india vs england 4th t20 match-ind vs eng 4th t20 match-virat kohli-Eoin Morgan

    – विनय कुमार

    भारत और इंग्लैंड के बीच द्विपक्षीय सीरीज के तहत खेली गई 3 मैचों की वनडे सीरीज का अंतिम मैच कांटे की टक्कर के बाद भारत ने जीत लिया। बीते रविवार को पुणे में हुई इस निर्णायक भिड़ंत में भारत की इस जीत के साथ ही टीम इंडिया ने वनडे सीरीज भी 2-1 से अपने नाम कर लिया। 

    टीम इंडिया ने इंग्लैंड के खिलाफ इस द्विपक्षीय सीरीज में सबसे पहले टेस्ट सीरीज 3-1 से जीता, फिर 5 मैचों की T20 I सीरीज में 3-2 से अपना परचम लहराया और उसके बाद वनडे सीरीज में 2-1 से जीत हासिल कर इंग्लैंड के भारत दौरे में उसका सूपड़ा साफ कर दिया। 

    टीम इंडिया का आखिरी मैच बेहद रोमांचक और दिलचस्प था। सांसें रोक देने वाली स्थितियां बन गई थीं। इंग्लैंड ने 330 रनों के लक्ष्य का पीछा करते हुए अपनी शानदार बल्लेबाजी से भारत को पानी पिला पिला दिया था और जीत के बिल्कुल करीब पहुंच गई थी। भारत के कप्तान विराट कोहली और उनकी टीम के खिलाड़ियों की धड़कनें तेज हो चुकी थीं।

    भारत ने 4 बड़े मजबूत खिलाड़ियों के कैच भी छोड़े। फील्डिंग में भारतीय टीम का प्रदर्शन निराशाजनक था। लेकिन, किस्मत को कुछ और ही मंजूर था। आखिर के 3 ओवर की गेंदबाजी में भारतीय गेंदबाजों ने कमाल दिखाया और इंग्लैंड के जबड़े से जीत छीन ली। लेकिन इस मैच में खेल के दरम्यान कई ऐसी चीजें विराट सेना ने की जिसने भारत की जीत की नींव रखी।

    एक बात बिलकुल साफ है कि अगर टीम इंडिया कसी हुई फील्डिंग की होती तब इंग्लैंड काफी पहले मैच से हाथ धो चुका होता और भारत आसानी से मैच जीत जाता। भारतीय टीम ने इस निर्णायक मैच में 4 कैच और 4 रन आउट के मौके गंवा दिया। खैर, इसके बावजूद जीत हासिल करने में टीम कामयाब रही। आइए एक नजर जीत की उन खास वजहों पर डालते हैं:

    हार्दिक-ऋषभ की बेहतरीन पार्टनरशिप 

    भारतीय टीम के ‘गब्बर’ शिखर धवन (Shikhar Dhawan) और रोहित शर्मा (Rohit Sharma) ने पहले बल्लेबाजी करते हुए शानदार शुरुआत की और पहले विकेट के लिए 103 रन जोड़े। हालांकि भारत ने 4 विकेट सिर्फ 157 रन पर खो दिए और बैकफुट पर चली गई।

    ऐसे वक्त में ऋषभ पंत (Rishabh Pant) और हार्दिक पांड्या (Hardik Pandya) ने बेहतरीन बल्लेबाजी करते हुए अपने-अपने अर्धशतक (Half Century) पूरे किए और पपांचवें विकेट के लिये 99 रनों की अच्छी पार्टनरशिप की। इसी वजह से भारतीय टीम 50 ओवर पूरा नहीं खेल पाने के बावजूद 329 रनों का स्कोर खड़ा करने में सफल रही।

    पहली बार पावरप्ले में झटके विकेट

    वनडे सीरीज (ODI Series India vs England Pune 2021) के पहले 2 मैचों में इंग्लैंड की टीम ने जिस तरह की विस्फोटक बल्लेबाजी की थी, उसके बाद ऐसा लग रहा था कि पुणे के मैदान पर भारत की तरफ से अगर  400 रन का टारगेट भी दिया जाएगा, तो इंग्लैंड के बल्लेबाज ठोक डालेंगे। 

