छत्तीसगढ़ बोर्ड ने आंतरिक मूल्यांकन के आधार पर 10वीं के नतीजे घोषित किए

    रायपुर: छत्तीसगढ़ माध्यमिक शिक्षा मंडल ने छात्रों के आंतरिक आकलन के आधार पर बुधवार को 10वीं कक्षा के नतीजों की घोषणा कर दी। कोविड-19 महामारी के कारण छात्रों की अंतिम परीक्षा नहीं हुई थी। अधिकारियों ने कहा कि पास प्रतिशत इस बार 100 प्रतिशत रहा क्योंकि सभी 461093 अर्ह छात्रों को परीक्षा में उत्तीर्ण घोषित किया गया है। एक वरिष्ठ अधिकारी ने कहा कि जो छात्र दिए गए नंबरों से संतुष्ट नहीं हैं उन्हें अगले साल परीक्षा में बैठने की इजाजत दी जाएगी। 

    राज्य के स्कूली शिक्षा मंत्री प्रेमसाइ सिंह टेकम ने वीडियो कॉन्फ्रेंस के जरिये 10वीं कक्षा के नतीजों की घोषणा की।  मंडल के सचिव, वी के गोयल ने कहा, “10वीं कक्षा में कुल 4,67,261 छात्र पंजीकृत थे। इनमें से 6,168 छात्रों के फॉर्म को अर्हता पूरी न करने की वजह से खारिज कर दिया गया था। बचे हुए 461093 योग्य छात्रों को परीक्षा में उत्तीर्ण घोषित किया गया। इनमें से 224112 बालक तथा 231999 बालिकाएं हैं।” कोरोना वायरस महामारी के कारण मंडल द्वारा आयोजित की जाने वाली 10वीं कक्षा की मुख्य परीक्षा को रद्द कर दिया गया था। 

    गोयल ने कहा कि जो छात्र आंतरिक मूल्यांकन में शामिल नहीं हुए थे उन्हें न्यूनतम उत्तीर्ण अंक दिए गए। उन्होंने कहा, “उत्तीर्ण हुए कुल 461093 विद्यार्थियों में से 446393 प्रथम श्रेणी में पास हुए हैं जो कुल नतीजों का 96.81 प्रतिशत है। इसी तरह 9024 छात्र द्वितीय श्रेणी में उत्तीर्ण हुए हैं जबकि 5676 छात्र तृतीय श्रेणी में उत्तीर्ण हुए जो क्रमश: कुल नतीजों का 1.96 प्रतिशत और 1.23 प्रतिशत है।” 

    सचिव की तरफ से बताया गया कि नतीजे क्योंकि आंतरिक मूल्यांक के आधार पर घोषित किये गए हैं इसलिए इस बार कोई मेधा सूची जारी नहीं की गई।(एजेंसी)