्षेत्र अधिकारी क्षेत्रसहायक खोब्रागडे और वनरक्षक नागरे ने घटनास्थल पर पंहुचकर पंचनामा किया। सुकारे ने वनविभाग से मुआवजे की मांग की है।