sachin tendulakar

– विनय कुमार

भारत और ऑस्ट्रेलिया के बीच 4 मैचों की टेस्ट सीरीज का पहला मैच 17 दिसंबर को होने जा रहा है। ‘बॉर्डर-गावस्कर ट्रॉफी’ (Border-Gavaskar Trophy, 2020-21) की इस सीरीज के पहले मैच के बाद टीम इंडिया के कप्तान विराट कोहली भारत लौट जाएंगे। ऐसे में दोनों टीमों के बीच इतिहास में खेले गए मैच की बात करना भी जरूरी है।

भारत और ऑस्ट्रेलिया के बीच 2003-04 में बॉर्डर-गावस्कर ट्रॉफी में सचिन तेंडुलकर ने अपने करियर का तीसरा दोहरा शतक (Double Century) लगाया था। ये सचिन के करियर के बेहतरीन पारियों में शुमार है। सिडनी (Sydney) के मैदान पर सचिन तेंदुलकर (Sachin Tendulkar) ने नाबाद 241 रनों की शानदार पारी खेली थी और इस ज़बरदस्त पारी की बदौलत भारत इस सीरीज (Border-Gavaskar Trophy, 2003-2004) को 1-1 से ड्रॉ कराने में कामयाब रहा और हार से बच गया।

ये वो दौर था जब सचिन तेंडुलकर (Sachin Tendulkar)  खराब फॉर्म से जूझ रहे थे। लेकिन, किस्मत ने उनका साथ दिया और दौरे के मुकाबले को उन्होंने यादगार बना दिया। सचिन ने  नाबाद 241 रन बनाकर अपने आलोचकों को चुप करा दिया था, जो उनके खराब फॉर्म को लेकर उनकी खूब आलोचना कर रहे थे। इस शानदार पारी से पहले खेले 4 पारियों में सचिन सिर्फ 38 रन ही बना पाए थे। और, उन 4 पारियों में 2 बार खाता भी नहीं खोल पाए थे। एक पारी में तो 1 रन पर ही आउट हो गए थे।

241 रनों की नाबाद पारी को लेकर सचिन तेंडुलकर यूं तो कई बार कह चुके हैं कि उन्होंने ऑस्ट्रेलिया (Australia) के खिलाफ उस मैच को एक चैलेंज के तौर पर लिया था और बेहतरीन तरीके से फॉर्म में लौटे। उस बेहतरीन पारी को लेकर सचिन तेंडुलकर ने एक राज़ खोला है। सचिन तेंडुलकर ने बताया है कि कैसे वो इस पारी के दरम्यान 5 दिनों तक एक ही गाना सुन रहे थे। जिसने उन्हें ध्यान लगाने में मदद की और खराब फॉर्म से भी बाहर निकाला।

तेंडुलकर ने कहा- “सिडनी टेस्ट के दौरान जब मैंने 241 रनों की पारी खेली थी, तो उस दौरान मैं 5 दिन तक एक ही गाना सुनता रहा था और वो था ब्रायन एडम्स का समर ऑफ 69। मैंने इस गाने को लूप में लगा रखा था। फिर चाहे हम मैदान पर अभ्यास के लिये जा रहे हों, ड्रेसिंग रूम में बैठे हों, बल्लेबाजी के लिये जा रहे हों, लंच टाइम, टी टाइम, दिन का खेल खत्म होने का बाद का वक्त या फिर वापस होटल जाने के समय, मैंने 5 दिन तक लगातार यही गाना सुना।”

सचिन ने कहा कि, ऐसी कुछ बातें हैं जो कि करियर में बहुत कम बार ही होती हैं। उन्होंने बताया कि इस पारी से एक साल पहले भी उन्होंने कुछ ऐसा ही किया था। जब 2003 ke वर्ल्ड कप (World Cup 2003) के दौरान वह 673 रन बनाकर विश्व कप के एक सीज़न में सबसे ज्यादा रन बनाने वाले बल्लेबाज हुए। ये कीर्तिमान आज तक उनके नाम है।

सचिन तेंडुलकर ने कहा- “मुझे याद है कि 2003 में दक्षिण अफ्रीका (South Africa) में आयोजित वर्ल्ड कप के मैंने लकी अली का एलबम ‘सुर’ सुना था, जो मुझे काफी पसंद आया था।और वर्ल्ड कप में जैसे-जैसे समय बीता मैं इसी को सुनता रहा।”