एक बार फिर आई वो तारीख, जिसने रूलाया था करोड़ों दिलों को

    -विनय कुमार

    क्रिकेट संभावनाओं का खेल है, ये तो सभी जानते हैं। लेकिन, रथी-महारथियों से भरी टीम अगर हार जाए तो लाखों करोड़ों क्रिकेट प्रेमियों का दिल टूट जाता है। कई ऐसे लम्हे होते हैं, जो फैंस को इमोशनल कर देते हैं। उन्हीं में से एक है कभी नहीं भूलने वाली तारीख है 10 जुलाई। यह वो तारीख है जिसने करोड़ों भारतीयों का न सिर्फ दिल तोड़ा बल्कि, खून के आंसू भी बहे। 

    मिली जार जार आंसू बहाने वाली हार

    आज से ठीक 2 साल पहले 10 जुलाई 2019 को कप्तान विराट कोहली (Virat Kohli Captain WC 2019) के नेतृत्व में भारतीय क्रिकेट टीम को ‘ICC WORLD CUP 2019’ के सेमीफाइनल मैच में शर्मनाक हार का सामना करना पड़ा था। उस ऐतिहासिक भिडंत में केन विलियमसन (Ken Williamson) की कप्तानी वाली न्यूजीलैंड की टीम ने टीम इंडिया को 18 रनों से हरा दिया था और भारतीय टीम का फाइनल में जाने का सपना टूट गया। यूं तो वो मुकाबला 9 जुलाई को शुरू हुआ था, लेकिन बारिश की वजह से मैच रोका गया था और 10 जुलाई को मैच आगे बढ़ाया गया। जिसमें न्यूजीलैंड ने भारत को पटखनी दे दी और एंग्री यंग मैन कप्तान विराट कोहली कप्तान ठंडे होकर लौट गए। तारीख को खत्म करना पड़ा जहां भारत को हार मिली।

    सिर्फ 24 रन पर गिरे पहले 4 विकेट

    भारत का टॉप बैटिंग ऑर्डर ताश के पत्तों की तरह ढह गया और सेमीफाइनल (India vs New Zealand WC 2019) ने कप्तान विराट कोहली के एक ICC TROPHY जीतने का सपना अधूरा छोड़ गया। मैनचेस्टर के ओल्ड ट्रैफर्ड (WC 2019 Manchester Old Trafford) में 240 रनों के मामूली टारगेट को चेज़ करते हुए भारत के पहले 4 विकेट सिर्फ 24 रन पर गिर गए। विकेटकीपर-बल्लेबाज एमएस धोनी (MS Dhoni) और रवींद्र जडेजा (Ravindra Jadeja) ने भारत की पारी को पटरी पर लाने की कोशिश की और दोनों ने 116 रन जोड़े। धोनी ने रवींद्र जडेजा को खुलकर बल्लेबाजी करने का माैका दिया। जडेजा ने क्रीज़ पर आते ही आग उगलना शुरू किया। जबरदस्त आक्रामक शॉट खेले और अपना अर्धशतक पूरा किया। लेकिन, न्यूजीलैंड के घातक तेज़ गेंदबाज ट्रेंट बोल्ट (Trent Boult) ने जडेजा को अपना शिकार बना लिया और एक बार फिर से मैच को रोमांचक बना दिया। मैच भारत की मुट्ठी से छूटता नजर आया। रवींद्र जडेजा ने 77 रनों की शानदार पारी खेली।

    फिर टूटा करोड़ों चाहनेवालों का दिल

    क्रीज पर धुरंधर एमएस धोनी थे तो एक भरोसा  था कि भारत 14 जुलाई 2019 को लॉर्ड्स के मैदान में होने वाले फाइनल मुकाबले के लिए भारत कामयाब होगा। लेकिन, बदकिस्मती ने पानी फेर दिया। मार्टिन गप्टिल (Martin Guptill) की शानदार थ्रो ने रन लपकने के लिए भागे धोनी को दूसरा मौका नहीं दिया और धोनी कुछ इंच से रन पूरा करने से चूक गए और आउट हो गए। फिर भारत हार गया। धोनी के उस रन-आउट (Dhoni run out WC 2019) के बाद करोड़ों भारतीय प्रशंसकों के दिल टूट गए और एमएस धोनी के दीवाने फूट-फूट कर रो रहे थे। खराब मौसम की वजह से के दो दिनों तक खेला जाने वाला वह नॉकआउट मैच (Knockout Match WC 2019) महेंद्र सिंह धोनी के अंतरराष्ट्रीय करियर का भी अंतिम मैच साबित हुआ।

    वर्ल्ड कप के उस मैच की बात की जाए तो रॉस टेलर (Ross Taylor) और केन विलियमसन (Ken Williamson) ने पहले बल्लेबाजी करने का फैसला किया था। बारिश से खलल पड़ने के बाद भी न्यूजीलैंड ने 8 विकेट खो कर 239 रन बनाए थे। जिसके जवाब में भारत की समूची टीम 49.3 ओवर में 221 रन बनाकर ढेर हो गई। धोनी ने 72 गेंदों का सामना करते हुए 50 रन बनाए थे, जिसकी वजह से उन्हें आलोचनाओं का शिकार भी होना पड़ा था। ‘आईसीसी वर्ल्ड कप 2019’ (ICC WORLD CUP 2019) के फाइनल में इंग्लैंड ने न्यूजीलैंड (England vs New Zealand) को 14 जुलाई, 2019 को लॉर्ड्स क्रिकेट ग्राउंड में हरा दिया और वर्ल्ड चैंपियन बन गया।