Rohit Sharma's return will increase 'Gabbar' difficulty

टीम इंडिया (Team India) ऑस्ट्रेलिया के दौरे पर है।

-विनय कुमार

टीम इंडिया (Team India) ऑस्ट्रेलिया के दौरे पर है। ऑस्ट्रेलिया और भारत के बीच 3 मैचों की वनडे सीरीज (AUS-IND ODI SERIES, 2020) में ऑस्ट्रेलिया 2-1 से सीरीज जीत गई। ठीक उसके बाद शुरू हुए 3 मैचों की T-20 सीरीज (T-20 AUS-IND SERIES, 2020) में भारत का जलवा रहा। हालांकि, अभी मंगलवार, 8 दिसंबर को सिडनी (Sydney T-20) को आख़िरी मैच होना है, लेकिन शुरू को दोनों मैच भारत ने जीत लिया है और सीरीज में बढ़त बना चुकी है। 

इस दौरान ये भी देखा गया कि टीम इंडिया के शानदार सलामी बल्लेबाज शिखर धवन(Shikhar Dhawan) वनडे सीरीज और T20 के पहले मैच तक कुछ खास अंदाज नहीं दिखा पाए थे। लेकिन T-20 के मुकाबले में उन्होंने बेहतरीन अर्धशतकीय पारी खेली। इस पारी से वो अपने फॉर्म में तो लौटे ही, इस मैच को जीत की मजबूत नींव भी उन्होंने है रखी। शिखर धवन (Shikhar Dhawan) की बेहतरीन पारी की बदौलत भारत (India) को ऑस्ट्रेलिया (Australia) से 194 रनों के बड़े लक्ष्य को हासिल करने में बड़ी मदद मिली। 

भारत ने इस लक्ष्य को सफलतापूर्वक चेज़ किया और हार्दिक पंड्या (Hardik Pandya) की विस्फोटक पारी की बदौलत टीम इंडिया ने T-20 सीरीज (AUS-IND T-20 SERIES, 2020) जीत ली। 

नज़ारे संकेत दे रहे है कि, टीम इंडिया के हिटमैन रोहित शर्मा की गैरमौजूदगी में शिखर धवन (Shikhar Dhawan) के लिए वर्तमान समय आसान जरूर है, लेकिन रोहित की वापसी के बाद शिखर धवन को अपने फार्म को बनाए रखना ज़रूरी होगा। टीम इंडिया के पूर्व खिलाड़ी और इस समय कमेंटेटर आकाश चोपड़ा के मुताबिक़ शिखर धवन जानते हैं कि T-20 की टीम में वो टीम इंडिया के नंबर वन सलामी बल्लेबाज नहीं हैं।

धवन के लिए आने वाला वक्त चुनौती   

आकाश चोपड़ा के मुताबिक़ शिखर धवन (Shikhar Dhawan) ने मैच में शुरुआत फरारी के जैसे नहीं की थी, शुरुआत थोड़ी सी धीमी थी, लेकिन अच्छे आत्मविश्वास के साथ आए। पिछले 12 महीने पर नज़र डालें, तो से 6 महीने भले क्रिकेट नहीं खेली गई। उससे पहले भी शिखर के T-20 मुकाबलों पर भी ग़ौर करेंगे तो पाएंगे कि अब शिखर थोड़े से और बेबाक और बेफिक्र नज़र आते हैं। 

इससे साफ है कि उनका आत्मविश्वास काफी ऊपर है। IPL T20, 2020 में उन्होंने दो शतक जड़े। T-20 को लेकर उनके जेहन में एक बात जरूर है कि वो नंबर वन ओपनर नहीं है। आकाश चोपड़ा ने कहा कि, जब आपके जेहन में ये बात रहती है तो उतना दबाव आपके ऊपर रहता है कि आप ऐसी स्थिति को कैसे हैंडल करते हैं।

शिखर जानते हैं अपनी ताक़त 

आकाश चोपड़ा (Akash Chopr) ने कहा- “शिखर को यह पता है कि यही मेरे खेलने का तरीका है, और अगर मैं ऐसे खेलूंगा तभी टीम में रहूंगा। वरना, इस टीम की यह बात तो पक्की है कि यही शिखर धवन अगर पुराने वाले शिखर धवन, मान लीजिए तीन साल पुराने वाले हों, तो जैसे ही रोहित (Rohit Sharma) आएंगे तो शिखर धवन (Shikhar Dhawan) को बाहर भेज दिया जाएगा। अभी क्या होगा जब रोहित आएंगे तो शिखर वहीं रहेंगे। लेकिन, के.ए. राहुल (K.L.Rahul) नीचे कर दिए जाएंगे। अभी शिखर उतना काम लगातार करते आ रहे हैं कि उन्हें टीम में खेलना पड़ेगा।”

आसान नहीं आगे का रास्ता  

T-20 के दूसरे मैच में शिखर धवन (Shikhar Dhawan) की पारी के बाद टीम इंडिया के पूर्व घातक तेज़ गेंदबाज और फिलहाल कमेंटेटर आशीष नेहरा ने कहा कि, पहले 50 ओवर के मुकाबले में सेट होकर आउट हो गए, पहले टी-20 में भी रन नहीं बना पाए, लिहाजा इस मैच में रन बनाना उनके लिए जरूरी था। के.एल. राहुल (K.L.Rahul) को पता है कि वह टेस्ट टीम (Indian Test Team) में हैं, उम्र का भी काफ़ी फ़र्क पड़ता है।

के.एल (K.L.Rahul) शिखर (Shikhar Dhawan) से काफ़ी छोटे हैं। जब आपको पता है कि, आपका करियर यहां खड़ा है, तो आप थोड़ा समय लेकर रन बनाएं, तो यह वनडे (ODI) में हो सकता है, लेकिन T-20 में नहीं हो सकता। आज जिस तरह से शिखर धवन (Shikhar Dhawan) खेले उससे वह काफी खुश होंगे। लेकिन, वह अपने आप से खुश नहीं होंगे, क्योंकि वह गलत समय पर आउट हो गए क्योंकि वह इस स्कोर को 70-80 तक पहुंचा सकते थे।

ज़ाहिर है, ऐसे पारखी समीक्षकों की राय ग़लत नहीं हो सकती। ऐसे में शिखर धवन (Shikhar Dhawan) ज़रूर इस मोर्चे पर ग़ौर करेंगे।