Suryakumar Yadav

    -विनय कुमार

    इंग्लैंड के खिलाफ T20 सीरीज खत्म होने के बाद दोनों देशों के बीच 23 मार्च से 3 मैचों की एकदिवसीय श्रृंखला (India vs England ODI Series 2021) शुरू होगी। इस ODI सीरीज के लिए भारतीय टीम का एलान कर दिया गया है। विस्फोटक युवा बल्लेबाज सूर्यकुमार यादव (Suryakumar Yadav) को इस टीम के Playing-XI में जगह दी गई है। सूर्यकुमार यादव ने इंग्लैंड के खिलाफ जारी T20 सीरीज में ही अपने अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट के करियर का आरंभ किया है। अब T20 के बाद वो वनडे इंटरनेशनल क्रिकेट में डेब्यू करेंगे।

    डोमेस्टिक क्रिकेट में लगातार बेहतरीन प्रदर्शन करने वाले सूर्यकुमार यादव को ज़ाहिर है ODI में अपने डेब्यू का बेसब्री से इंतजार होगा। IPL T20 2020 में UAE में खेली गई आईपीएल में उनका शानदार प्रदर्शन रहा था। जिसके बाद उम्मीद लगाई जा रही थी कि ऑस्ट्रेलिया के दौरे के लिए सूर्यकुमार को जरूर चुना जाएगा, लेकिन ऐसा नहीं हुआ। जिसे लेकर टीम इंडिया के चयनकर्ताओं की खूब फजीहत हुई थी। बहरहाल, उनका इंतजार खत्म हो गया है। कुछ ही दिनों में उनका बल्ला अंतरराष्ट्रीय मैचों में अपनी बेरहमी दिखाएगा। आइए एक नजर उनके क्रिकेटिंग पर डालें।

    क्रिकेट करियर की शुरुआत यहां से हुई

    युवा बल्लेबाज सूर्यकुमार यादव मूल रूप से उत्तर प्रदेश के गाजीपुर से हैं। उनके पिता मुंबई में भाभा परमाणु ऊर्जा परियोजना में बतौर इंजीनियर काम करते हैं। अशोक कुमार ने बेटे की प्रतिभा छोटी उम्र में ही पहचान लिया था।   सूर्यकुमार शुरुआत में अशोक सावलकर की एकेडमी में प्रशिक्षण लेते थे। 12 साल के होने पर उन्होंने टीम इंडिया के पूर्व कप्तान दिलीप वेंगसरकर की ‘एल्फ-वेंगसरकर अकादमी’ में एडमिशन लिया। इस क्लब के लिए खेलते हुए उन्होंने बेहतरीन प्रदर्शन किया। जिसके कारण उन्हें मुंबई टीम के लिए चुना गया था।

    मुंबई रणजी टीम की कप्तानी संभाली

    सूर्यकुमार यादव को पहली बार 2009 की ‘विजय हजारे ट्रॉफी’ (Vijay Hazare Trophy) के लिए मुंबई की सीनियर टीम में चुना गया था। उन्होंने उस सीजन में अपने खेल से काफी प्रभावित किया। उसके बाद उन्हें सीसैयद मुश्ताक अली ट्रॉफी’ (Syed Mushtaq Ali Trophy) के लिए मुंबई टीम में शामिल किया गया। और 2010 में दिल्ली टीम  के खिलाफ ‘रणजी ट्रॉफी’ के फर्स्ट क्लास क्रिकेट मैच में उन्होंने कदम रखा। जिसके बाद सूर्यकुमार मुंबई के सबसे महत्वपूर्ण बल्लेबाज बन गए।

    2011-2012 सीजन में, उन्होंने अंडर-23 टीम (U-23 Cricket Team Suryakumar Yadav) के लिए 1000 से ज्यादा रन बनाए। उसके बार हर मंच पर उनका बल्ला गरजता रहा और इसका असर ये हुआ कि 2014 में सूर्यकुमार यादव (Suryakumar Yadav) को ‘रणजी ट्रॉफी’ के लिए मुंबई टीम की कप्तानी मिली।

