आसमान छू रहे है सब्जी भाजी के दाम, दालें भी हुई महंगी

  • सर्वसामान्य के थाली से सब्जी गायब

चंद्रपुर. सर्वसामान्य के थाली में नजर आनेवाली सब्जी भाजी और दाल के कीमतों में बेतहाशा वृध्दि हुई है. वापसी की बारिश से हुए नुकसान के कारण सब्जी मार्केट में सब्जियों के दाम आसमान छू रहे है. कोई भी सब्जी भाजी औसतन 80  से 100 रूपये प्रति किलो एवं तुअर दाल का भाव 125 रूपये तक पहुंच गया है.

लॉकडाऊन के कारण यंत्रणा पूरी तरह से चरमरा गई है. इसके चलते किसानों को सब्जीभाजी बेचते हुए बड़ी अडचनें पेश आयी और उस समय भरपूर रूप से सब्जी भाजी की पैदावार होने के बाद भी लॉकडाऊन के कारण बिक नहीं पायी. ऐसी स्थिति आ गई कि किसानों को सब्जी फेंक देनी पड़ी. इस समय सब्जी भाजी के दाम आसमान छू रहे परंतु खेतों में सब्जी भाजी वापसी की बारिश के कारण सड़ जाने से किसानों को भारी नुकसान उठाना पड़ रहा है.

अब सभी जगह बाजारपेठ शुरू हो गई है. किसानों का माल मंडी में आ रहा है. कम कीमतों में किसानों से सब्जी भाजी लेकर उसे महंगे दामों में बाजार में बेचा जा हा है. बाजार में बढते सब्जीभाजी के दरों ने सामान्य नागरिकों का बजट बिगाड दिया है.पिछले दस दिनों से सब्जी भाजी के दर आकाश को भिड़ने से गरीबों सहित सर्वसामान्य परिवारों के घरों में थाली से सब्जीभाजी कुछ प्रमाण में गायब हो चुकी है. इसी तरह तूअर दाल के भाव भी 125 रूपये प्रति किलो तक पहुंच गए है.

फूलगोबी पिछले महीने में 60 रूपये प्रतिकिलो भाव था. पत्ता कोबी 30 रूपये, बैंगन 40 रूपये, भिंडी 30 रूपये, आलू 30 रूपये, चौलाई की फल्ली 40, तुराई 40, प्याज 40  से 50, मिर्च 40 प्रतिकिलो दर था.अक्टूबर महीने में कुछ सब्जियों के दाम दुगुने हो गए है.परंतु अक्टूबर महीने में सब्जी भाजी के दामों में अचानक हुई वृध्दि से आम जनता के लिए अब भूखों मरने की नौबत नजर आ रही है. कोरोना के कारण लॉकडाऊन और रोजगार एवं व्यापार पूरी तरह से  होने से सब्जी भाजी और दाल के कीमतों की दरें बढने से गृहिणियों का बजट चरमरा गया है. वापसी की बारिश में सब्जी भाजी के दाम कम हो रहे है साथ ही दाल के दाम भी बढने से लोग परेशान है.

सब्जी भाजी      दाम (प्रति किलो)

फुलगोबी – 100 

चौलाई फल्ली – 100,

बैंगन- 60 ते 80 

भिंडी- 80

पत्तागोबी- 80

हरी मिर्च – 60से 80 

मेथी भाजी – 100 

आलू-           40

प्याज –    50 ते 60.