    ऐसे में अंतिम और निर्णायक मैच में भारतीय टीम जब 329 रन के स्कोर पर ऑल आउट हो गई, तो ऐसा महसूस हुआ कि भारत ने 50-60 रन कम बनाए हैं। हालांकि बोलिंग में भुवनेश्वर कुमार (Bhuvaneshwar Kumar) ने बेहतरीन श्रीगणेश किया और अपने पहले 2 ओवर में इंग्लैंड के दोनों खतरनाक सलामी बल्लेबाजों को आउट कर पवेलियन भेज दिया।

    यहां गिराए गए विकेट की संख्या 3 हो सकती थी, लेकिन हार्दिक पांड्या (Hardik Pandya) के हाथों बेन स्टोक्स (Ben Stokes) का कैच छूट गया। बहरहाल, शुरुआती ओवरों में धाकड़ बल्लेबाज़ों के विकेट साफ हो जाने के कारण इंग्लैंड की ताकत काफी हद तक कम हो गई।

    छठे गेंदबाज की एंट्री ने दिया डेथ ओवर्स में फायदा

    कप्तान विराट कोहली (Virat Kohli Captain Indian Cricket Team) ने अंतिम मैच में गेंदबाज कुलदीप यादव (Kuldeep Yadav) की जगह टी नटराजन (T Natrajan) को शामिल किया और इस मैच में हार्दिक पांड्या से भी गेंदबाजी कराई। 

    गौरतलब है कि, ODI Series के दूसरे मैच में जब भारतीय बोलर्स की खूब धुनाई हो रही थी, उस मैच में कप्तान कोहली ने हार्दिक पांड्या का इस्तेमाल नहीं किया था। जिसे लेकर उनकी काफी आलोचनाएं भी हुई थीं। खैर, इस निर्णायक मैच में हार्दिक ने डेथ ओवर्स के 49वें ओवर में सिर्फ 5 रन ही दिए। और क्रुणाल पांड्या की धुनाई होने के कारण उनसे सिर्फ 4 ओवर ही कराये गए थे।

    विराट कोहली का हैरतंगेज कैच

    भारतीय टीम की फील्डिंग इस मैच में बेहद निराशाजनक रही। 4 आसान कैच छूटे। लेकिन, कप्तान विराट कोहली ने एक हैरतंगेज कैच लपका। इस कैच को लपक विराट खुद भी विश्वास नहीं कर पाए कि सचमुच उन्होंने गेंद चीते की फुर्ती से अपने पंजे में ले कैसे लिया। खैर, इस विकेट के पतन ने भारत को टॉनिक का काम किया, क्योंकि, इस वक्त टीम को सबसे ज्यादा जरूरत थी एक विकेट की। 

    गेंदबाज रशीद का कैच 

    धुरंधर कप्तान विराट कोहली ने इंग्लैंड की बल्लेबाजी में 8वें विकेट के लिए इंग्लैंड के धाकड़ ऑल राउंडर सैम करन (Sam Curran) साथ बेहतरीन साझेदारी कर रहे घातक गेंदबाज आदिल राशिद (Adil Rashid) का शानदार कैच धर लिया और भारत की डूबती नैया को नई आस मिली। 

    इसके अलावा टीम इंडिया ने इंग्लैंड के खिलाफ 3 मैचों की ODI सीरीज के इस अंतिम और निर्णायक मैच में छक्का ठोकने के मामले में भी परचम लहराया। जहां इंग्लैंड ने अपनी पारी में 7 छक्के मारे, वहीं, टीम इंडिया के बल्लों से 11 शानदार छक्के निकले। खास बात ये रही कि भले ही इंग्लैंड ने कम छक्के ठोके हों पर उसने भारत को नानी याद ज़रूर दिला थी। आसान जीत नहीं हुई भारत की, बल्कि इंग्लैंड जीत से सिर्फ 7 रन ही दूर रहा। बहरहाल, जो जीता वो सिकंदर।