File Photo
File Photo

    -विनय कुमार

    आईसीसी वर्ल्ड चैंपियनशिप के फाइनल के (ICC World Test Championship Final 2021) में भारत और न्यूजीलैंड के बीच जबरदस्त मुकाबला देखने को मिलेगा। दुनिया भर के करोड़ों क्रिकेटप्रेमियों को इस पल के शुरू होने का इंतजार है। WTC FINAL 18 जून से होने जा रहा है। लेकिन, महाभिड़ंत से पहले अब ‘God of Cricket’ सचिन तेंदुलकर का डर सामने आया है। सचिन को डर है कि कहीं इस ऐतिहासिक मुकाबले में भारत हार ना जाए। वो इसलिए, क्योंकि उनका मानना है कि टीम इंडिया ने इस मैच के लिए वैसी तैयारी नहीं की है।

    WTC FINAL से पहले सचिन का बड़ा सवाल

    मास्टर ब्लास्टर सचिन तेंडुलकर ने WTC फाइनल से पहले एक गंभीर सवाल उठाया है। दरअसल, WTC के फाइनल मुकाबले से पहले न्यूजीलैंड की टीम ने इंग्लैंड के खिलाफ 2 टेस्ट मैचों की सीरीज खेली। जिसमें कीवी टीम ने इंग्लैंड को 1-0 से शिकस्त देते हुए दो दिन पहले सीरीज में जीत दर्ज की। ज़ाहिर है, न्यूजीलैंड को इस सीरीज (New Zealand vs England Test Series 2021) से तैयारी करने का अच्छा माैका मिला और इंग्लैंड की पिच और आबो-हवा को समझने का अच्छा समय भी मिला। सचिन तेंदुलकर का मानना है कि इंग्लैंड और न्यूजीलैंड टेस्ट सीरीज ऐसे समय पर नहीं होनी चाहिए थी। उन्होंने खास तौर पर कहा कि जो सीरीज खेली गई वह WTC FINAL के बाद खेली जानी चाहिए थी।

    महान बल्लेबाज सचिन तेंडुलकर ने कहा कि भारत और न्यूजीलैंड दोनों को WTC के फाइनल मुकाबले की तैयारी के लिए समान मौका मिलना चाहिए था। उनका कहना है कि इंग्लैंड के खिलाफ टेस्ट सीरीज खेलने से कप्तान केन विलियमसन (Ken Williamson) के नेतृत्व वाली न्यूजीलैंड की टीम को फायदा हुआ है।

    न्यूजीलैंड की टीम एडवांटेज में

    सचिन  तेंडुलकर से एक न्यूज़ एजेंसी से अपनी खास बातचीत में कहा, “मुझे नहीं मालूम कि न्यूजीलैंड बनाम इंग्लैंड सीरीज (New Zealand vs England Test Series 2021) कब तय हुई थी। मुझे यकीन है कि यह पहले तय हो गया था। जिस तरह से न्यूजीलैंड (New Zealand Cricket Team) ने फाइनल (WTC FINAL) में अपना स्थान बुक किया था। शायद यह संयोग है। इस सीरीज से न्यूजीलैंड को फाइनल की तैयारी करने का बेहतरीन अवसर मिला। इसलिए, शायद पहले ICC WTC FINAL और फिर यह सीरीज (New Zealand vs England Test Series) खेली जानी चाहिए थी।”

    तेंडुलकर ने आगे कहा, “बेशक, इस नजरिए से इसे देखा जा सकता है। न्यूजीलैंड के पास मामूली बढ़त ज़रूर होगी, क्योंकि उन्होंने इंग्लैंड के खिलाफ 2 टेस्ट मैच खेले हैं। जबकि भारत (Indian Cricket Team Intra Squad Match) ने आपस में खेलने के अलावा कोई और प्रैक्टिस मैच नहीं खेले हैं।”

    विश्व टेस्ट चैंपियनशिप फाइनल सीरीज होनी चाहिए

    सचिन तेंडुलकर (Sachin Tendulkar) ने ‘ICC World Test Championship Final’ को तीन मैचों के मामले के रूप में आयोजित करने पर भी अपना नजरिया रखा। उनका मानना ​​है कि WTC फाइनल के तौर पर सिर्फ एक मैच खेलना (India vs New Zealand WTC Test) अनुचित है, क्योंकि इसमें निरंतरता नहीं है। सचिन का मानना ​​है कि इस फाइनल मुकाबले में पहुंचने के लिए दोनों देशों की टीमों ने एक-एक सीरीज में दो से तीन मैच खेले हैं। इसलिए, WTC फाइनल के लिए भी यही पैटर्न अपनाया जाना चाहिए।

    क्रिकेट के इतिहास में सबसे ज्यादा 200 टेस्ट मैच खेलने वाले ‘क्रिक्रेट के भगवान’ कहे जाने वाले सचिन तेंडुलकर ने कहा, “निरंतरता कहां है ? यह हकीकत में एक ‘वर्ल्ड टेस्ट चैंपियनशिप सीरीज’ (World Test Championship Series) होनी चाहिए, न कि सिर्फ़ एक मैच। क्योंकि, इस मुकाम तक पहुंचने के लिए आपने 2 या 3 टेस्ट मैच या उससे ज्यादा मैचों की टेस्ट सीरीज खेली है। तो, यह केवल ‘वर्ल्ड टेस्ट चैम्पियनशिप फाइनल नहीं, बल्कि, ‘वर्ल्ड चैंपियनशिप फाइनल सीरीज’ (ICC World Test Championship Final’Series)  होनी चाहिए थी। क्योंकि, आपने इस मुकाम तक पहुंचने के लिए कई सीरीज खेली हैं।