एलिस्टर कुक ने कोहली को ललकारा, क्या 14 साल बाद विराट जीत पाएंगे भारत के लिए सीरीज

    -विनय कुमार

    भारत और न्यूजीलैंड के बीच इंग्लैंड के साउथैंपटन में ICC वर्ल्ड टेस्ट चैम्पियनशिप (WTC) फाइनल मैच जारी हैं। इस ऐतिहासिक  मैच के बाद, भारतीय क्रिकेट टीम 4 अगस्त से शुरू होने वाली 5 मैचों की टेस्ट सीरीज (India vs England Test Series in England 2021) में इंग्लैंड का सामना करेगी।  इससे पहले आखिरी बार जब टीम इंडिया ने 2018 में इंग्लैंड का दौरा किया था, तो कप्तान विराट कोहली (Virat Kohli Captain Indian Cricket Team) के लिए वह एक यादगार सीरीज थी, क्योंकि उन्होंने उस सीरीज में 593 रन बनाए थे। हालांकि, उस दौरे में भारतीय टीम कड़ी टक्कर में सीरीज हार गई, लेकिन इंग्लैंड को आसानी से जीतने नहीं दिया।

    इंग्लैंड क्रिकेट टीम के पूर्व कप्तान एलिस्टर कुक (Alistair Cook), जो पिछली सीरीज का हिस्सा थे और उन्होंने अपने करियर के आखिरी टेस्ट मैच में शानदार शतक बनाया था, उन्हें लगता है कि यह ताज़ा सीरीज बेहतरीन होगी। कुक का मानना है कि भारतीय टीम को पिछले अनुभव काम आएंगे। लेकिन, उनका ये भी मानना है कि इंग्लैंड को उसकी धरती पर हराना आसान नहीं होगा। भारत की इंग्लैंड के खिलाफ टेस्ट सीरीज में जो जीत हुई थी, वो आज से करीब 14 साल पहले 2007 में मिली थी। उस सीरीज में जहीर खान (Zaheer Khan) ने सीम और स्विंग की स्थिति का पूरी तरह से फायदा उठाया था। एलिस्टर कुक को लगता है कि यह ताज़ा जो टेस्ट सीरीज होने जा रही है, एक कठिन लड़ाई होगी, जिसमें फिलहाल इंग्लैंड उनकी फेवरेट स्थिति में नजर आ रही है।

    गौरतलब है कि, ‘ICC WTC FINAL 2021’ 23 जून को समाप्त होगा, जो संयोग से रिजर्व डे एक है। इसके बाद भारत को लगभग 40 दिन का समय मिलेगा क्योंकि इंग्लैंड के खिलाफ सीरीज का पहला टेस्ट मैच अगस्त में शुरू होगा। इस सीरीज को लेकर कुछ पूर्व खिलाड़ियों ने सवाल उठाए। एलिस्टर कुक (Alistair Cook) का भी मानना है कि यह एक लंबा अंतराल है और क्रिकेटर्स दौरे के अंत तक बायो-बबल के नियमों और क्वारंटीन प्रोटोकॉल्स के कारण थक हो सकते हैं।

    एलिस्टर कुक ने कहा, “भारतीय टीम लंबे समय तक यहां ठहरेगी, इसलिए दौरे के अंत तक मानसिक रूप से वह तैयार ज़रूर होंगे। भारत अच्छी शुरुआत करेगा, लेकिन लगातार 5 मैचों में इंग्लैंड को उसी के होम ग्राउंड में हराना टेढ़ी खीर हो सकती है। इसलिए मुझे लगता है कि अगर इंग्लैंड भारत के साथ जल्दी मैच खेलता, तो इसमें कोई दो राय नहीं थी कि वे सीरीज ज़रूर जीतते।”