हिमालय की 4220मीटर उंची पर्वत चोटी पर फहराया तिरंगा

  • जिले के एक और युवा का कारनामा
  • आदर्श ने सार्थक किया अपना नाम

गोंडपिपरी. गोंडपिपरी:- यहां के युवक आदर्श साईनाथ माष्टे ने मनाली स्थित 4220 मीटर उंची शिखरगंगा चोटी पर कदम रखकर भारतीय ध्वज फहराकर एक बार फिर चंद्रपुर जिले का नाम रोशन किया है. इस मुहिम में शामिल युवाओं में महाराष्ट्र के दो ही युवा चोटी तक पहुंच पाये. जिसमें आदर्श का भी समावेश है. इससे पूर्व यहां के 10 आदिवासी छात्र-छात्राओं ने माऊंट एवरेस्ट की सबसे उंची चोटी पर पहुंचने का कारनामा कर दिखाया था.

हिमालय प्रदेश की मनाली स्थित ग्रीन वैली एडवेंचर ग्रुपर की ओर से हिमालय पर्वत की धौलाधार पर्वत श्रृंखला की माऊंट पतालसू नामक 4220 मीटर उंची चोटी पर पहुंचने का अभियान लिया गया था.इस अभियान में गोंडपिपरी के युवक आदर्श माष्टे को भी चुना गया था.

साहसिक कामों को अंजाम देने में गहरी रूचि रखनेवाले आदर्श को इसकी प्रेरणा पुलगांव के इंडियन मिलीटरी स्कूल से मिली. वहां के प्रा. प्रवीण शेलके, इंडियन माऊंटेरिंग फाऊंडेशन,दिल्ली के सदस्य है. वें स्वयं साहसिक पर्वतारोहण की इच्छा रखनेवाले युवाओं को प्रेरित करते है. इस मुहिम में राज्य से दो लड़के, दो लडकियां और स्वयं प्रा. शेलके ने भाग लिया. देश भर से इसमें 22 लोग शामिल हुए थे. इसमें 18 लोगों ने हिमालय पर्वत के धौलाधार पर्वत श्रृंखला के माऊंट पतालसू नामक  4220 मीटर उंची पर्वत चोटी पर पहुंचने से पूर्व ही हार मान गए और वापस लौट आये परंतु आदर्श और उसके महाराष्ट्र के अन्य सहयोगियों ने हार नहीं मानी और वें 4220  मीटर उंची पर्वत चोटी पर पहुंचे और वहां तिरंगा फहराकर महाराष्ट्र का नाम रोशन किया. आदर्श के इस कारनामे की सर्वत्र सराहना हो रही है.