IPL नीलामी :  ये है पिछले 12 सीजन के सबसे महंगे खिलाड़ी, एक सीजन में हुए करोड़पति

नई दिल्‍ली: साल 2020 में होने वाले इंडियन प्रीमियर लीग (आईपीएल) की आज नीलामी होने वाली है. हर साल होने वाले इस टूर्नामेंट में कई खिलाड़ियों को अपना खेल दिखाने का मौका मिलता है. हर साल टीम के मालिक

नई दिल्‍ली: साल 2020 में होने वाले इंडियन प्रीमियर लीग (आईपीएल) की आज नीलामी होने वाली है. हर साल होने वाले इस टूर्नामेंट में कई खिलाड़ियों को अपना खेल दिखाने का मौका मिलता है. हर साल टीम के मालिक ज्यादा से जयादा पैसे देकर खिलाड़ियों की बोली लगाते है. लेकिन इन सब में कोई एक खिलाड़ी नंबर मारकर सबसे महंगा बिकने का ख़िताब अपने नाम कर लेता है. आज जानते है ऐसे ही खिलाड़ियों के बारे में जिन्होंने पिछले 12 सीजन में सबसे महंगे खिलाड़ी का ख़िताब अपने नाम किया है.
 
2008 : साल 2008 में आईपीएल की शुरुआत हुई. जिस वक्त पर इस टूर्नामेंट की शुरुआत हुई उस वक्त भारतीय क्रिकेट टीम के तत्‍कालीन कप्‍तान महेंद्र सिंह धोनी बढ़िया फॉर्म में थे. धोनी आईपीएल के पहले सीजन के सबसे महंगे क्रिकेटर थे. उन्‍हें 1.5 मिलियन डॉलर में चेन्‍नई सुपरकिंग्‍स (सीएसके) ने खरीदा था. धोनी के लिए कई खिलाड़ियों के बीच टक्‍कर हुई थी, लेकिन आखिर में सबसे ज्यादा बोली लगाकर चेन्नई ने धोनी को अपने टीम में शामिल का लिया. उस सीजन के बाद से धोनी सीएसके के साथ ही हैं. धोनी की कप्‍तानी में सीएसके ने तीन बार आईपीएल खिताब अपने नाम किया है.
 
2009 : आईपीएल के दूसरे सीजन साल 2009 में  इंग्‍लैंड के केविन पीटरसन, एंड्रयू फ्लिंटॉफ को लेकर टीमों में काफी दिलचस्‍पी दिखी थी. लेकिन दोनों खिलाड़ी कुछ खास कमल नहीं दिखा पाए. एंड्रयू फ्लिंटॉफ को सीएसके ने 1.55 मिलियन डॉलर में खरीदा था. उन्‍होंने केवल 3 मैच खेले थे और फिर घुटने की चोट के चलते वे टूर्नामेंट से बाहर हो गए थे. वहीं केविन पीटरसन को रॉयल चैलेंजर्स बैंगलोर ने 1.55 मिलियन डॉलर में ही खरीदा था. उन्‍होंने 6 मैचों में 93 रन बनाए थे.
 
2010 : आईपीएल के तीसरे सीजन के लिए केवल 11 खिलाड़ियों पर बोली लगी थी. इसमें कोलकाता नाइटराइडर्स ने शेन बॉन्‍ड को  0.75 मिलियन डॉलर में खरीदा गया था. उन्‍होंने 8 मैच खेले और 9 विकेट लिए थे. मुंबई इंडियंस ने कायरन पोलार्ड को  0.75 मिलियन डॉलर में खरीदा गया था. तब से पोलार्ड मुंबई के साथ ही हैं और 4 बार विजेता टीम के सदस्‍य रहे हैं.
 
