KL Rahul and Rishabh

    पुणे. के एल राहुल के पांचवें शतक तथा कप्तान विराट कोहली और ऋषभ पंत के साथ उनकी शतकीय साझेदारियों की मदद से भारत ने इंग्लैंड के खिलाफ दूसरे एकदिवसीय अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट मैच में शुक्रवार को यहां छह विकेट पर 336 रन का दमदार स्कोर बनाया। राहुल ने नौवें ओवर में क्रीज पर कदम रखा तथा 114 गेंदों पर 108 रन की पारी खेली जिसमें सात चौके और दो छक्के शामिल हैं। उन्होंने कोहली (79 गेंदों पर 66) के साथ तीसरे विकेट के लिये 121 रन जोडकर पारी संवारी। पंत ने आखिर में 40 गेंदों पर तीन चौकों और सात छक्कों की मदद से 77 रन बनाये तथा राहुल के साथ चौथे विकेट के लिये 113 रन की साझेदारी की।

    भारत ने आखिरी 10 ओवरों में 126 रन जोड़े जिनमें हार्दिक पंड्या ने भी अहम योगदान दिया। उन्होंने चार छक्कों की मदद से 16 गेंदों पर 35 रन बनाये। इंग्लैंड की तरफ से टॉम करेन ने दो विकेट लिये लेकिन इसके लिये उन्होंने 83 रन लुटाये। रीस टोप्ले ने 50 रन देकर दो जबकि सैम करेन और आदिल राशिद ने एक . एक विकेट लिया।

    इंग्लैंड के कार्यवाहक कप्तान जोस बटलर ने पहले क्षेत्ररक्षण का फैसला किया और उनके गेंदबाजों ने शुरू से ही दबाव बनाने की रणनीति अपनायी। दोनों सलामी बल्लेबाजों शिखर धवन (चार) और रोहित शर्मा (25) के विकेट निकालकर वे इसमें सफल भी रहे लेकिन कोहली और राहुल ने स्ट्राइक रोटेट करके रणनीतिक बल्लेबाजी की और गेंदबाजों को हावी नहीं होने दिया। कोहली जब 35 रन पर थे जब आदिल राशिद की गेंद पर चोटिल इयोन मोर्गन की जगह कप्तानी कर रहे विकेटकीपर बटलर ने उनका कैच छोड़ा।

    भारतीय कप्तान ने इसके बाद वनडे में 62वां अर्धशतक पूरा किया जो उनका इस प्रारूप में लगातार चौथा पचासा है। लेकिन उनका अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट में 71वें शतक का इंतजार खत्म नहीं हुआ। उन्होंने राशिद की गेंद कट करने का प्रयास किया लेकिन वह बल्ले का बाहरी किनारा लेकर बटलर के पास चली गयी जिन्होंने इस बार कोई गलती नहीं की। कोहली पिछली 43 पारियों से अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट में शतक नहीं जड़ पाये हैं। उन्होंने अपनी पारी में तीन चौके और एक छक्का लगाया।

    राहुल ने पिछले मैच में अर्धशतक बनाकर फार्म में वापसी की थी और उन्होंने उसे बरकरार रखा। उन्होंने नपे तुले शॉट लगाये और सहजता से अपनी पारी आगे बढ़ायी। कोहली के आउट होने के बाद पंत के रूप में उन्हें आक्रामक जोड़ीदार मिला जिन्हें चोटिल श्रेयस अय्यर की जगह अंतिम एकादश में जगह मिली थी। पंत दो अवसरों में आउट दिये जाने के बावजूद डीआरएस के सहारे क्रीज पर टिके रहे। पहली बार अंपायर का फैसला पलटने के बाद उन्होंने बेन स्टोक्स पर दो छक्के लगाये और दूसरी बार टॉम करेन पर छक्का और चौका जड़कर केवल 28 गेंदों पर अर्धशतक पूरा किया।

    राहुल इस बीच टॉम करेन के इसी ओवर में चौका और छक्का लगाकर 90 रन के पार पहुंचे। उन्होंने टॉम के छोटे भाई सैम के ओवर में एक रन लेकर अपना 108 गेंदों पर शतक पूरा किया। यह पिछले एक साल से भी अधिक समय में किसी भारतीय का वनडे में पहला शतक है।

    इसके बाद तुरंत बाद हालांकि लंबा शॉट खेलने के प्रयास में वह पवेलियन लौट गये। पंत ने सीमा रेखा पर कैच थमाने से पहले अपने सातवें छक्के से भारत का स्कोर 300 रन के पार पहुंचाया और वनडे में अपना सर्वोच्च स्कोर भी पार किया। हार्दिक पंड्या ने भी इस बीच उनके साथ छक्के जड़ने में अपना योगदान दिया। क्रुणाल पंड्या 12 रन बनाकर नाबाद रहे।