Arrest

    कोरबा: कोरबा जिले (Korba District) की पुलिस ने नौकरी का झांसा देकर चार लाख रुपए की ठगी करने के आरोप में एक महिला को गिरफ्तार किया है। पुलिस अधिकारियों ने सोमवार को बताया कि पुलिस ने राज्य शासन के महिला एवं बाल विकास विभाग तथा राजस्व विभाग में नौकरी लगवाने का झांसा देकर चार लाख रुपए की ठगी करने के आरोप में मेवा चोपड़ा को गिरफ्तार कर लिया है। चोपड़ा बलौदा बाजार जिले में महिला एवं बाल विकास विभाग में सुपरवाइजर थी। चोपड़ा के खिलाफ विभिन्न जिलों में लगभग 200 बेरोजगारों से करीब 20 करोड़ रुपये ठगी करने का आरोप है।

    पुलिस अधिकारियों ने बताया कि जिले के बालको थाना क्षेत्र के अंतर्गत भदरापारा निवासी दिग्विजय कुमार रात्रे और उसकी पत्नी निर्मला रात्रे की शिकायत पर चोपड़ा को गिरफ्तार किया गया है। रात्रे दंपति ने पुलिस को बताया कि निर्मला रात्रे की जान-पहचान पूर्व में मेवा चोपड़ा से थी। सितंबर वर्ष 2017 में मेवा चोपड़ा ने निर्मला रात्रे को आंगनबाड़ी में सुपरवाइजर की सीधी भर्ती होने की जानकारी दी और नौकरी लगाने के लिए तीन लाख रुपए की मांग की।

    पुलिस अधिकारियों ने बताया कि चोपड़ा ने रात्रे दंपति को भरोसे में लिया और तीन लाख रुपए देने के लिए राजी कर लिया। कुछ दिनों बाद चोपड़ा ने रात्रे दंपति को राजस्व विभाग कोरबा में कम्प्यूटर ऑपरेटर के पद पर भर्ती कराने का भी झांसा दिया। चोपड़ा ने इसके एवज में दो लाख रुपए की मांग की। उन्होंने बताया कि चोपड़ा ने रात्रे दंपति की नौकरी लगाने के लिए पांच लाख रुपए में सौदा तय किया और चार लाख रुपए ले लिए। वहीं एक लाख रुपए काम होने के बाद देने के लिए कहा।

    चोपड़ा ने रुपए अपने सहयोगी क्रांति परास्ते के खाते में जमा करवाया था। पुलिस अधिकारियों ने बताया कि जब पैसा खर्च करने के बाद भी रात्रे दंपति की नौकरी नहीं लगी तब उन्होंने चोपड़ा से संपर्क किया लेकिन चोपड़ा ने कोई संतोषजनक जवाब नहीं दिया और तीन वर्ष तक टालमटोल करती रही। बाद में रात्रे दंपति ने चोपड़ा के खिलाफ थाने में शिकायत कर दी।

    उन्होंने बताया कि पुलिस महानिरीक्षक रतनलाल डांगी के निर्देश के बाद बालको थाना में मेवा चोपड़ा और क्रांति परास्ते के खिलाफ मामला दर्ज कर लिया गया। जांच के दौरान जानकारी मिली कि चोपड़ा बलौदाबाजार जिले में बेरोजगारों से ठगी करने के मामले में केंद्रीय जेल रायपुर में बंद है।

    पुलिस अधिकारियों ने बताया कि स्थानीय अदालत से अनुमति के बाद चोपड़ा को कोरबा लाया गया और उसके खिलाफ कार्रवाई की गई। इस मामले के अन्य आरोपी की तलाश जारी है। उन्होंने बताया कि पुलिस को जानकारी मिली है कि आरोपी चोपड़ा ने बलौदा बाजार जिले में चार लोगों से 50 लाख रुपए से अधिक की ठगी की है। इसके अलावा उसके खिलाफ विभिन्न जिलों में लगभग 200 बेरोजगारों से करीब 20 करोड़ रुपये ठगी करने का भी आरोप है।