Sunil Gavaskar and Team India

-विनय कुमार

टीम इंडिया के पूर्व कप्तान और महान बल्लेबाज ‘लिटिल मास्टर’ (Little Master) सुनील गावस्कर (Sunil Gavaskar) ने कहा कि शनिवार को ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ ‘पिंक-बॉल टेस्ट मैच’ (pink ball Test Match India-Australia Series) के तीसरे दिन शर्मनाक हार के लिए भारतीय बल्लेबाजों पर दोष मढ़ना अनुचित है। क्रिकेट के इतिहास में टेस्ट मैच के किसी एक पारी में सबसे कम स्कोर पर हारने का शर्मनाक रिकॉर्ड भारत के नाम हो गया। भारत और ऑस्ट्रेलिया के बीच 4 मैचों की टेस्ट सीरीज (Border-Gavaskar Trophy Test Series AUS-IND, 2020-2021) के पहले मैच की दूसरी पारी में ऑस्ट्रेलिया ने भारत को सिर्फ़ 36 रनों के स्कोर पर आउट कर दिया और मैच पर जीत हासिल कर ली। गौर करनेवाली बात तो ये भी है कि टीम इंडिया का कोई भी बल्लेबाज़ डबल डिजिट में नहीं पहुंच पाया और पवेलियन लौट गया।

सुनील गावस्कर ने ऑस्ट्रेलिया के घातक तेज गेंदबाजों की तारीफ करते हुए कहा कि भारत की स्थिति में कोई भी टीम 80-90 के पार नहीं जाती।

भारतीय टीम का नसीब खराब होता चला गया। क्योंकि स्थितियों से पता लगता है कि खिलाड़ी निराशा की स्थिति में चले गए और टेस्ट मैच के टेवेयर दिन खेल शुरू होने के बाद भारतीय टीम के विकेट ताश के पत्तों की तरह ढहते चले गए। और, दूसरी पारी में सारे के सारे खिलाड़ी सिर्फ़ दिन 36 रन पर आउट हो गए।

पहली पारी में बढ़त हासिल करने के बाद टीम इंडिया काफ़ी मजबूत नजर आ रही थी। 53 रन की बढ़त के बाद शनिवार को तस्वीर बिलकुल उल्टी हो गई।

जोश हेजलवुड  (Josh Hazelwood) ने दूसरी पारी में सिर्फ़ 8 रन देकर 5 विकेट झटक लिए। उनके साथी गेंदबाज पैट कमिंस (Pat Cummins) ने 21 रन देकर 4 विकेट चटकाए।

सुनील गावस्कर ने भारत के शर्मनाक प्रदर्शन पर कहा, “मेरा मानना है कि कोई भी टीम जो अपने सबसे कम टेस्ट स्कोर के लिए ऑल-आउट है, जब से उसने क्रिकेट खेलना शुरू किया है, तो यह देखना कभी भी अच्छा नहीं है। लेकिन अगर कोई अन्य टीम उस तरह की गेंदबाजी का सामना कर रही होती तो वे भी ऐसे ही आउट होते। शायद 36 पर नहीं लेकिन 72 या 80-90 के लिए ऑल-आउट हो जाते। जिस तरह से हेजलवुड, कमिंस ने गेंदबाजी की और स्टार्क के पहले 3 ओवर के स्पेल में उन्होंने बहुत कसी हुई गेंदबाज़ी की।

सुनील गावस्कर ने कहा, “इसलिए भारतीय बल्लेबाजों को दोषी ठहराना उचित नहीं है क्योंकि वह ऑस्ट्रेलिया के गेंदबाजों द्वारा शानदार गेंदबाजी का मुक़ाबला कर रहे थे।”