Naxal
Representative Pic

    रायपुर. छत्तीसगढ़ (Chhatisgarh) के नक्सल प्रभावित कांकेर जिले में सहायक आरक्षक के लापता (assistant constable missing) होने के बाद उसकी खोज शुरू कर दी गई है। पुलिस अधिकारियों के मुताबिक नक्सलियों (Naxalites) ने जवान की हत्या (Murder) कर दिये जाने की जानकारी दी है लेकिन शव बरामद नहीं हुआ है। राज्य के कांकेर जिले के पुलिस अधिकारियों ने बताया कि जिले के कोड़ेकुर्से थाना में पदस्थ सहायक आरक्षक मनोज नेताम 28 अप्रैल से लापता है। पुलिस सहायक आरक्षक की तलाश कर रही है।

    पुलिस अधिकारियों ने बताया कि पुलिस को जानकारी मिली है कि सहायक आरक्षक नेताम 28 अप्रैल को ड्यूटी के बाद कहीं चला गया। बाद में जब खोज शुरू की गई तब 30 अप्रैल को कोडेकुर्से थानाक्षेत्र के भुरके गांव के ग्रामीणों से जानकारी मिली कि उसकी मोटरसाइकिल भुरके और राजनांदगांव जिले के मानपुर थाना क्षेत्र के अंतर्गत रानवाही गांव जाने वाले मार्ग पर खड़ी है।

    उन्होंने बताया कि सहायक आरक्षक के मोटरसाइकिल को बरामद कर लिया गया है तथा उसकी खोज जारी है। इधर बस्तर क्षेत्र के पुलिस महानिरीक्षक सुंदरराज पी ने बताया कि पुलिस को जानकारी मिली है कि नक्सलियों के नाम से एक प्रेस विज्ञप्ति जारी हुई है। जिसमें सहायक आरक्षक नेताम की हत्या कर दिये जाने की बात कही गयी है।

    सुंदरराज ने कहा कि यह पहली बार है जब नक्सलियों ने किसी की हत्या के बाद शव को परिजनों को नहीं सौंपे जाने की बात कही है। अक्सर नक्सली हत्या के बाद शव को सड़क के किनारे यहां जंगल में छोड़ देते हैं। पुलिस अधिकारी ने बताया कि पुलिस इस मामले की छानबीन कर रही है तथा सच सामने का प्रयास किया जा रहा है। सहायक आरक्षक मनोज नेताम की खोज जारी है। (एजेंसी)