2011 : साल 2011 का विश्व कप जीतने के बाद आईपीएल के चौथे सीजन के लिए नीलामी हुई. उस वक्त कोलकाता नाइटराइडर्स  ने गौतम गंभीर को 2.4 मिलियन डॉलर में खरीदा गया. गौतम गंभीर ने केकेआर को दो बार टीम को विजेता बनाया. गंभीर ने इस टीम के लिए 3000 से ज्‍यादा रन भी बनाए.
 
2012 : आईपीएल के पांचवे सीजन के नीलामी के दौरान कोच्चि टस्‍कर्स टीम समाप्त की गयी. इस टीम से निकले हुई रविंद्र जडेजा को चेन्‍नई ने  2 मिलियन डॉलर में ख़रीदा था. तब से वह चेन्‍नई टीम में ही है. 
 
2013 : आईपीएल के छठवें सीजन के दौरान ऑस्‍ट्रेलिया के ऑलराउंडर ग्‍लेन मैक्‍सवेल कुछ अच्छे फॉर्म में नहीं थे.उस वक्त मुंबई ने उन्हें एक मिलियन डॉलर में खरीदा था. इस सीजन के बाद मुंबई ने उन्हें रिलीज  कर दिया. आईपीएल का यह सीजन मुंबई ने जीता था. 
 
2014 : आईपीएल के सातवें सीजन में कुछ बदलाव हुए थे. इस सीजन में डॉलर जी जगह रुपयों में बोली लगानी थी. उस वक्त रॉयल चैलेंजर्स बैंगलोर ने युवराज सिंह को 14 करोड़ रुपये में खरीदा था. लेकिन युवराज सिंह कुछ खास कमल नहीं दिखा पाए और आरसीबी ने उन्‍हें रिलीज कर दिया.

2015 : आईपीएल के आठवें सीजन में फिर से युवराज सिंह की बोली लगी। इस बार उन्हें दिल्‍ली डेयरडेविल्‍स ने 16 करोड़ रुपये में खरीदा था. लेकिन युवराज की फॉर्म फिर से नहीं आई. वे 14 मैच में 248 रन बना सके.  
2016 : राजस्थान रॉयल्‍स को दो सीजन के लिए सस्‍पेंड करने के बाद आईपीएल के नौवें सीजन में शेन वॉटसन की नीलामी लगी. इस बार आरसीबी 9 करोड़ रुपयों में शेन वॉटसन को अपने टीम में शामिल किया. शेन वॉटसन ने 16 मैचों में केवल 179 रन बनाए और 20 विकेट झटकाए. 
 
2017 : आईपीएल के दसवें सीजन में राइजिंग पुणे सुपरजाएंट ने इंग्‍लैंड के बेन स्‍टोक्‍स को 14 करोड़ रुपये में खिरदा था. उन्‍होंने 12 मैचों में 316 रन बनाए और 12 विकेट लिए थे. 
2018 : इंग्लैंड के खिलाडी बेन स्‍टोक्‍स अच्छे फॉर्म में चल रहे थे. इसलिए आईपीएल के ग्यारहवें सीजन में  राजस्‍थान रॉयल्‍स ने उन्हें 12 करोड़ रुपये में खरीदकर अपनी टीम में शामिल किया. पुणे के लिए अच्छा खेल खेलने वाले बेन स्टोक्स राजस्थान के लिए कुछ खास नहीं कर पाए.  उन्‍होंने 13 मैचों में 196 रन बनाए और 8 विकेट लिए.
2019 : आईपीएल के बारहवें सीजन में वरुण चक्रवर्ती और जयदेव उनादकट इन खिलाड़ियों की मोटी रकम देकर बोली लगी. राजस्‍थान रॉयल्‍स  जयदेव उनादकट को 8.4 करोड़ रुपये में खरीदा था. लेकिन उन्हें  विकेट लेने में काफी समस्‍या हुई. वही  वरुण चक्रवर्ती को किंग्‍स इलेवन पंजाब ने 8.4 करोड़ रुपये खरीदकर अपने टीम में शामिल किया.लेकिन चक्रवर्ती चोट के चलते बहुत सारे मैच नहीं खेल पाए.