there-will-be-no-pressure-of-captaincy-on-rahane-gavaskar

कोहली एडीलेड में होने वाले पहले टेस्ट के बाद पितृत्व अवकाश पर स्वदेश लौट आयेंगे ।

-विनय कुमार

भारत (India) और ऑस्ट्रेलिया (Australia)  के बीच बहुप्रतिक्षित ‘बॉर्डर-गावस्कर ट्रॉफी’ (Border-Gavaskar Trophy, 2020-2021) टेस्ट सीरीज शुरू होने में बस दो दिन बचे है। गुरुवार, 17 दिसंबर से एडिलेड (Adelaide) के मैदान पर पिंक बॉल (pink ball) से शुरू होने जा रहे 4 मैचों की सीरीज के पहले टेस्ट मैच को लेकर दोनों टीमें कमर कस चुकी हैं। ऐसे में क्रिकेट के महारथी इस मैच को लेकर टीम के प्लेइंग-11 (Playing-XI) कैसा होगा, कायम कौन से खिलाड़ी हो सकते हैं ? इस बात के अनुमान और अपनी राय भी दे रहे हैं।

टीम इंडिया के पूर्व कप्तान और क्रिकेट की दुनिया के ‘लिटल मास्टर’ सुनील गावस्कर (Little Master Sunil Gavaskar) ने विराट कोहली (Virat Kohli) की अनुपस्थिति में टीम की कप्तानी संभालने वाले अजिंक्य रहाणे (Ajinkya Rahane) को लेकर बड़ी ही महत्त्वपूर्ण बात की है। गावस्कर ने ऐसा बयान दिया है, जिसे सुनकर लोग भी सोचने पर मजबूर हो जाएंगे। उन्होंने कहा है कि, जब विराट कोहली पैटरनिटी लीव पर भारत लौटेंगे तब अजिंक्य रहाणे पर कप्तानी का कोई भी दबाव नहीं होगा।

ग़ौरतलब है कि, विराट कोहली (Virat Kohli) नए साल के जनवरी महीने में पिता बनने वाले हैं। इसी वजह से वो पहले टेस्ट में खेलने के बाद स्वदेश लौट जाएंगे ताकि बच्चे के जन्म के समय पत्नी अनुष्का शर्मा (Anushka Sharma) के साथ रह सकें। ऐसे में, बाकी के 3 टेस्ट मैच की कप्तानी भारतीय टीम के उप-कप्तान (Vice-Captain) अजिंक्य रहाणे (Ajinkya Rahane) संभालेंगे।

‘Star Sports’ के ख़ास कार्यक्रम ‘Game Plan’ में महान क्रिकेटर सुनील गावस्कर ने कहा, “मेरा मानना है कि रहाणे पर कप्तानी को लेकर किसी भी तरह का दबाव नहीं होगा क्योंकि वो दो बार भारत की कप्तानी कर चुके हैं। दोनों बार टीम को जीत दिलाने में सफल भी रहे हैं। उन्होंने ऑस्ट्रेलिया (Australia) के खिलाफ पहले धर्मशाला (Dharmshala Test March) में और फिर अफगानिस्तान (Afghanistan) के खिलाफ कप्तानी की थी और टीम इंडिया को जीत दिलाई थी।”

सुनील गावस्कर ने साफ कहा कि अजिंक्य रहाणे पर कप्तानी को लेकर कोई दबाव नहीं है, क्योंकि उसे पता है कि 3 मैचों में उसे एगज़िक्यूटिव कप्तान (Executive Captain) की जिम्मेदारी निभानी है। ऐसे में वो कप्तानी को लेकर ज्यादा नहीं सोच रहे होंगे।

एक बात और, जो ग़ौर करने वाली है, वो ये कि टेस्ट मैचों की इस ताज़ा सीरीज में  के अजिंक्य रहाणे के अलावा चेतेश्वर पुजारा (Cheteshwar Pujara) भी ख़ास भूमिका में नजर आएंगे। ऑस्ट्रेलिया के पिछले साल के दौरे में चेतेश्वर पुजारा ने 521 रन बनाए थे और इसके लिए उन्हें ‘मैन ऑफ द सीरीज’ (Man of the Series AUS-IND TEST SERIES 2018-2019) से नवाजा गया था।

चेतेश्वर पुजारा की प्रशंसा में सुनील गावस्कर ने कहा, “पुजारा मानसिक रूप से इतने मजबूत हैं कि उन्हें इस बात का फर्क नहीं पड़ता कि उन्होंने मैदान पर कितने समय से बल्लेबाजी नहीं की है। अगले 20 दिन के खेल में मैं यहीं चाहूंगा कि पुजारा कम-से-कम 15 दिन बल्लेबाजी करें और टीम की जीत में ख़ास भूमिका निभाएं।”