24 cases of farmer suicides eligible for help, 6 cases ineligible

दुर्ग. छत्तीसगढ़ (Chhattisgarh) के दुर्ग जिले (Durg District) में फसल खराब (Crop Damage) होने से परेशान एक किसान ने फांसी लगाकर आत्महत्या (Farmer Suicide) कर ली है। दुर्ग जिले के पुलिस अधिकारियों ने सोमवार को बताया कि जिले के उतई थाना क्षेत्र के अंतर्गत मातारोडीह गांव में दुर्गेश कुमार निषाद (35) ने अपने खेत के पेड़ में फांसी लगाकर आत्महत्या कर ली।

पुलिस अधिकारियों ने बताया कि पुलिस को जानकारी मिली है कि निषाद ने अन्य ग्रामीण से चार एकड़ जमीन को लीज पर लिया था। निषाद ने खेत में धान की फसल लगायी थी लेकिन वह किसी बीमारी के कारण पूरी तरह खराब हो गई। उन्होंने बताया कि निषाद शनिवार को अपने खेत की तरफ गया और वापस नहीं लौटा।

दूसरे दिन जब ग्रामीणों ने उसे फांसी पर लटके देखा तब उन्होंने इसकी सूचना पुलिस को दी। पुलिस अधिकारियों ने बताया कि पुलिस ने निषाद से एक पत्र बरामद किया है जिसमें उसने फसल खराब होने के कारण आत्महत्या करने की जानकारी दी है।

पुलिस मामले की जांच कर रही है। इधर राज्य शासन की ओर से गृह मंत्री ताम्रध्वज साहू सोमवार को निषाद के घर पहुंचे तथा उन्होंने उनके परिजनों को चार लाख रूपए की सहायता राशि प्रदान की है।

साहू ने ट्वीट कर बताया कि आज ग्राम मातारोडीह (मचांदूर) जिला दुर्ग में युवा किसान दुर्गेश निषाद के शोक संतप्त परिवारजनों से मुलाकात कर उन्हें शासन की ओर से चार लाख रूपए की सहायता राशि प्रदान की।

उन्होंने एक अन्य ट्वीट में कहा कि जिले के सभी अधिकारियों को निर्देश दिए गए हैं कि खेतों में फैली इस नई बीमारी के बारे में शीघ्र पता लगाएं और शासन स्तर पर इस समस्या का हल निकालें। (एजेंसी)