Prithvi Shaw and Rahul Dravid

    -विनय कुमार

    भारत की अंडर-19 वर्ल्ड कप (U-19 World Cup) विजेता टीम के कप्तान पृथ्वी शॉ (Prithvi Shaw) ने अपने पूर्व कोच राहुल द्रविड़ (Rahul Dravid) की तारीफ की है और कहा है कि डिनर में शामिल होने के बावजूद खिलाड़ी उनसे थोड़ा डरते थे।

    आज के मौजूदा एक में टीम इंडिया में कई ऐसे युवा खिलाड़ी हैं, जिन्होंने राहुल द्रविड़ (Rahul Dravid Coach) से कोचिंग ली हुई है। इनमें से एक हैं टीम इंडिया के सलामी बल्लेबाज पृथ्वी शॉ (Prithvi Shaw Opner), जिन्होंने 2018 के ‘U-19 World Cup’ के दौरान द्रविड़ द्वारा कोचिंग दिए जाने के अनुभव की याद ताजा की। पृथ्वी शाॅ उस टीम के कप्तान थे जिसने ट्रॉफी जीती थी। 21 साल के विस्फोटक बल्लेबाज पृथ्वी शाॅ ने कहा कि, रात के खाने के लिए शामिल होने के बावजूद टीम के खिलाड़ी राहुल द्रविड़ से थोड़ा डरते थे। उन्होंने कहा कि उन्होंने द्रविड़ (Rahul Dravid Coach) ने कभी भी अपने जैसा बनने के लिए मजबूर नहीं किया। जबकि सभी खिलाड़ियों को अपने स्वाभाविक खेल की प्रतिभा का प्रदर्शन का ही सुझाव दिया।

    साथ में खाते लगता था राहुल द्रविड़ से डर

    पृथ्वी शाॅ ने CricBuzz से अपनी खास बातचीत में कहा, “राहुल (Rahul Dravid) सर के साथ आपको अनुशासित रहना होगा। मैदान के बाहर वह हमारे साथ काफी मिलनसार थे। वह रात के खाने के लिए (dinner time with Rahul Dravid) हमारे साथ आते थे, लेकिन हम उनसे डरते थे। उसके जैसे दिग्गज के साथ बैठना एक सपने के सच होने जैसा था। हर युवा खिलाड़ी यही सपना देखता है।”

    Prithvi Shaw ने आगे कहा, “हमने वर्ल्ड कप (U-19 World Cup 2018) से पहले भी सर (राहुल द्रविड़) के साथ दौरा किया था। उन्होंने कभी भी किसी खिलाड़ी को अपने जैसा बनने के लिए मजबूर नहीं किया। उन्होंने बल्लेबाजी (Batting Style) में कुछ भी नहीं बदला। मुझे अपने स्वाभाविक खेल पर बने रहने के लिए कहा। उन्हें मालूम था कि अगर मैं पावर-प्ले (Power-Play) के ओवर खेलता हूं, तो इसके बाद मुझे आउट करना मुश्किल होता है।”

    सभी खिलाड़ियों से करते थे बात

    पृथ्वी शॉ ने आगे कहा, “उन्होंने ज्यादातर मानसिक पहलू (mentally), रणनीति (planning) और खेल को कैसे अपनाया जाए, इस बारे में बात की। वह मीटिंग्स में ज्यादा नहीं बोलते थे। हम चाहते थे कि हम खेल का मजा लें। अगर हम गलतियां दोहरा (mistakes) रहे हैं, तभी वह (Rahul Dravid) आकर आपको इसके बारे में बताएंगे। मुझे विश्वास है कि वो खुद भी U-19 क्रिकेट के चरणों से गुजरे हुए हैं। इसलिए उन्हें मालूम था कि दौरे के दौरान हमसे उन्हें क्या चाहिए। वे टीम के सभी खिलाड़ियों के साथ बात करते थे।”

    गौरतलब है कि, पृथ्वी शॉ (Prithvi Shaw) टीम इंडिया के ऑस्ट्रेलिया के हालिया दौरे (India vs Australia Test Series 2020) में पिछले साल एडिलेड के मैदान में ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ गुलाबी गेंद के टेस्ट (Pink Ball Cricket India vs Australia 2020 Adelaide Test Match) की दोनों पारियों में खेल नहीं पाए थे। उनके निराशाजनक प्रदर्शन के कारण आगे के मैचों में उनको मौका नहीं मिला।

    इंग्लैंड क्रिकेट टीम के इस साल के भारत दौरे में खेली गई द्विपक्षीय सीरीज में,  टेस्ट, ODI या T20I टीम में ही उन्हें शामिल नहीं किया गया था। पृथ्वी शॉ ने ‘विजय हजारे ट्रॉफी’ (Vijay Hazare Trophy 2021) में अच्छा शानदार खेल दिखाया। इस टूर्नामेंट में उन्होंने 800 से ज्यादा रन बनाए। और उसके बाद इस साल के ताज़ा ‘IPL 2021’ में भी उनका बल्ला खूब गरजता नजर आया। फिलहाल वो अच्छे फॉर्म में हैं और मौका मिलने पर उनके पास टीम इंडिया टीम में जगह बनाने का एक अच्छा मौका होगा।

    राहुल द्रविड़ होंगे श्रीलंका टूर के कोच

    क्रिकेट की दुनिया में ‘दीवार’ (The Wall Rahul Dravid) कहे जाने वाले महान बल्लेबाज राहुल द्रविड़ (Rahul Dravid) जुलाई में श्रीलंका के दौरे में जा रही टीम इंडिया के कोच होंगे। यह निर्णय इसलिए लिया गए है, क्योंकि भारतीय क्रिक्रेट टीम के रेगुलर कोच रवि शास्त्री (Ravi Shastri) इस दौरान इंग्लैंड में भारतीय टेस्ट टीम के साथ रहेंगे। श्रीलंका के दौरे (India vs Sri Lanka 2021) में भारत और श्रीलंका के बीच 3 एकदिवसीय और 3 T-20I मैचों की सीरीज खेली जाएगी। और इस दौरे के लिए टीम इंडिया का एलान जल्दी ही BCCI करेगा। इससे पहले राहुल द्रविड़ (Rahul Dravid) 2014 के इंग्लैंड दौरे में भारतीय टीम के बल्लेबाजी सलाहकार रहे हैं। उसके बाद INDIA-A और INDIA U-19 टीमों को कोचिंग भी दे रहे हैं। इसके अलावा फिलहाल वे ‘नेशनल क्रिकेट एकेडमी’ अकादमी (NCA) के चीफ़ भी हैं।