टेस्ट मैच में मोहम्मद शमी का फटा जूता भी काम नहीं आया

अंधविश्वास (Blind Faith) से क्रिकेट की दुनिया भी नहीं बची है। कई खिलाड़ी हैं जो अंधविश्वास का पालन अभी भी करते हैं। ‘गॉड ऑफ़ क्रिकेट’  सचिन तेंडुलकर (Sachin Tendulkar) के बाएं पैर पर पहला पैड, महेंद्र सिंह धोनी का लकी नंबर 7, ऐसे कई उदाहरण हैं।

भारत और ऑस्ट्रेलिया के बीच चल रहे पहले टेस्ट मैच (Border-Gavaskar Trophy, First Match, 2020) में बड़ी ही अजीब बात देखने को मिली। टीम इंडिया के घातक तेज़ गेंदबाज मोहम्मद शमी (Mohammed Shami) फटे जूते के साथ खेलते नजर आए। जिसकी फोटो सोशल मीडिया पर वायरल हो गई। ये वाकया एडिलेड (Adelaide) में चल रह भारत और ऑस्ट्रेलिया (India vs Australia) के बीच पिंक बॉल डे-नाइट टेस्ट का है।

एक ट्विटर यूजर ने अपने अकाउंट पर टीम इंडिया के ख़तरनाक तेज़ गेंदबाज मोहम्मद शमी की फोटो पोस्ट की। उस फोटो में शमी के बाएं पैर के जूते में अंगूठे के पास छेद नजर आया। तो पहले तो लोगों लोगों ने सोचा कि फटे जूते पहनने के पीछे मोहम्मद शमी का कुछ अंधविश्वास होगा। लेकिन गेंदबाजी करते  अंगूठा जमीन पर होने के बाद दबाया नहीं जाना चाहिए, इसलिए शमी ने अपना जूते में छेद किया हो।

भारत (India) और ऑस्ट्रेलिया (Australia) के बीच पहला Test Match गुरुवार, 17 दिसंबर से एडिलेड क्रिकेट स्टेडियम में शुरू हो चुका है। पहले बल्लेबाजी करते हुए भारत ने 244 रन बनाए। जवाब में ऑस्ट्रेलिया पहली पारी खेलने उतरी। भारत के घातक गेंदबाजों ने ऑस्ट्रेलिया को 191 के स्कोर पर सभी 10 विकेट चटका दिए। 

लेकिन मोहम्मद शमी को एक भी विकेट हासिल नहीं हुआ। मोहम्मद शमी के नाम मैच का पहला विकेट ऑस्ट्रेलिया की पारी के 18 वें ओवर में ही हो सकता था। ओवर की अंतिम गेंद पर ऑस्ट्रेलिया के बल्लेबाज़ मार्नाश लाबुशाने (Marnus Labuschegne) ने एक शानदार शॉट लगाया। लेकिन बॉर्डर के ठीक करीब फील्डिंग कर रहे जसप्रीत बुमराह (Jaspreet Bumrah) से साधारण कैच छूट गया। लाबुशाने को एक जीवनदान मिला और मोहम्मद शमी के हाथ से अबके सीज़न का पहला टेस्ट विकेट आते-आते रह गया।

– विनय कुमार