    KKR में भी बेहतरीन प्रदर्शन

    डोमेस्टिक क्रिकेट में बेहतरीन प्रदर्शन की वजह से 2012 के आईपीएल के 2012 सीज़न में  (IPL T20 2012) ‘मुंबई इंडियंस’ (Mumbai Indians) ने अपनी टीम में मौका दिया। हालांकि, उस वक्त ‘मुंबई इंडियंस’ में मास्टर ब्लास्टर सचिन तेंडुलकर (Sachin Tendulkar), रोहित शर्मा (Rohit Sharma) और अंबाती रायुडू (Ambati Rayudu) जैसे धाकड़ बल्लेबाज़ टीम में थे, और इस सीजन में उन्हें सिर्फ एक मैच खेलने का मौका मिला। लेकिन उस मैच में भी उनकी बल्लेबाजी नहीं आई।

    इसके बाद ‘कोलकाता नाइट राइडर्स’ (Kolkata Knight Riders) से जुड़े और वहां से उनका नाम बढ़ता गया। साल 2014 में सूर्यकुमार यादव KKR में शामिल हुए थे। पहले सीज़न में ज्यादा मौका नहीं मिला खेलने का। लेकिन, अगले सीजन यानी IPL 2015 में उन्होंने अपनी पूर्व टीम ‘मुंबई इंडियंस’ (Mumbai Indians) के खिलाफ 20 गेंदों पर शानदार 46 रन बनाए थे और KKR को जीत दिलाई थी। ‘कोलकाता नाइट राइडर्स’ के लिए छठे-सातवें नंबर पर बल्लेबाजी करते हुए सूर्यकुमार ने लगातार मैचों में 20-30 रन बनाए और कई मैच भी जीते। KKR टीम के मैनेजमेंट ने उन्हें IPL 2016 और 2017 में टीम की उप-कप्तानी भी दी थी।

    सूर्यकुमार बोले तो जीत की गारंटी

    2018 में किस्मत ने छप्पर फाड़ कर सूर्यकुमार यादव पर धन बरसाया। आईपीएल सीजन 2018 (IPL T20 2018) में वो करोड़पति बन गए। ‘मुंबई इंडियंस’ (Mumbai Indians), ‘कोलकाता नाइट राइडर्स’ (Kolkata Knight Riders) और ‘दिल्ली कैपिटल्स’ (Delhi Capitals)

    उन्हें अपनी टीम में लेने के लिए बोली लगाने लगे। लेकिन, ‘मुंबई इंडियंस’ ने उन्हें 3.20 करोड़ रुपए में खरीद लिया। KKR में मैच विनर की भूमिका निभाने वाले सूर्यकुमार यादव को ‘मुंबई इंडियंस’ ने भी अहमियत देनी शुरू की। और सूर्यकुमार भी टीम मैनेजमेंट की उम्मीदों पर खरा उतरे।

    उस सीजन में उन्होंने बेहतरीन 512 रन बनाए। सूर्यकुमार उस सीजन में ‘मुंबई इंडियंस’ के सबसे ज्यादा रन बनाने वाले खिलाड़ी बने। उसके बाद के सीज़न, यानी IPL T20 2019 में भी उन्होंने अच्छा प्रदर्शन किया और 424 रन बनाकर अपनी टीम को एक बार फिर चैंपियन बनाने में अहम योगदान दिया।

    UAE में बल्लेबाजी की कमाल संभाली

    IPL T20 2020 यानी पिछले साल सूर्यकुमार यादव (Suryakumar Yadav) ने UAE में जब टीम के कप्तान रोहित शर्मा (Rohit Sharma Captain Mumbai Indians) चोटिल थे, सूर्यकुमार ने क्विंटन डी कॉक (Quinton de Kock) और इशान किशन (Ishan Kishan) के साथ मिलकर टीम की कमान संभाली थी। और इसी दरम्यान, ऑस्ट्रेलिया दौरे के लिए टीम का चयन किया जा रहा था। सभी को उम्मीद थी कि विस्फोटक बल्लेबाज सूर्यकुमार यादव को सिलेक्टर बिल्कुल नहीं भूलेंगे, लेकिन उन्हें इस दौरे के लिए नहीं चुना गया। जिसे लेकर चयनकर्ताओं पर गंभीर सवाल उठे थे।

    बहरहाल, इंग्लैंड के खिलाफ जारी सीरीज में  सूर्यकुमार यादव का इंतजार खत्म हुआ और उन्होंने अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट में कदम रख ही दिया। उन्होंने अपने पहले इंटरनेशनल मैच में इंग्लैंड के खिलाफ शानदार अर्धशतक लगाया और अपना अंतरराष्ट्रीय खाता खोल दिया। ज़ाहिर है, आने वाले मैचों में वो अपना सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन कर टीम इंडिया में अपनी जगह पक्की करने में कोई कसर नहीं छोड़ेंगे।