pragyan-ojha-slams-eoin-morgan-captaincy-after-kkr-lose-by-6-wickets-vs-csk

IPL T20, 2020 में गुरुवार 29 अक्टूबर को दुबई (UAE) चेन्नई सुपर किंग्स और कोलकाता नाइट राइडर्स के बीच बेहद संवेदनशील भिड़ंत थी।

-विनय कुमार

IPL T20, 2020 में गुरुवार 29 अक्टूबर को दुबई (UAE) चेन्नई सुपर किंग्स और कोलकाता नाइट राइडर्स के बीच बेहद संवेदनशील भिड़ंत थी। हालांकि, चेन्नई सुपर किंग्स ने इस मैच में कोलकाता नाइट राइडर्स को 6 विकेट से हरा दिया, पर धोनी की टीम को इस जीत से अब इस टूर्नामेंट में कोई फायदा नहीं होगा, क्योंकि चेन्नई सुपर किंग्स प्लेऑफ की होड़ से बाजार हो चुकी है, लेकिन, चेन्नई सुपर किंग्स की जीत ने कोलकाता नाइट राइडर्स के प्लेऑफ में जाने का रास्ता बेहद कठिन कर दिया है। 

इंडिया (Team India) के पूर्व स्पिन बोलर प्रज्ञान ओझा ने कोलकाता की करारी हार को लेकर टीम के कप्तान इयोन मोर्गन की कप्तानी की आलोचना की और कहा कि उन्होंने दो बड़ी गलतियां की हैं, जिसके कारण कोलकाता नाइट राइडर्स (KKR) को इस मैच में चेन्नई सुपर किंग्स ने 6 विकेट से हार का मुंह देखना पड़ा। 

प्रज्ञान ओझा ने KKR के कप्तान मॉर्गन की आलोचना करते हुए कहा कि रिंकू सिंह को नंबर 4 पर बल्लेबाजी के लिए भेजना  और नीतीश राणा को 10 वें ओवर में गेंदबाज़ी देना इस हारबकी सबसे बड़ी वजह थी। 

रिंकू सिंह को नंबर 4 पर भेजना गलत क्यों था ?        

KKR की तरफ से रिंकू सिंह 4थे नंबर पर बैटिंग करने उतरे थे। उन्होंने कप्तान इयोन मॉर्गन से पहले बल्लेबाजी की, लेकिन क्रीज़ पर नहीं टिक पाए, 11 गेंदों में 11 रन ही बना पाए।  जबकि नितीश राणा ने KKR की तरफ से दिए गए जीत के लक्ष्य को चेज़ कर रही CSK को अपनी गेंदबाज़ी में एक ओवर में 16 रन दिए, जिससे चेन्नई सुपर किंग्स की चेज़िग में तेज़ी आई।  

प्रज्ञान ओझा ने कहा, “जब आपके पास इयोन मोर्गन, दिनेश कार्तिक और राहुल त्रिपाठी हैं, तो 3 लोग नियमित रूप से आपके लिए खेलते हैं और एक युवा लड़का रिंकू सिंह, जो अपना पहला गेम खेलता है, नंबर 4 पर आता है, उन 11 गेंदों को खेलता है। इन 3 लोगों के बीच 11 गेंदों में आपको कम से कम 15-20 रन अधिक मिलेंगे।”

नीतीश राणा से बोलिंग कराना गलत निर्णय था       

प्रज्ञान ने आगे कहा कि, “मोर्गन की दूसरी गलती नीतीश राणा से बोलिंग करना रही। नीतीश राणा को गेंदबाजी कराने की कोई जरूरत नहीं थी। उन्होंने 1 ओवर में 16 रन दिए। आप पहले से ही 15-20 रन गंवा चुके हैं। आप दाएं हाथ के अंबाती रायडू और ऋतुराज गायकवाड़ के खिलाफ ऑफ स्पिनर राणा को गेंद देते हैं। क्या आपको नहीं लगता कि वे आपको हिट करेंगे?

जब आप टूर्नामेंट के अंत में प्रवेश कर रहे हैं और आप ‘प्लेऑफ’ की कगार पर हैं, तो आप इस बारे में नहीं सोच रहे हैं कि आपको किसके बारे में नहीं सोचना चाहिए, या कौन आपका नंबर 4 होना चाहिए, इन चीजों को हल करना चाहिए। KKR बहुत अच्छी स्थिति में थी, लेकिन उन 2 फैसलों ने खेल को बदल दिया।”

अब KKR के लिए प्लेऑफ बेहद मुश्किल     

गुरूवार की भिड़ंत बड़ा ही रोमांचक और दिलचस्प भी था। चेन्नई सुपर किंग्स ने ऋतुराज गायकवाड़ की शानदार 72 और रविन्द्र जडेजा की शानदार पारी की बदौलत के 173 रनों का पीछा किया। एक पल तो ऐसा भी आया जब ऐसा लगा कि अब मैच KKR की मुट्ठी में है, CSK मुश्किल हालातों में था। जब रविन्द्र जडेजा बैटिंग के लिए आए तब चेन्नई सुपर किंग्स 4 विकेट पर 140 रन पर थी, उन्हें जीत के लिए 17 गेंदों पर 33 रनों की जरूरत थी। इस हालात में सैम करन ने 5वें विकेट के लिए 38 रन की अटूट साझेदारी की। आख़िरी में रविन्द्र जडेजा के विनिंग सिक्स ने KKR को ज़ोर का झटका दे दिया।

प्लेऑफ (playoff) में जगह बनाने के लिए कोलकाता नाइट राइडर्स (KKR) के लिए इस मैच को जीतना जरूरी था। चेन्नई सुपर किंग्स से मिली इस करारी हर के बाद KKR अंक तालिका (Points Table) में 5 वें पायदान पर उतर आई है। ऐसे में अगर KKR को प्लेऑफ में अपनी जगह पक्की करनी है, तो उसे अपने बचे हुए मैच बड़े अंतर से जीतना होगा और प्लेऑफ के लिए क्वालिफाई करने के लिए कुछ और समीकरण पर निर्भर होना पड़ेगा। लेकिन, सूरत- ए- हाल ये कहना गलत नहीं होगा कि अब कोलकाता नाइट राइडर्स (KKR) का प्लेऑफ में जाना मुश्किल ही है।