सुनील नारायण में पुरानी धार नहीं, KKR को खलेगी कमी ?

– विनय कुमार

IPL T20, 2020 का 27वां मैच कोलकाता नाइट राइडर्स और रॉयल चैलेंजर्स बेंगलुरू के बीच हुआ। इस मैच में कोलकाता नाइट राइडर्स की 82 रन से करारी हार का सामना करना पड़ा।  टीम के फैन्स को इस मैच में घातक स्पिनर सुनील नारायण की गैरमौजूदगी महसूस हुई, जिन्हें कल प्लेइंग इलेवन से बाहर रखा गया था। सुनील नारायण की गेंदबाजी का एक्शन सवालों के घेरे में आना इसका एक कारण है। इस ताज़ा सीज़न में उन्होंने जितने भी मैच खेले हैं उनमें उनके ऑल राउंडर इमेज को लेकर निराशजनक तस्वीर ही सामने आई है। उनका बल्ले का ज़ोर नजर आया ना ही घातक गेंदबाज़ी का कहर। ऐसे में इंग्लैंड के पूर्व धाकड़ बल्लेबाज और मौजूदा कमेंटेटर केविन पीटरसन ने सुनील नारायण को लेकर एक बयान दिया और कहा कि सुनील नारायण में अब वो बात नहीं, अब वो पहले जैसे गेंदबाज नहीं रहे।

नारायण के टीम में न होने से फर्क नहीं 

केविन पीटरसन ने ‘स्टार स्पोर्ट्स’ से कहा, “अगर मैं ईमानदार हूं, तो मुझे यकीन नहीं लगता कि यह (सुनील नारायण की अनुपस्थिति) एक बड़ा नुकसान है। आंद्रे रसेल वह खिलाड़ी है जिसके बारे में आप टीम की बैठकों में बात करते हैं। जब वह गेंदबाजी करता है, तो आप इसके बारे में सोच रहे होते हैं। जब वह बल्लेबाजी करता है, तो आप इसके बारे में सोच रहे हैं। यह वही है जो जबरदस्त फील्डिंग भी कर रहा है। ‘

सुनील की धार खत्म हुई  

2012 में कोलकाता नाइट राइडर्स (KKR) में शामिल हुए और तब से ही सुनील नारायण टीम का एक अभिन्न हिस्सा रहे हैं। केविन पीटरसन ने कहा कि नारायण का स्किल व्यर्थ है और वह अब वह खिलाड़ी नहीं है जो पहले था। पीटरसन ने कहा, “सुनील नारायण कुछ वर्षों से एक गेंदबाज की तरह नहीं दिख रहे। उनके पास अपना सर्वश्रेष्ठ नहीं है। उनके पास अपना असली स्पिन नहीं है। शारजाह में आकर, सुनील नारायण के बारे में आप वास्तव में चिंतित हैं। वह छोटे मैदान पर रन भी नहीं बना पा रहे हैं। आप उसे छोटी गेंद फेंकते हैं तो वह इसे पसंद नहीं करता है।”

शीर्ष क्रम के लिए अब नहीं 

केविन पीटरसन ने कहा कि, “सुनील नारायण पारी के उपरी क्रम पर बल्लेबाजी करता है। मैं वास्तव में एक बल्लेबाज के रूप में उसे शीर्ष पर नहीं रखता हूं। वह 10 में से 1 मैच में रन बनाता है, और यह टीम और टीम की गतिशीलता के लिए अच्छा नहीं है। स्पिन गेंदबाज के रूप में, उन्होंने 2-3 साल तक ठीक से नहीं खेला है।”

अब कोलकाता नाइट राइडर्स (KKR) सुनील नारायण को लेकर क्या फ़ैसला लेगा, पता नहीं। लेकिन, एक कड़वा सच ये भी है कि क्रिक्रेट अनिश्चितताओं का खेल है। ऐसे में कोलकाता नाइट राइडर्स हो सकता है सुनील नारायण पर भरोसा कायम भी रखे।