IND vs AUS: टीम इंडिया का ख़ास मेंबर टीम से बाहर, ग़लत रिपोर्ट ज़िम्मेदार

-विनय कुमार

भारत और ऑस्ट्रेलिया के बीच सीरीज़ (India -Australia Series 2020-21) की शुरुआत कल के वनडे (Ind vs Aus One Day, 2020) मैच से हो रही है। पहला वनडे सिडनी (Sydney) में होगा। सीरीज़ तो शुरू हो रही है, लेकिन टीम इंडिया (Team India) का एक ख़ास मेंबर अब तक ऑस्ट्रेलिया में टीम से जुड़ नहीं जा सका है, जिनका वहां रहना ज़रूरी था। टीम इंडिया के ‘थ्रो डाउन स्पेशलिस्ट’ (Throw-Down Specialist) रघु राघवेंद्र (Raghu Raghvendra) टीम में शामिल नहीं हो सके है। रघु राघवेंद्र टीम को बल्लेबाजी प्रैक्टिस (Net Practice) कराते हैं। असल में बात ये है कि, ऑस्ट्रेलिया दौरे (Australia Tour, 2020-21) पर रघु राघवेंद्र कोरोना के पॉजिटिव टेस्ट रिपोर्ट आने के कारण ऑस्ट्रेलिया देरी से पहुंचे थे। जिसके बाद उन्हें सिडनी में अलग होटल में क्वारंटीन (Quarantine) किया गया।

‘इनसाइड स्पोर्टस’ के मुताबिक ‘थ्रो डाउन स्पेशलिस्ट’ रघु राघवेंद्र को दोबारा कोरोना पॉजिटिव (Team India Corona Positive) पाए  जाने के कारण फिर से क्वारंटीन कर दिया गया था। लेकिन बाद में पता चला कि उनकी कोरोना टेस्ट की दूसरी रिपोर्ट गलत थी। हालांकि ऐसे में नियम से उन्हें टीम इंडिया से जुड़ जाना  था, लेकिन उन्हें अभी भी क्वारंटीन पीरियड में ही रखा गया है।

ऑस्ट्रेलिया के एक अख़बार ‘द सिडनी मॉर्निंग हेराल्ड’ (The Sydney Morning Herald) और ‘द एज’ (The Age) ने इस बारे में टीम इंडिया के मैनेजर मॉलिन पारिख से पूछा लेकिन उन्हें इस बात की जानकारी दोपहर तक नहीं दी गई थी। दूसरी तरफ़, रघु राघवेंद्र के क़्वारंटीन किये जाने के मामले पर न्यू साउथ वेल्स के हेल्थ डिपार्टमेंट के स्पोक्सपर्सन की तरफ़ से भी कोई प्रतिक्रिया नहीं आई है, कि आख़िर कब तक रघु राघवेंद्र को क्वारंटीन में रखा जाएगा।

ऐसे महत्वपूर्ण दौरे पर टीम इंडिया के ‘थ्रो डाउन स्पेशलिस्ट’ (throw-down specialist) का टीम के साथ नहीं जुड़ने का टीम को नुक्सान भी उठाना पद सकता है। रघु राघवेंद्र नेट प्रैक्टिस के दौरान काफी तेज़ गति से गेंदबाज़ी करते है, करीब 150 किलोमीटर प्रति घंटा की गति से, ताकि भारतीय बल्लेबाज़ों को घातक तेज़ गेंदबाज़ों का सामना करने में कोई दिक्कत का सामना न करना पड़े।  और यही कारण है कि टीम इंडिया के बल्लेबाज़ दुनिया के घातक से घातक खतरनाक तेज़ गेंदबाज़ों को भी अपने बल्ले पर नचा डालते हैं। ज़ाहिर है, राजू राघवेंद्र के नेट प्रैक्टिस के दरम्यान खिलाड़ियों के साथ नहीं होने से असर तो पड़ ही सकता है।  

Raghu Raghvendra
Photo : BCCI

ख़ास बात तो ये है कि, रघु राघवेंद्र 2013 से टीम इंडिया को घातक तेज़ गेंदबाज़ी का सामना करने का गुर सीखा रहे हैं। गौर करने वाली बात ये भी है कि, टीम इंडिया के कप्तान विराट कोहली (Virat Kohli) अपनी कामयाबी का श्रेय रघु राघवेंद्र को भी देते हैं। अब देखना ये है कि, ऑस्ट्रेलिया का हेल्थ डिपार्टमेंट रघु राघवन को टीम इंडिया में शामिल होने की इजाज़त कब देता है।