Hanuma Vihari

    -विनय कुमार

    टेस्ट क्रिकेट के इतिहास का पहला वर्ल्ड चैंपियनशिप हो रहा है। जिसका फाइनल मैच भारत और न्यूजीलैंड के बीच 18 जून से 22 जून के बीच इंग्लैंड के साउथैम्पटन में खेला जाएगा। इस मुकाबले के फाइनल मैच में हिस्सा लेने भारतीय टीम इंग्लैंड पहुंच चुकी हैं। वहीं, इंग्लैंड में काउंटी क्रिकेट (County Cricket England) खेलकर परिस्थितियों में खेलने के अनुभव के साथ हनुमा विहारी (Hanuma Vihari) ने भी टीम इंडिया को साउथैम्पटन में ज्वाइन कर लिया है। जहां एक तरफ 18 जून से साउथैम्पटन के मैदान पर खेले जाने वाले WTC 2021 के फाइनल मैच को लेकर खेलप्रेमियों में काफी उत्साह देखने को मिल रहा है, वहीं टीम इंडिया के इस बल्लेबाज ने फाइनल मैच से पहले इस बात का खुलासा किया है कि हमें किन बातों का ध्यान रखना होगा।

    गौरतलब है कि आईपीएल (IPL T20 TOURNAMENT) में ‘दिल्ली कैपिटल्स’ (Delhi Capitals) की टीम से खेलने वाले हनुमा विहारी (Hanuma Vihari) को इस साल टीम ने रिलीज कर दिया था, जिसके बाद उन्हें अबकी ताज़ा नीलामी में कोई खरीददार नहीं मिला। हालांकि, काउंटी क्रिकेट (County Cricket England 2021) में उन्हें Warwickshire की टीम में उन्हीं लिया। उसके बाद वो टीम इंडिया में जा मिले।

    काउंटी 2021 में फ्लॉप रहे हनुमा विहारी

    हनुमा विहारी (Hanuma Vihari) ने काउंटी क्रिकेट के अपने डेब्यू मैच में 23 गेंदोंं का सामना किया, बिना खाता खोले स्टुअर्ट ब्रॉड (Stuart Broad) की गेंद पर कैच दे बैठे और पवेलियन लौट गए। दूसरी पारी में वो सिर्फ 8 रन ही बना पाए। एक बात जरूर है कि, काउंटी के दूसरे टेस्ट मैच में हनुमा विहारी ने एसेक्स’ के खिलाफ शानदार बल्लेबाजी करते हुए 32 और 52 रन की पारियां खेली। जबकि तीसरे मैच में विहारी एक बार फिर फिसड्डी साबित हुए। वो 8 और 0 के स्कोर पर आउट होकर वापस लौट गए। 

    शॉट सेलेक्शन का रखना होगा ध्यान

    भारतीय क्रिकेटर हनुमा विहारी (Hanuma Vihari) ने इंग्लैंड की आबो-हवा में ड्यूकबॉल  से खेलने के अपने अनुभव को शेयर करते हुए  बताया कि वो अब यहां कि परिस्थितियों से l वाकिफ हो चुके हैं। उन्होंने टीम इंडिया के बल्लेबाजों को ड्यूक गेंद से ध्यान से खेलने का सुझाव देते हुए कहा कि इंग्लैंड में बल्लेबाजी करते हुए शॉट सिलेक्शन का बहुत ख्याल होगा।

    हनुमा बिहारी (Hanuma Vihari) ने कहा, “जब आप भारत में खेलते हैं तो आपको धीमा सा पुश महसूस होता है, जिससे आप दूर हो सकते हैं और ड्राइव न खेलने वाली गेंद को ऊपर से भी ड्राइव कर सकते हैं। लेकिन इंग्लैंड में ऐसा नहीं है। काउंटी क्रिकेट (County Cricket England) के पहले मैच में अगर मुझे दोबारा मौका मिलता, तो शायद मैं उसे देर से खेलने की कोशिश करता। उस वक्त मुझे (Hanuma Vihari) लगा था कि ड्राइव खेलने के लिए बॉल की लेंथ अच्छी है। लेकिन, आपको यहां पर ज्यादा सावधानी बरतने की जरूरत है। यहां पर खेलते हुए शॉट का ध्यान रखना जरूरी होगा।”

    ड्यूक बॉल से खेलना उतना आसान नहीं

    हनुमा विहारी ने आगे कहा कि इंग्लैंड में ड्यूक बॉल (Duke Ball) से खेलना भी बड़ी चुनौती होगी। खास तौर से तब, जब आसमान में बादल होंगे।

    उन्होंने कहा, “यहां पर बल्लेबाजी करते हुए ड्यूक बॉल का सामना करना भी एक चुनौती होगी जिसके सामने बैटिंग आसान नहीं होगी, खासतौर से तब जब मौसम नमी वाला हो या आकाश में बादल छाए होंगे। अगर ऐसा होता है तो गेंद पूरे दिन स्विंग (wet day Ball swings) करेगी। काउंटी क्रिकेट (County Cricket England) की शुरुआत में मुझे इसी चुनौती का सामना करना पड़ा था। इंग्लैंड का ठंडा मौसम बॉल को बहुत मदद दिलाता है।”