अन्याय के खिलाफ कामगारों का एल्गार, सत्याग्रह आंदोलन प्रारंभ, वेकोलि द्वारा पुलिस के दबाव का आरोप

    चंद्रपुर. राष्ट्रीय कोयला खदान मजदूर संघ की ओर से वेकोलि चंद्रपुर क्षेत्र के भ्रष्टाचार, उद्योग में कार्यरत कामगार एवं उद्योग के विरोध में किए जा रहे गलत कार्यो के विरोध में कामगारों ने क्षेत्रीय मुख्यालय के सामने सोमवार से अन्नत्याग आंदोलन शुरू करने की जानकारी पत्रपरिषद में इंटक के महामंत्री केके सिंह ने दी है. आंदोलन के दौरान वेकोलि प्रशासन ने पुलिस के माध्यम से कामगारों की गिरफ्तारी की धमकी देने से कामगारों में असंतोष फैला है. 25 जुलाई से श्रृंखला अनशन करने की चेतावनी केके सिंह ने दी है.

    पत्रपरिषद में सिंह ने बताया कि वेकोलि चंद्रपुर क्षेत्र में पावर हाउस तथा शासकीय उद्योग को आपूर्ति किए जाने वाले कोयले में मिट्टी तथा खराब कोयले की मिलावट कर लाखों रूपयों का भ्रष्टाचार किया जा रहा है. 

    भ्रष्टाचार कर रहे वेकोलि अधिकारी

    वेकोलि में कम उत्पादन होने के बावजूद अधिक उत्पादन होने की जानकारी देकर स्वयं की पीठ थपथपा रही है. निजी कोयला परवानाधारक ट्रक में लो ग्रेड का कोयला अपलोड कर रहे हैं. निर्धारित समय के बाद भी कोयले का यातायात जारी  है जिससे लाखों रूपयों का भ्रष्टाचार वेकोलि अधिकारी कर रहे हैं.

    इससे वेकोलि के साथ-साथ देश का नुकसान हो रहा है. वेकोलि अधिकारी कामगारों में क्वार्टर वितरण में बदलाव, प्रमोशन में कामगारों पर अन्याय कर रही है, वेकोलि अधिकारी स्वयं के भ्रष्टाचारों पर पर्दा डालने के लिए छोटी-छोटी बातों पर कामगारों को गैरकानूनी तरीके से पत्र दे रही है, काम से कामगारों का निलम्बन करना, प्रमोशन का चान्स होने के बावजूद स्वयं के स्वार्थ के लिए अधिकारी मनमानी रवैया अपना रहे हैं. क्षेत्र में कार्यरत महिलाओं की आवाज को दबाने का प्रयास किए जाने का आरोप सिंह ने लगाया है. 

    25 जुलाई से श्रृंखलाबद्ध अनशन

    इस संदर्भ में कई बार वेकोलि प्रबंधन से शिकायत करने के बावजूद किसी भी प्रकार की दखल नही लिए जाने से कामगारों को न्याय दिलाने हेतु इंटक को आंदोलन शुरू करना पड़ रहा है. आने वाले दिनों में इसकी दखल नहीं लेने पर 25 जुलाई से श्रृंखला अनशन करने की चेतावनी सिंग ने दी है. इस समय इंटक के पदाधिकारी, वेकोलि कामगार उपस्थित थे.